बांग्लादेश में फंसे हैं बिहार के 18 स्टूडेंट्स, Video भेजकर केंद्र सरकार से लगाई मदद की गुहार
Patna News in Hindi

बांग्लादेश में फंसे हैं बिहार के 18 स्टूडेंट्स, Video भेजकर केंद्र सरकार से लगाई मदद की गुहार
बिहार (Bihar) के अलग-अलग जिलों के रहने वाले छात्र- छात्राएं बांग्लादेश में पिछले 2 महीने से फंसे हुए हैं.

औरंगाबाद (Aurangabad) की रहने वाली सोनी कुमारी ने भी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से गुहार लगाई है कि उन्हें स्वदेश लाने की व्यवस्था की जाए.

  • Share this:
समस्तीपुर. कोरोना (Corona) महामारी से भारत सहित दुनिया के लगभग सभी देश संघर्ष कर रहे हैं. इस महामारी से बचाव को लेकर दुनिया के लगभग सभी देशों में लॉकडाउन घोषित है. इस विषम परिस्थिति में दुनिया के अन्य देशों में फंसे भारतीयों को केंद्र सरकार के द्वारा वंदे भारत मिशन के तहत स्वदेश वापस लाया गया. लेकिन केंद्र सरकार के लगातार प्रयास के बावजूद बांग्लादेश (Bangladesh) में मेडिकल की पढ़ाई कर रहे छात्र- छात्राएं (Students) वहां पर फंसे हुए हैं.

जानकारी के मुताबिक, बिहार (Bihar) के अलग-अलग जिलों के रहने वाले छात्र- छात्राएं बांग्लादेश में पिछले 2 महीने से फंसे हुए हैं. बांग्लादेश से मेडिकल के छात्रों ने News18 को अपना वीडियो भेज कर  मदद की गुहार लगाई है. उन छात्रों का कहना है कि उनके द्वारा राज्य सरकार को भी ईमेल किया गया है. लेकिन उस पर अभी तक कोई अमल नहीं हुआ है. बिहार सरकार को ईमेल के माध्यम से गुहार लगाने वाले छात्रों में पटना की प्रिया कुमारी, छपरा की प्रियंका चंदेल, मुंगेर की नीतू कुमारी, चंपारण के शमशी आलम और औरंगाबाद की सोनी कुमारी सहित कुल 18 छात्र-छात्राएं हैं, जो बांग्लादेश में फंसे हुए हैं.

दूसरे चरण में भी कोई पहल नहीं की गई
बांग्लादेश में मेडिकल की बढ़ाई कर रही प्रिया ने बांग्लादेश से वीडियो भेजकर बताया है कि केंद्र सरकार के वंदे भारत मिशन के माध्यम से प्रथम चरण में भारत के अन्य राज्यों के छात्र-छात्राएं वापस स्वदेश लौट गए. लेकिन बिहार के छात्र- छात्राओं के लिए दूसरे चरण में भी कोई पहल नहीं की गई. प्रिया बताती है कि हॉस्टल में बिहार के ही लोग फंसे हुए हैं. उन्होंने राज्य सरकार से गुहार लगाई कि इनकी समस्या पर सरकार ध्यान दें.
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से गुहार लगाई है


वहीं, औरंगाबाद की रहने वाली सोनी कुमारी ने भी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से गुहार लगाई है कि उन्हें स्वदेश लाने की व्यवस्था की जाए. क्योंकि वहां उन्हें काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. यह सिर्फ वहां फंसे बिहार की लड़कियों की बात नहीं है. बिहार के अन्य छात्र भी है जो रहकर मेडिकल की पढ़ाई कर रहे हैं उन्होंने भी वीडियो संदेश के माध्यम से राज्य और केंद्र सरकार से मदद की गुहार लगाई है. बांग्लादेश में फंसे छात्रों में बेगूसराय के चार, पटना, चंपारण के तीन तीन, छपरा ,मुंगेर, गोपालगंज, सीवान, अररिया ,सीतामढ़ी, औरंगाबाद और जमुई के एक-एक छात्र शामिल हैं.

ये भी पढ़ें- 

बंदर भगाने वाला निकला कोरोना पॉजिटिव, रेल भवन के कई अधिकारी क्वारंटाइन

Lockdown के बाद दिल्ली मेट्रो में कैसा होगा सफर, जानिए 10 प्वाइंट्स
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading