लाइव टीवी

Patna: सिपाही को लालच दिया और मीट-चावल खाने के बहाने कोर्ट से फरार हुए दो कुख्यात

Sanjay Kumar | News18 Bihar
Updated: December 18, 2019, 9:38 PM IST
Patna: सिपाही को लालच दिया और मीट-चावल खाने के बहाने कोर्ट से फरार हुए दो कुख्यात
सिपाही को झांसा देकर पटना में दो कुख्यात अपराधी कोर्ट परिसर से भाग निकले.

पटना (Patna) पुलिस की लापरवाही से बुधवार को दो कुख्यात अपराधी (criminals) कोर्ट से फरार हो गए. एक अपराधी 5 करोड़ आभूषण लूट कांड का आरोपी था तो दूसरे को पापिया घोष हत्याकांड के मामले में पेशी के लिए पटना सिविल कोर्ट (Civil Court) ला रही थी पुलिस.

  • Share this:
पटना. बिहार (Bihar) की राजधानी पटना (Patna) की पुलिस की बड़ी लापरवाही बुधवार को एक बार फिर भारी पड़ी. पटना सिविल कोर्ट (Patna Civil Court) के पास से दो कुख्यात फरार हो गए. इन अपराधियों में कुख्यात रवि गुप्ता उर्फ रवि पेशेंट और उसका सहयोगी आशीष राय शामिल है. रवि गुप्ता पटना के राजीव नगर में पंचवटी ज्वेलर्स से पांच करोड़ रुपए के आभूषण लूट कांड का आरोपी रहा है. वहीं, आशीष राय भी कुख्यात अपराधी रहा है. सूत्रों ने बताया कि आशीष राय प्रो. पापिया घोष हत्याकांड का आरोपी है. उसके किलाफ खाजेकलां, कदमकुआं और पाटलिपुत्रा थाने में केस दर्ज है. इस मामले में पटना पुलिस (Patna Police) की लापरवाही यह थी कि इन दोनों कुख्यात अपराधियों को महज एक सिपाही अजय सिंह के भरोसे अदालत भेजा गया था. साजिश के तहत दोनों ने सिपाही को रुपयों का लालच दिया और मीट-चावल खाने के बहाने से फरार हो गए. सिपाही ने दोनों को रोकने की कोशिश की, तो उन्होंने हमला कर दिया और भागने में सफल रहे.

कोर्ट के पास घटना से हड़कंप
पटना सिविल कोर्ट से कैदियों के फरार होने की घटना की खबर मिलते ही पटना पुलिस में खलबली मच गई. घटना के बाद जब टाउन डीएसपी सुरेश कुमार के नेतृत्व में पुलिस टीम मौके पर पहुंची, तो वहां खून के छींटे के अलावा चार से पांच कारतूस भी मिले. फिलहाल सिपाही के बयान पर पीरबहोर थाने में केस दर्ज कराया गया है. पटना पुलिस 100 डायल में सीसीटीवी फुटेज खंगालने में लगी है, ताकि दोनों कुख्यातों के भागने की घटना के बारे में अधिक से अधिक जानकारी हासिल की जा सके. सीसीटीवी में दोनों कुख्यातों के कोर्ट परिसर के पूर्वी दिशा से भागने के सबूत मिले हैं.

हथकड़ी तोड़कर भाग निकले दोनों अपराधी.


दो महीने पहले भी हुई थी घटना
पिछले 23 अक्टूबर को फुलवारीशरीफ जेल से पटना सिविल कोर्ट में पेशी के लिए लाए गए तीन कैदी भी सिपाही के साथ मारपीट कर फरार हो गए थे. सिपाही मोतीचंद चौधरी हाजत से जैसे ही कैदी मो. बादशाह, रोहित कुमार और शहाबुद्दीन को कोर्ट में पेशी पर ले जाने के लिए निकला, तो तीनों ने पेशाब का बहाना बनाया. सिपाही तीनों को सिविल कोर्ट की जगह सिविल सर्जन कार्यालय स्थित शौचालय में ले गया, जहां से वे फरार हो गए. बाद में पता चला कि सिविल सर्जन कार्यालय के पास पहले से ही कुछ बदमाश मौजूद थे, जिन्होंने सिपाही पर हमला कर उसे लहूलुहान कर दिया और साथियों को छुड़ाने में कामयाब हो गए. अगर पटना पुलिस इस घटना से सबक ले लेती, तो बुधवार को फिर ऐसी घटना नहीं होती.

ये भी पढ़ें -CAA और NRC को लेकर गरमाई सियासत, अगले तीन दिन तक बंद रहेगा बिहार

 

वित्त मंत्रियों की बैठक में सुशील मोदी ने दिया 'पर्यावरण बजट' का सुझाव, बकाया राशि की याद भी दिलाई

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 18, 2019, 9:38 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर