लाइव टीवी

छठ की तैयारियों के बीच पटना के 22 घाट खतरनाक घोषित, देखें पूरी लिस्ट

News18 Bihar
Updated: October 30, 2019, 8:25 AM IST
छठ की तैयारियों के बीच पटना के 22 घाट खतरनाक घोषित, देखें पूरी लिस्ट
छठ पर्व को लेकर पटना में 22 घाटों को एहतियातन खतरनाक घोषित करते हुए लोगों को बैरिकेटिंग से आगे नहीं जाने की सलाह दी गई है.

दानापुर से लेकर पटना सिटी तक 90 से अधिक घाटों को छठ व्रतियों के लिए तैयार किया जा रहा है. गंगा तट पर घाट बनाने की तैयारी चल रही है और कुछ जगहों पर व्रतियों की सुविधा के लिए सीढ़ीनुमा घाट भी बनाए गए हैं. नदी में अधिक पानी वाले क्षेत्रों में एहतियातन बैरिकेडिंग की जा रही है.

  • Share this:
पटना. लोक आस्था के महापर्व छठ (Chhath) को लेकर तैयारियां अंतिम चरण में हैं. गुरुवार 31 अक्टूबर को नहाय-खाय के साथ शुरू हो रहे इस पावन पर्व का समापन तीन अक्टूबर को उदीयमान सूर्य को अर्घ्य समर्पित करने के साथ होगा. छठ पर्व को लेकर बिहार (Bihar) के लोगों में गहरी आस्था है, इस कारण नदी किनारे घाटों पर जन सैलाब उमड़ता है. इस दौरान कई बार हादसे भी हो जाते हैं. बीते 27 से 29 सितंबर के बीच हुई भारी बारिश (Heavy Rain) के कारण छठ घाटों को तैयार करने में मुश्किलें आ रही हैं. इस बीच पटना जिला प्रशासन (Patna District Administration) ने राजधानी के 22 छठ घाटों को खतरनाक घेाषित करते हुए उसे लाल कपड़ों से घेर दिया है.

ये हैं 22 खतरनाक घाट 
जिन 22 घाटों को खतरनाक घोषित किया गया है, वो हैं- बुद्ध घाट, अदालत घाट, मिश्री घाट, टीएन बनर्जी घाट, जजेज घाट, कुर्जी पाटलिपुत्र घाट, एलसीटी घाट, बंशी घाट, अंटा घाट, जहाज घाट, सिपाही घाट, बीएन कॉलेज घाट, बांकीपुर घाट, खाजेकलां घाट, पत्थर घाट, अदरक घाट, गरेरिया घाट, पिदमड़िया घाट, नंद गोला घाट, नुरुउद्दीन घाट, बुंदेल टोली घाट और दमराही घाट.

बनाए गए सीढ़ीनुमा घाट

दानापुर से लेकर पटना सिटी तक 90 से अधिक घाटों को छठ व्रतियों के लिए तैयार किया जा रहा है. गंगा तट पर घाट बनाने की तैयारियां चल रही हैं और कुछ जगहों पर छठव्रतियों की सुविधा के लिए सीढ़ीनुमा घाट भी बनाए गए हैं. नदी में अधिक पानी वाले क्षेत्रों में एहतियातन बैरिकेडिंग की जा रही है.

बैरिकैटिंग से आगे न जाएं
हालांकि कुछ घाटों तक पहुंचना अभी भी आसान नहीं है. कई घाटों तक जाने के लिए रास्ते में दलदल की स्थिति बनी हुई है. पटना के नगर आयुक्त अमित कुमार पांडेय ने बताया कि सभी कार्यपालक पदाधिकारियों को तालाबों की साफ-सफाई और बैरिकेडिंग का काम करने के निर्देश दिए गए हैं.
Loading...

आला अधिकारी कर रहे मॉनिटरिंग
बिहार के अन्य जिलों के साथ राजधानी पटना मे भी घाटों पर साज-सज्जा से लेकर सुरक्षा के इंतजाम किए जा रहे है. लोगों को असुविधा नहीं हो और सुरक्षा को लेकर कोई कमी न रह जाए इसको लेकर आला अधिकारी भी लगातार निरीक्षण कार्य कर रहे हैं. पटना प्रमंडल के कमिश्नर संजय अग्रवाल ने बताया कि पटना, रोहतास, बक्सर, भोजपुर, कैमूर और नालंदा जिले में छठ व्रत के मद्देनजर गंगा सहित अन्य नदियों के घाटों पर एनडीआरएफ, एसडीआरफ और स्थानीय गोताखोरों को तैनात किया जाएगा.

31 अक्टूबर को नहाय-खाय के साथ पर्व की शुरुआत
बता दें कि छठ पर्व 31 अक्टूबर को नहाय-खाय से शुरू होगा और एक नवंबर को व्रतियां खरना करेंगी. दो नवंबर को अस्ताचलगामी भगवान भास्कर को अर्घ्यदान और तीन नवंबर को उदीयमान सूर्य को अर्घ्यदान किया जाएगा.

ये भी पढ़ें-

भोजपुर में स्वर्ण व्यवसायी की गोली मार कर हत्या, एक युवक गंभीर रूप से जख्मी

विभूतिपुर में मिट्टी खोदने में गिरे धंसने से 11 जख्मी, एक की हालत गंभीर

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 30, 2019, 8:16 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...