नेपाल की 6 युवतियों से यूपी और बिहार में कराया जाता था अश्लील डांस, पुलिस ने मुक्त कराया

बिहार पुलिस ने 6 नेपाली युवतियों को मुक्त कराया.
बिहार पुलिस ने 6 नेपाली युवतियों को मुक्त कराया.

नेपाल की युवतियों (Nepali Youth Girls) से उत्तर प्रदेश (uttar Pradesh) और बिहार में सांस्कृतिक कार्यक्रम में काम करने का झांसा देकर अश्लील डांस कराने और प्रताड़ित करने का मामला सामने आया है.

  • Share this:
पटना. नेपाल की युवतियों (Nepali Youth Girls) को उत्तर प्रदेश (uttar Pradesh) और बिहार में सांस्कृतिक कार्यक्रम में काम करने का झांसा देकर प्रताड़ित करने का मामला सामने आया है. मिली जानकारी के अनुसार युवतियो को तंग कपड़े में आर्केस्ट्रा पर अश्लील डांस (Vulgar Dance) के लिए मजबूर किया जाता था. विरोध करने पर युवतियों के साथ गाली—गलौच दी जाती थी और बदसलूकी की जाती थी. हालांकि, पुलिस के सहयोग से सभी युवतियो को नालंदा के छबिलापुर से छुड़ा लिया गया है. इन सभी लड़कियों को प्रति महीने सैलरी का झांसा देकर पहले यूपी लाया गया था. उसके बाद बिहार के अरवल और नालंदा के छबिलापुर ले जाया गया.

युवतियों की मानें तो नालंदा में 'मुस्कान आर्केस्ट्रा' में उनसे काम कराया जा रहा था. इससे पहले उन्हें उत्तर प्रदेश ले जाया गया बाद में बिहार लाया गया. युवतियों का कहना है कि एक दंपत्ति के साथ नेपाल से सांस्कृतिक कार्यक्रम करने के नाम पर वे बिहार आईं. इसके बदले में उनसे 25 से 30 हजार महीने तक कमाई का वायदा भी किया गया. लेकिन भारत आने के 1 हफ्ते बाद से ही लड़कियों को समझ में आया कि वो गलत लोगों के चंगुल में फंस गई हैं. उनसे छोटे कपड़ों पर शादी में अश्लील डांस कराया जाता था.

पीड़िताओं ने लगाया ये आरोप



पीड़ित लड़कियों ने बताया कि उन्हें छोटे-छोटे कपड़ों पर शादी में डांस करने के लिए मजबूर किया जाता है. विरोध करने पर उनके साथ गाली-गलौच और बदसलूकी तक की जाती है. नेपाल से आई लड़कियों का यह भी कहना है कि पश्चिम बंगाल की एक महिला उन्हें काम करने के लिए गाइड कर इसी ग्रुप से जुड़ा एक लड़का भागकर रक्सौल पहुंचा, जहां इस पूरे मामले की जानकारी एक नेपाली मूल के दारोगा को दी. दारोगा सूरज थापा ने युवतियों को छुड़वाने में मदद की.
नालं​दा से छुड़वा ली गई लड़कियां

गोरखा सेवा संघ के सूरज थापा ने इस मामले में पहल की और युवतियों को छुड़वाने में पूरी मदद की. सभी लड़कियां नालंदा से आखिरकार छुड़वा ली गई. नालंदा जिले के एसपी नीलेश कुमार के पास जाने के बाद पुलिस से काफी मदद मिली और सभी लड़कियों को छुड़वाया जा सका. हालांकि 'मुस्कान आर्केस्ट्रा' का मालिक अभी तक नही पकड़ा जा सका है.

नेपाली युवतियों मुक्त करवा कर नेपाल ले जाया गया. छुड़ाई गई युवतियों को सोमवार को रक्सौल ले जाया जाएगा. बॉर्डर के उस पार से आये उनके परिजनो को यवतियों को सौप दिया जाएगा.

ये भी पढ़ें: Womens Day 2020: नक्सलियों के गढ़ से निकली 'जलपरी' जिसने बदली गांव की पहचान

'बाबूजी' के अस्पताल में तेजप्रताप यादव का ड्रामा, डॉक्टरों को लगाई लताड़
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज