• Home
  • »
  • News
  • »
  • bihar
  • »
  • बिहार: पटना-कोलकाता समेत ये 7 नए एक्सप्रेस-वे बनाने की तैयारी, सरकार केंद्र को भेजेगी प्रस्ताव

बिहार: पटना-कोलकाता समेत ये 7 नए एक्सप्रेस-वे बनाने की तैयारी, सरकार केंद्र को भेजेगी प्रस्ताव

बिहार सरकार सात नए एक्सप्रेस वे बनाने जा रही है, जिनके प्रस्ताव जल्द केंद्र सरकार को भेजे जा रहे हैं.

बिहार सरकार सात नए एक्सप्रेस वे बनाने जा रही है, जिनके प्रस्ताव जल्द केंद्र सरकार को भेजे जा रहे हैं.

Bihar News: बिहार सरकार ने इंफ्रास्ट्रक्चर में चार चांद लगाने की तैयारी कर ली है. जल्द ही बिहार में एक साथ कई नए फोर लेन एक्सप्रेस वे सड़कों का जाल बिछेगा. इन सभी सड़कों के निर्माण के लिए बिहार सरकार ने प्रस्ताव बना केंद्र सरकार को भेजने की सहमति बना ली है.

  • Share this:

पटना. बिहार को पड़ोसी राज्य से जोड़ने के लिए सरकार ने एक साथ कई नई सड़कों के निर्माण कराने का निर्णय लिया है. पड़ोसी राज्यों के साथ साथ कोलकाता, दिल्ली और नार्थ ईस्ट से अब बिहार को सीधा जोड़ा जाएगा .इसके लिए सरकार ने कई नई सड़क जो 4 लेन एक्सप्रेस वे होंगी. उन्हें बनाने के लिए केंद्र सरकार के पास प्रस्ताव भेजेगी. प्रस्ताव भेजने के लिए सीएम नीतीश कुमार ने इन सभी सड़कों की निर्माण संबंधित समीक्षा बैठक कर अपनी सहमति दे दी है. इनमें कुछ ऐसी सड़कें भी हैं, जिन पर केंद्र सरकार ने पहले ही अपनी सहमति दे दी है और अब उन सड़कों का DPR तैयार किया जा रहा है.

इन सभी सड़कों के निर्माण को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पथ निर्माण विभाग के साथ उच्च स्तरीय समीक्षा बैठक की, जिसके बाद मुख्यमंत्री ने कहा कि सड़क आधारभूत ढांचे के अग्रेत्तर सुदृढ़ीकरण के उद्देश्य से जो परियोजना तैयार की गयी है, वह बेहतर है. उन्होंने कहा कि नए पथों के निर्माण से लोगों को त्वरित गति से आवागमन में और सहुलियत होगी. दिल्ली, कोलकाता, वाराणसी तक सड़क के माध्यम से भी सफर करने में लोगों को सुविधा के साथ-साथ समय की बचत होगी. उन्होंने कहा कि नए पथों के निर्माण के साथ-साथ पुराने पथों को भी मेंटेन रखें. शहरों में सुलभ संपर्कता को बढ़ाने के लिए काम करें.

सड़क निर्माण को लेकर पथ निर्माण विभाग के मंत्री नितिन नवीन ने कहा कि सरकार ने तय किया है कि बिहार में 5 घंटे के अंदर कहीं से भी पटना पहुंचने का लक्ष्य प्राप्त करना है. इसी के तहत इन सभी सड़कों का निर्माण कराया जा रहा है. सरकार सड़कों के मेंटेनेंस के लिए अलग से पॉलिसी बनाकर काम कर रही हैं. इसके साथ ही जमीन अधिग्रहण संबंधित जो समस्याएं हैं उसके समाधान के लिए भी लगातार काम किया जा रहा है. जिन सड़कों पर केंद्र सरकार से सहमति मिलनी बाकी है और केंद्र की सहमति के लिए बिहार सरकार प्रस्ताव भेजने की तैयारी में है.

ये सभी सड़कें भारतमाला फेस टू योजना के तहत बनेंगी

1- पटना से कोलकाता एक्सप्रेस वे जिसकी लंबाई 470 किलोमीटर होगी

2- इंडो नेपाल बॉर्डर रोड- 552 किलोमीटर फोरलेन सड़क निर्माण, जिसमें फिलहाल अभी दो लेन सड़क निर्माण की स्वीकृति मिली है और उसमे काम जारी है.
3- सुल्तानगंज से देवघर तक फोरलेन सड़क का निर्माण , जिसमें अलग से 10 मीटर चौड़ी कांवरिया पथ का भी निर्माण कराया जाएगा. और इस सड़क को देवघर से पारसनाथ को भी जोड़ा जाएगा.

4- नालंदा से जहानाबाद अरवल होते हुए बक्सर तक फोरलेन सड़क का निर्माण.

5- बिदुपुर से पूर्णिया तक फोरलेन ग्रीन फील्ड सड़क का निर्माण.
6- मसरख से मुजफ्फरपुर फोरलेन सड़क का निर्माण जिसे रामायण सर्किट से जोड़ने की योजना है.

7- दिघवारा से रक्सौल फोरलेन एक्सप्रेस वे.

इन सड़कों के निर्माण की सहमति मिल चुकी

1- मोकामा से मुंगेर फोरलेन सड़क.

2- बरौनी से मुजफ्फरपुर फोरलेन सड़क.

3- बक्सर से गाजीपुर फोरलेन एक्सप्रेसवे- जिसे पूर्वांचल एक्सप्रेसवे से जोड़ा जाएगा और बिहार से दिल्ली जाने में लोगो को काफी सहूलियत होगी.
4- बक्सर से वाराणसी फोरलेन सड़क.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन