Home /News /bihar /

70 percent government schools have no play ground in bihar bramk

खेल मैदान के नाम पर 'खेल', बिहार के 70 प्रतिशत स्कूलों में नहीं हैं स्पोर्ट्स ग्राउंड

बिहार के 70 फीसदी सरकारी स्कूलों में खेल मैदान नहीं है, इसका खुलासा एक रिपोर्ट में हुआ है

बिहार के 70 फीसदी सरकारी स्कूलों में खेल मैदान नहीं है, इसका खुलासा एक रिपोर्ट में हुआ है

Bihar School News: यू डायस की रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि बिहार के ज्यादातर जिलों में स्कूलों में खेल की कक्षाएं तक नहीं हो रही हैं क्योंकि वहां खेल के मैदान ही नहीं हैं. रिपोर्ट में सबसे खराब हालत पटना की दिखाई गई है जबकि दूसरे पायदान पर भागलपुर जिला है.

अधिक पढ़ें ...

पटना. कहा जाता है कि बच्चों के समग्र विकास के लिए पढ़ाई के साथ-साथ खेल भी जरूरी है लेकिन बिहार के सरकारी स्कूलों में शायद खेल के साथ ही खेल हो रहा है. तभी तो 54634 स्कूलों में खेल के मैदान तक नहीं हैं. ये खुलासा यू डायस की रिपोर्ट में हुआ है कि ज्यादातर जिलों में स्कूलों में खेल की कक्षाएं तक संचालित नहीं हो रही हैं क्योंकि 70 प्रतिशत स्कूलों में खेल के मैदान ही नहीं हैं. रिपोर्ट के मुताबिक सबसे खराब हालत पटना की है.

यहां 4193 स्कूलों में 2826 के पास खेल के मैदान नहीं हैं, भले ही शिक्षा विभाग के निर्देश के मुताबिक सभी स्कूलों में खेल की कक्षाएं संचालित करना अनिवार्य है लेकिन शिक्षक करें तो क्या करें. मजबूरन खेल की कक्षाएं चाहकर भी संचालित नहीं कर पा रहे हैं और इसकी जानकारी स्कूलों की तरफ से समय-समय पर सरकार को दी भी जाती है. विडम्बना देखिए कि पटना के 19 से अधिक हाई और प्लस 2 स्कूल अब भी किराये के मकान में चलते हैं जहां जगह कम और स्टूडेंट ज्यादकी हालत में बैठने में भी परेशानी होती है.

पटना के बीएन कॉलेजिएट स्कूल की रूटीन में तो अब तक खेल की कक्षाएं जोड़ी भी नहीं गई है जिसकी वजह से यहां के स्टूडेंट खेल से शुरू से वंचित हैं. कई वर्षों से स्कूलों में फिजिकल टीचर की भी बहाली नहीं हुई है जिसके कारण ज्यादातर स्कूलों में खेल के शिक्षक भी नहीं हैं और जहां हैं वहां वो दूसरे विषय की पढ़ाई करवाते हैं, क्योंकि खेल का मैदान नहीं है. पीएम मोदी ने खेलो इंडिया कार्यक्रम के तहत खेल को बढावा देने का प्रयास जरूर किया लेकिन बिहार के स्कूल मानकों पर खरे तक नहीं उतर रहे हैं.

आलम यह है कि 70 प्रतिशत स्कूलों में पीटी की कक्षा नहीं ली जा रही है. रिपोर्ट के मुताबिक पटना में 4193 में 2826 के पास मैदान नहीं है तो भागलपुर में 2262 में से 1606 के पास मैदान नहीं हैं वहीं गया में 3785 स्कूलों में 2355 के पास मैदान नहीं है जबकि गोपालगंज में 2205 में 1432 के पास मैदान नहीं हैं वहीं जहानाबाद में 1028 में 714 के पास मैदान नहीं हैं साथ ही बाकि जिलों का भी कुछ यही हाल है.

समझ सकते हैं कि अभी भी निजी स्कूलों और सरकारी स्कूलों में कितने का फर्क है जहां क्रिकेट, बॉलीवाल से लेकर बैडमिंटन और हॉकी तक सबकुछ ठप्प है और बच्चे आज भी खेल के लिए लालायित हैं तो बिना खेल के सर्वागीण विकास भी सम्भव नहीं दिखता.

Tags: Bihar News, PATNA NEWS, School news

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर