लाइव टीवी

90 दिन में भी 6 किलोमीटर दूर कोर्ट नहीं पहुंच सकी पुलिस, रेप के आरोपी को मिली बेल

News18 Bihar
Updated: October 22, 2019, 2:07 PM IST
90 दिन में भी 6 किलोमीटर दूर कोर्ट नहीं पहुंच सकी पुलिस, रेप के आरोपी को मिली बेल
पटना में हुई रेप की ये घटना चार महीने पुरानी है (प्रतीकात्‍मक फोटो)

पटना में हुई रेप की एक वारदात में 8 जुलाई को राजीव नगर थाना क्षेत्र के बैंक कॉलोनी में एक नाबालिग बच्ची के साथ मोतिहारी के रहनेवाले संतोष शाह ने रेप किया था. पीड़ित परिवार इस घटना के बाद से लगातार न्याय की गुहार लगा रहा था.

  • Share this:
पटना. आमतौर पर पुलिस (Police) का काम किसी पीड़ित परिवार को न्याय दिलाने में मदद करना होता है लेकिन पटना पुलिस (Patna Police) की लापरवाही और शातिराना करतूत ने एक परिवार की जिंदगी को अंधेरे में डूबो दिया है. अपने घर की मासूम लाडली के एक वहशी दरिदें के हाथो अस्मत लुटने के बाद यह परिवार केवल इसी उम्मीदो के सहारे जी रहा था कि कभी न कभी आरोपी को कड़ी सजा दिलवा पाने में वे कामयाब रहेंगे लेकिन ऐन वक्त पर पुलिस विलेन बन जाती है और परिवार की सारी उम्मीदों पर पानी फिर जाता है.

पीड़ित परिवार से लेकर अधिकारी तक को बरगलाता रहा थानेदार

दरअसल पुलिस की करतूत ही ऐसी है जिसे जानकर आप भी हैरान रह जायेंगे. हैरान इसलिये क्योंकि पटना के राजीव नगर थाना की पुलिस ने ना केवल रेप की शिकार नाबालिग बच्ची के परिवार वालों को धोखा दिया बल्कि अपने आलाधिकारियों की आंखो में झूल झोंकने की कोशिश की है. न्यूज 18 पीड़ित परिवार के पक्ष में मामले को लेकर आलाधिाकरियों के पास जब पहुंचा तब एसएसपी के निर्देश पर पूरे मामले की जांच शुरू हो गई है.

तीन महीने पहले हुआ था रेप

मामला तीन महीने पहले का है. दरअसल पिछले 8 जुलाई को पटना में एक नाबालिग के साथ रेप होता है. लेट-लतीफी करते हुए पटना के राजीव नगर थाने के पुलिसकर्मी 4 अक्टूबर को चार्जशीट भी तैयार करते हैं लेकिन थाने से कोर्ट की 6-7 किलोमीटर की दूरी तय करने में 10 दिन लगते हैं और चार्जशीट पहुंचने से पहले कोर्ट से आरोपी को बेल मिल जाता है. वजह ये कि चार्जशीट के लिए तय समय 90 दिन की सीमा पार होने के बाद पुलिस की कागजी कार्रवाई अदालत पहुंचती है.

आरोपी के पक्ष में दिखा थानेदार

हैरत की बात ये कि जब न्यूज 18 की टीम ने राजीव नगर थाना इंचार्ज निशांत कुमार से बात की तो वो कागज पर लिखे मजमून को ही झूठा साबित करने में जुट गए. दरअसल राजीवनगर थाना की पुलिस शुरू से ही रेप के इस मामले में आरोपी संतोष शाह के पक्ष में दिख रही थी. 8 जुलाई को पटना के राजीव नगर थाना क्षेत्र के बैंक कॉलोनी में एक नाबालिग बच्ची के साथ मोतिहारी के रहनेवाले संतोष शाह ने दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया था. घटना के बाद से ही आरोपी को बचाने के लिये सपेदपोशों की जमात जुट गई थी लेकिन परिजनों ने तब न्यूज 18 से गुहार लगाई और हमने सामाजिक सरोकार निभाते हुए ना केवल खबर दिखाई बल्कि आलाधिकारियों तक पूरे मामले को ले जाकर आरोपी को जेल तक भिजवाया.
Loading...

चार्जशीट दाखिल नहीं होने के कारण मिला बेल

पीड़ित परिवार का दावा है कि पिछले तीन महीने की अवधि में वो थानेदार के लगातार संपर्क में रहा और बराबर चार्जशीट की बाबत पूछता रहा लेकिन थानेदार की तरफ से हर बार आश्वासन की झूठी घूंट पिलाना जारी रहा और आखिराकर वही हुआ जिसका डर था. मोतिहारी के रहेनवाले आरोपी संतोष शाह को न्यायालय से बेल मिल गया. पीड़ीत पक्ष के वकील ने बताया कि बेल केवल इसी आधार पर मिला है कि पुलिस ने समय पर चार्जशीट दाखिल नहीं किया था.

न्यूज 18 ने जब इस मामले की जानकारी दी और पीड़ित परिवार के पक्ष में मामले को लेकर आलाधिाकरियो के पास पहुंचा तो एसएसपी के निर्देश पर पूरे मामले की जांच शुरू हो गई. पटना की एसएसपी गरिमा मलिक जो खुद एक महिला हैं को दी तो उन्होंने मामले की गंभीरता को समझते हुए एएसपी लॉ एंड ऑर्डर से तत्काल रिपोर्ट तलब कर दी.

रिपोर्ट- संजय कुमार

ये भी पढ़ें- पटना में फॉगिंग करेंगे पप्पू यादव के कार्यकर्ता, पूर्व सांसद ने दी चार फॉगिंग मशीनें

ये भी पढ़ें- घरवालों से हुआ झगड़ा तो महिला ने तीन बच्चों के साथ कर ली सामूहिक आत्महत्या

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 22, 2019, 12:06 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...