एक्टर चंद्रमणि मिश्रा छत्तीसगढ़ और बिहार सरकार से लगा रहे हैं गुहार, मां मुधबनी में हैं बीमार
Patna News in Hindi

एक्टर चंद्रमणि मिश्रा छत्तीसगढ़ और बिहार सरकार से लगा रहे हैं गुहार, मां मुधबनी में हैं बीमार
एक्टर चंद्रमणि मिश्रा बिलासपुर के होटल में एक महीने से फंसे हुए हैं.

बिहार में मधुबनी के रहने वाले चंद्रमणि मिश्रा बीते 24 मार्च से छतीसगढ़ के बिलासपुर में फंसे हुए हैं. वह अपने घर मधुबनी लौटना चाहते हैं. दरअसल उनकी मां की तबियत ठीक नहीं है, इसलिए वह सोशल मीडिया से लेकर हेल्पलाइन नंबरों पर मदद की गुहार लगा रहे हैं.

  • Share this:
पटना. बिहार में मधुबनी के रहने वाले चंद्रमणि मिश्रा (Chandramani Mishta) बीते 24 मार्च से छतीसगढ़ के बिलासपुर (Bilaspur)  में फंसे हुए हैं. वह अपने घर मधुबनी (Madhubani) लौटना चाहते हैं. दरअसल उनकी मां की तबियत ठीक नहीं है, इसलिए वह सोशल मीडिया से लेकर हेल्पलाइन नंबरों पर मदद की गुहार लगा रहे हैं. चंद्रमणि को सिर्फ भरोसा ही मिला है.

कई टीवी शो में आए हैं नजर

चंद्रमणि बारह साल से मुम्बई में रहकर एक्टिंग कर रहे हैं. चंद्रमणि ने क्राइम पेट्रोल, सावधान इंडिया, निमकी मुखिया, जोधा अकबर जैसे कई टीवी शो में काम किया है. वही 2017 में आई फिल्म मोदी काका का गांव में भी वो नजर आए थे.



मधुबनी में मां है बीमार



चंद्रमणि अपने घर मधुबनी जाने के लिए नागपुर, महाराष्ट्र से निकले थे पर 24 मार्च​ को लॉक डाउन हो जाने की वजह से वो यही फंस गए हैं और तब से चंद्रमणि बिलासपुर के एक होटल में रूके हुए है. चंद्रमणि ने बताया कि वे एक महीने से बिलासपुर के एक होटल में फंसे हुए हैं. उन्होंने कहा कि उनका घर जाना जरुरी है. उनका मां बीमार है और उनका ख्याल रखने वाला कोई नहीं है क्योकि वो मेरे दादा-दादी के साथ रहती हैं जो खुद बूढ़े हैं. चंद्रमणि ने बताया कि वह हर तरीका अपना कर अब थक गए हैं. वो लगातार इस कोशिश में लगे हैं, लेकिन उन्हें कहीं से मदद नहीं मिल पा रही है .

chandramani Mishra
चंद्रमणि ने क्राइम पेट्रोल, सावधान इंडिया, निमकी मुखिया, जोधा अकबर जैसे कई टीवी शो में काम किया है.


बिहार सरकार से उम्मीद

चंद्रमणि लगातार बिहार सरकार और छतीसगढ़ सरकार से मदद कि अपील कर रहे हैं लेकिन अभी तक उन्हें आश्वासन के अलावा कुछ भी नहीं मिला है. चंद्रमणि ने अपने स्तर से काफी कोशिश की कि बिहार सरकार और बिहार के मंत्रियों से बात करके मसला सुलझा जाए लेकिन उन्हें अभी तक मदद नहीं मिल पाई है. चंद्रमणि इस उम्मीद में हैं कि कब बिहार सरकार उनकी पुकार सुनेगी और वो अपने घर अपनी मां के पास उनका ख्याल रखने जा पाएंगें.

ये भी पढ़ें: बांका में सोशल डिस्टेंसिंग की सलाह देने पर चाचा को भतीजों ने किया घायल

बिहार के युवक की कोरोना से मौत, 48 घंटे में ही आई निगेटिव रिपोर्ट, होगी जांच
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading