लाइव टीवी

बिहार में 86 साल बाद कोसी नदी पर बना रेल पुल तैयार, जल्द ही दौड़ेगी ट्रेन

Neel kamal | News18 Bihar
Updated: January 11, 2020, 5:51 PM IST
बिहार में 86 साल बाद कोसी नदी पर बना रेल पुल तैयार, जल्द ही दौड़ेगी ट्रेन
बिहार में कोसी नदी पर रेल पुल बनकर तैयार हो गया है.

बिहार (Bihar) में कोसी नदी पर रेल पुल (Rail Bridge on Kosi River) बनकर तैयार. रेलवे (ECR) ने मोटर-ट्रॉली चलाकर किया परीक्षण. वर्ष 1934 में आए भूकंप में पुल के क्षतिग्रस्त होने के बाद बंद पड़े इस रेल मार्ग (Train route) पर मार्च के बाद ट्रेनों का परिचालन शुरू करने की संभावना.

  • Share this:
पटना. वर्ष 1934 में आए भूकंप (Earthquake) की वजह से कोसी नदी पर बना रेल पुल क्षतिग्रस्त हो गया था. इसके बाद यह रेल मार्ग बंद था. 86 साल बाद अब कोसी नदी पर रेलवे का पुल (Rail Bridge on Kosi River) तैयार हो गया है, जिसके ऊपर जल्द ही ट्रेनें दौड़ने लगेंगी. कोसी नदी (Kosi River) पर बने रेल पुल से ट्रेनों का परिचालन शुरू होने का सबसे ज्यादा लाभ दरभंगा, मधुबनी, सुपौल और सहरसा जिले में रहने वालों को होगा. इस पुल से मधुबनी (Madhubani) और सुपौल (Supaul) जिला एक बार फिर रेल मार्ग से जुड़ जाएगा. पूर्व मध्य रेलवे (ECR) के सीपीआरओ राजेश कुमार ने बताया कि कोसी नदी पर बने रेल पुल का मोटर-ट्रॉली से निरीक्षण कर लिया गया है. 31 मार्च के बाद इस रूट पर ट्रेनों का परिचालन शुरू हो सकता है.

पूर्व पीएम वाजपेयी ने रखी थी नींव
बिहार में वर्ष 1934 में आए भूकंप के दौरान कोसी नदी पर बना रेल पुल क्षतिग्रस्त हो गया था. इसके साथ ही उत्तर और पूर्व बिहार के बीच का रेल संपर्क टूट गया था. बाद के दिनों में दोनों इलाकों के बीच रेल संपर्क कायम तो हुआ, लेकिन कोसी नदी पर पुल निर्माण का कार्य अटका ही रहा. इस कारण दरभंगा और मधुबनी को सीधे सुपौल व सहरसा से जोड़ने वाला मार्ग बंद था. वर्ष 2003 में 6 जून को तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार ने इस दिशा में पहल की और कोसी नदी पर रेल पुल की नींव रखी गई. 16 साल बाद आज यह पुल बनकर तैयार हुआ है, जिस पर कुछ दिनों के बाद ट्रेनों का परिचालन शुरू होगा.

after-86-years-the-train-will-run-on-the-rail-bridge-built-on-kosi-river-brnk-nodrj | बिहार में 86 साल बाद कोसी नदी पर बना रेल पुल तैयार, जल्द ही दौड़ेगी ट्रेन
86 साल बाद कोसी नदी पर बने पुल पर जल्द शुरू होगा ट्रेनों का परिचालन.


करीब 2 किलोमीटर लंबा पुल
ECR के सीपीआरओ राजेश कुमार ने बताया कि नए कोसी पुल को सरायगढ़ की ओर से रेलवे ट्रैक से जोड़ दिया गया है. 10 जनवरी को मुख्य प्रशासनिक अधिकारी, निर्माण बृजेश कुमार ने पहली बार मोटर ट्रॉली से पुल का निरीक्षण भी किया. उन्होंने बताया कि नए कोसी पुल की कुल लंबाई 1.88 किलोमीटर है और इसमें 45.7 मीटर लंबाई के ओपनवेब गर्डर वाले 39 स्पैन हैं. राजेश कुमार ने बताया कि नए पुल का स्ट्रक्चर एमबीजी लोडिंग क्षमता के अनुरूप डिजाइन किया गया है.

31 मार्च से चल सकती है ट्रेनसीपीआरओ राजेश कुमार ने बताया कि उन्होंने बताया कि सकरी-झंझारपुर-निर्मली-सरायगढ़-सहरसा आमान परिवर्तन परियोजना के तहत नए कोसी पुल का रेलवे ट्रैक से अब सरायगढ़ होते हुए सहरसा से जुड़ाव हो गया है. वहीं सहरसा-सुपौल रेल खंड पर रेल परिचालन पहले से ही जारी है. उन्होंने कहा कि सुपौल-सरायगढ़ रेलखंड भी एक महीने में परिचालन के लिए खोल दिया जाएगा. सरायगढ़ से कोसी पुल पार कर निर्मली की ओर आसनपुर कुपहा हॉल्ट तक रेलखंड का 31 मार्च तक रेल परिचालन के लिए खोल दिए जाने की संभावना है.

ये भी पढ़ें -
...तो सहयोगियों के आगे नहीं झुकेगी RJD! पढ़ें- महागठबंधन के घमासान की इनसाइड स्टोरी

 

दीपिका के समर्थन में उतरे तेजप्रताप, कहा- इ 'छपाक' है, सत्ता में बैठे लोगों को 'थपाक से' क्यों लग रहा है?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 11, 2020, 5:40 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर