लाइव टीवी

COVID 19: मरीज की मौत के बाद एम्स को मिली थी जांच रिपोर्ट, कोरोना की हुई पुष्टि
Patna News in Hindi

News18 Bihar
Updated: March 23, 2020, 5:19 PM IST
COVID 19: मरीज की मौत के बाद एम्स को मिली थी जांच रिपोर्ट, कोरोना की हुई पुष्टि
साई के क्षेत्रीय केंद्रों, स्टेडियमों और हॉस्टल का पृथक केंद्रों के रूप में उपयोग करने का फैसला स्वास्थ्य मंत्रालय के आग्रह के बाद किया गया. (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर)

पटना एम्स के अधीक्षक ने बताया कि दम तोड़ने वाले मरीज को क्रॉनिक किडनी की बीमारी थी और वो डायलिसिस पर था जिसके बाद उसे एम्स में इलाज के लिए लाया गया था. इस दौरान जब उसकी जांच की गई तो जांच में कोरोणा के भी कुछ लक्षण पाए गए

  • Share this:
पटना. रविवार को पटना के एम्स (Patna AIMS) अस्पताल में एक मरीज की कोरोना (Corona) से मौत हो गई. मरीज की मौत के बाद आई जांच रिपोर्ट में इस बात का खुलासा हुआ कि उसे कोरोना जैसी खतरनाक बीमारी थी. दरअसल 38 साल का सैफ जो कि मूल रूप से मुंगेर (Munger) का रहने वाला था और हाल में ही कतर से लौटा था को एम्स में इलाज के लिए 20 मार्च को भर्ती कराया गया था.

किडनी की बीमारी से भी लड़ रहा था सैफ

अस्पताल के अधीक्षक सीएम सिंह के मुताबिक वो कई तरह की बीमारियों से ग्रसित था. पटना एम्स के अधीक्षक ने बताया कि उसे क्रॉनिक किडनी की बीमारी थी और वो डायलिसिस पर था जिसके बाद उसे एम्स में इलाज के लिए लाया गया था. इस दौरान जब उसकी जांच की गई तो जांच में कोरोना के भी कुछ लक्षण पाए गए जिसके बाद सैंपल को जांच के लिए आरएमआरआई भेजा गया. इस दौरान 21 मार्च को उसकी मौत हो गई. मौत के बाद जब सैफ की रिपोर्ट आरएमआरई से रविवार को आई तो उसमें कोरोना की पुष्टि हुई. ऐसे में सवाल ये उठता है कि क्या जांच के अभाव में एक मरीज पटना के बड़े अस्पताल में दो दिन तक पड़ा रहा या फिर सही रूप से जांच की व्यवस्था नहीं होने के कारण उस मरीज को समय रहते नहीं बचाया गया.

शव को क्यों ले जाने दिया गया ?



सैफ की मौत के बाद उसके शव को भी परिजनों को सौंप दिया गया है जिससे संक्रमण का खतरा है. सवाल ये भी उठता है कि जब सैफ को कोरोना का पॉजिटिव पाया गया तो उसे उसका शव परिजनों को क्यों सौंपा गया. परिजन उसके शव को अपने साथ लेकर चले भी गए हैं. हालांकि एम्स के अधीक्षक का कहना है कि डेड बॉडी को पूरी तरह से पॉलीथिन में पैक कर के भेजा गया है, जिससे किसी प्रकार के संक्रमण का खतरा नहीं है.

अलर्ट पर महकमा

पटना में ही रविवार को कोरोना बीमारी का दूसरा केस भी सामने आया है और कहा जा रहा है कि कोरोना का दूसरा मरीज भी पटना के एम्स में ही है. इन सबके बीच रविवार को ही पटना में कोरोना से हुई पहली मौत के बाद स्वास्थ्य महकमा हाई अलर्ट पर है. पटना के सचिवालय में विभाग के उच्च अधिकारियों की एक बैठक हो रही है. रविवार को ही केंद्र सरकार की टीम के साथ भी इस बीमारी की समीक्षा के लिए अधिकारियों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग हुई.

इनपुट- अमित कुमार सिंह

ये भी पढ़ें -COVID-19: बिहार में कोरोना वायरस से पहली मौत, 38 साल के शख्स ने पटना एम्स में तोड़ा दम


ये भी पढ़ें- Coronavirus: दानापुर स्टेशन पर जांच के बाद ही घर भेजे जाएंगे महाराष्ट्र से आ रहे 5 हजार बिहारी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 22, 2020, 1:05 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर