पटना में 26 से 30 मई तक यास तूफान का अलर्ट, इन जगहों पर भारी नुकसान की आशंका

पटना में कहर ढाएगा यास तूफान का प्रभाव, 26 से 30 मई तक जारी किया अलर्ट.

पटना में कहर ढाएगा यास तूफान का प्रभाव, 26 से 30 मई तक जारी किया अलर्ट.

चक्रवाती तूफान यास का प्रभाव पटना में भी दिखने की संभावना है. आशंका जताई जा रही है कि पटना जिले में भी भारी बारिश, तेज हवा एवं वज्रपात की संभावना है. इस संबंध में जिलाधिकारी ने सभी संबंधित विभागों को एलर्ट मोड में रहने का निर्देश दिया है.

  • Share this:

पटना. बंगाल की खाड़ी से उत्पन्न होने वाला चक्रवाती तूफान ( Cyclone Storm ) यास ( Yass) का प्रभाव पटना में भी दिखने की संभावना है. आशंका जताई जा रही है कि पटना जिले में भी भारी बारिश, तेज हवा एवं वज्रपात की संभावना है. इस संबंध में जिलाधिकारी ने सभी संबंधित विभागों को एलर्ट मोड में रहने का निर्देश दिया है. साथ ही चक्रवाती तूफान को देखते हुए जिलाधिकारी ने जिलावासियों को भी एलर्ट रहने की अपील की है. मौसम विज्ञान केंद्र द्वारा जारी अलर्ट में कहा गया कि तेज हवा के साथ 80 एमएम-120 एमएम तक बारिश होने की संभावना है. विद्युत आपूर्ति भी बाधित हो सकती है. जिलाधिकारी डॉ चंद्रशेखर सिंह ने चक्रवाती तूफान की स्थिति में जिले में सुचारू व्यवस्था बनाए रखने के निर्देश दिए हैं.

पटना जिला अंतर्गत सभी सरकारी अस्पताल, एम्स,आईजीआईएमएस, पीएमसीएच, एनएमसीएच, ईएसआईसी बिहटा आदि के अधीक्षक को निर्देश दिया है. कहा गया कि तूफान के प्रभाव के दौरान यदि विद्युत आपूर्ति बाधित होती है तो विद्युत आपूर्ति रिस्टोर होने तक वैकल्पिक जेनरेटर की व्यवस्था रखें, ताकि मरीजों को किसी प्रकार की असुविधा का सामना न करना पड़े. उक्त सभी अस्पतालों के प्रभारी पदाधिकारी और सिविल सर्जन को इस आदेश का अनुपालन सुनिश्चित कराने को कहा गया है. इसके अतिरिक्त पटना जिला अंतर्गत सभी निजी अस्पताल एवं डेडीकेटेड कोविड हेल्थ केयर सेंटर में भी समरूप व्यवस्था सुनिश्चित करने का निर्देश दिया गया है. टीम गठित कर ऑक्सीजन का सुरक्षित भंडारण भी सुनिश्चित करेंगे ताकि आकस्मिकता की स्थिति में इसका उपयोग किया जा सके.

इसके साथ ऑसीजन का पर्याप्त स्टॉक रखने और ऑक्सीजन प्लांट के संचालन में यदि किसी प्रकार का व्यवधान उत्पन्न होता है तो न्यूनतम समय में रिस्टोर कराना सुनिश्चित करेंगे. अधीक्षण अभियंता विद्युत आपूर्ति अंचल पटना एवं अभियंता विद्युत पोल, तार के साथ ट्रांसफार्मर को भी क्षतिग्रस्त होने के कारणों से विद्युत आपूर्ति बाधित होने की स्थिति में न्यूनतम समय में विद्युत आपूर्ति रिस्टोर कराना सुनिश्चित करेंगे. तार टूटने व पोल गिरने पर फौरन उसे ठीक कराने के निर्देश दिए गए.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज