प्रशांत किशोर का दर्द! 'मैं पितातुल्य नीतीश कुमार को निराश नहीं करुंगा', जानें वजह
Patna News in Hindi

प्रशांत किशोर का दर्द! 'मैं पितातुल्य नीतीश कुमार को निराश नहीं करुंगा', जानें वजह
चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर (फाइल फोटो)

पीके (Prashant Kishor) ने कहा, मैं किसी का एजेंट नहीं हूं, नीतीश जी (Nitish Kumar) ने झूठ का सहारा लिया. मैं पितातुल्य नीतीश कुमार को निराश नहीं करुंगा. मैं नीतीश जी के कहे को झूठा नहीं कहूंगा, अगर नीतीश जी कह रहे हैं की अमित शाह के कहने पर लिया तो मान लीजिए

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
पटना. बीते 29 जनवरी को जनता दल युनाइटेड (JDU) से प्रशांत किशोर (Prashant Kishor) को निष्कासित किया गया तो इसे बीजेपी और जेडीयू के संबंधों की वजह से उठाया गया कदम बताया गया. तब मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने कहा था पीके को जेडीयू (JDU) में इसलिए रखा गया था क्योंकि बीजेपी के तत्कालीन राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने उन्हें उनकी (प्रशांत किशोर) सिफारिश की थी. जेडीयू से निकाले जाने के बाद मंगलवार को जब प्रशांत किशोर मीडिया से मुखातिब हुए तो उनसे इस पर सवाल पूछा गया तो उनका दर्द छलक आया.

पीके ने कहा, मैं किसी का एजेंट नहीं हूं, नीतीश जी ने झूठ का सहारा लिया. मैं पितातुल्य नीतीश कुमार को निराश नहीं करुंगा. मैं नीतीश जी के कहे को झूठा नहीं कहूंगा, अगर नीतीश जी कह रहे हैं की अमित शाह के कहने पर लिया तो मान लीजिए.

'गांधीवादी नहीं रहे नीतीश कुमार'
वो नीतीश कुमार के विरोध में क्यों खड़े हैं, इस सवाल का जवाब देते हुए पीके ने कहा, जिस नीतीश कुमार को मैं जानता था वो गांधीवादी थे, जेपी और लोहिया के विचारों को मानते थे, लेकिन आज के नीतीश गोडसे की विचारधारा के साथ खड़े हैं, इसलिए मैं विरोध कर रहा हूं.



नीतीश कुमार ने वर्ष 2017 में प्रशांत किशोर को अपनी पार्टी जनता दल युनाइटेड में शामिल किया था (फाइल फोटो)




'कन्हैया से मिला हूं'
पीके ने ये स्वीकार किया कि सीपीआई के नेता और जेएनयू छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार उनसे मिले हैं. उन्होंने कहा कि वो मुझसे मिले हैं और अपना काम कर रहे है. मैं अपना काम कर रहा हूं. मैं हर गांव, हर पंचायत जाऊंगा ताकि बिहार के विकास के लिए कुछ कर सकूं. मुझे दस साल भले लग जाए, लेकिन बिहार का विकास कर सके ऐसे युवकों की फौज तैयार कर सकूं.

'2015 से बीजेपी के खिलाफ'
पीके ने कहा कि वर्ष 2015 में मेरी कंपनी I-PAC का निर्माण हुआ, तब से हमारी संस्था ने बीजेपी के खिलाफ ही हमारी संस्था ने काम किया है. उन्होंने कहा कि 2014 के नीतीश के लिए मेरे मन में ज्यादा सम्मान है. वो बिहार के 10 करोड़ लोगों के नेता हैं, उन्हें किसी बाहरी शख्स का पिछलग्गू नहीं बनना चाहिए.

ये भी पढ़ें-


प्रशांत किशोर ने नीतीश के विकास मॉडल को किया खारिज, पहले पिता जैसा बताया फिर चुन-चुनकर निकाली खामियां




प्रशांत किशोर का CM नीतीश पर प्रहार, कहा- पिछलग्गू नेतृत्व से नहीं बदलेगा बिहार का भविष्य

First published: February 18, 2020, 12:59 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading