बिहार बाढ़ त्रासदी: आर्मी ने शुरू किया 'रेस्क्यू ऑपरेशन', नीतीश ने पीएम से मांगी मदद


Updated: August 13, 2017, 4:51 PM IST
बिहार बाढ़ त्रासदी: आर्मी ने शुरू किया 'रेस्क्यू ऑपरेशन', नीतीश ने पीएम से मांगी मदद
किशनगंज शहर में घुसा बाढ़ का पानी

Updated: August 13, 2017, 4:51 PM IST
बिहार में बाढ़ कहर ढा रही है. बाढ़ से जान-माल दोनों को नुकसान हो रहा है. हालत अभी और भयावह होने की आशंका जताई जा रही है. रविवार को अलग-अलग जगहों पर हुई घटना में 8 लोगों की मौत हो गई.

बाढ़ के बढ़ते कहर के बीच पीएम नरेंद्र मोदी से नीतीश कुमार ने मदद को लेकर बात की. नीतीश ने बाढ़ से निपटने के लिये केंद्र से एनडीआरएफ की 10 टुकड़ियां मांगी है. नीतीश ने उच्चाधिकारियों के साथ बाढ़ के हालात की समीक्षा की तो सेना ने भी रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू कर दिया.

सेना की दो टीमें रांची और दानापुर से हेलिकॉप्टर से किशनगंज समेत सीमावर्ती इलाकों के लिये निकल पड़ी है. सरकार की तरफ से भी बाढ़ से प्रभावित जिलों के जिलाधिकारियों से संपर्क कर ताजा जानकारी ली जा रही है.

जानकारी के मुताबिक नीतीश ने पीएम मोदी को राज्य में बाढ़ के ताजा हालातों की जानकारी दी. सीएम ने फोन पर गृह मंत्री राजनाथ सिंह से भी बाढ़ के मसले पर बात की और हर संभव मदद का भरोसा दिलाया.

सुपौल में बाढ़ के पानी से दीवार गिरने से जहां दो लोगों की मौत हो गई वहीं पूर्वी चंपारण के कुण्डवा चैनपुर में बाढ़ के पानी में डूबने से दो लोगों की मौत हो गई. पूर्वी चंपारण में ही मदरसे में पढ़ने वाले एक बच्चे की बाढ़ के पानी में बहने से मौत हो गई.

पूर्वी चंपारण में लाल बकेया नदी का पश्चिमी बांध टूट गया जिससे कई घरों में पानी घुसा है. पश्चिमी चंपारण के गौनाहा प्रखंड मुख्यालय में पांच फीट पानी बह रहा है. सहरसा के शहरी क्षेत्रों के कई घरों और रेलवे स्टेशन में बाढ़ का पानी जा घुसा है. किशनगंज में भी बाढ़ का पानी घुसा है. अररिया में बाढ़ से बचाव के लिये एसडीआरएफ की टीम पहुंची है. फारबिसगंज में पिछले 20 घंटे से बिजली ठप्प है.

मुजफ्फपुर-औराई में बांध के भीतर बसे सौ गांव में बाढ़ का पानी घुसा है. बगहा के अधिकांश इलाकों से मुख्यालय का संपर्क टूट गया है. बगहा में गंडक नदी के जलस्तर में वृद्धि लगातार जारी है. इसको लेकर प्रशासन ने अलर्ट जारी किया है. बगहा में रेलवे ट्रैक पर पानी आने से परिचालन ठप हो गया है. कई ट्रेनें यहां वहां खड़ी हैं.
First published: August 13, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर