Home /News /bihar /

Bihar Asembly Election: 'बदनामी' ने पूर्व मंत्री को घंटों खड़ा किया लाइन में! CM नीतीश ने नहीं दी तवज्जो

Bihar Asembly Election: 'बदनामी' ने पूर्व मंत्री को घंटों खड़ा किया लाइन में! CM नीतीश ने नहीं दी तवज्जो

विधानसभा चुनाव के लिए जदयू से टिकट के लिए सीएम आवास पहुंचीं पूर्व मंत्री मंजू वर्मा. (फाइल फोटो)

विधानसभा चुनाव के लिए जदयू से टिकट के लिए सीएम आवास पहुंचीं पूर्व मंत्री मंजू वर्मा. (फाइल फोटो)

मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड (Muzaffarpur Shelter Home Case) में पति का नाम आने सुर्खियों में आईं बिहार की पूर्व समाज कल्याण मंत्री मंजू वर्मा (Manju Verma) को आज जेडीयू कार्यालय में नहीं मिला भाव.

पटना. कहते हैं कि राजनीति में दिन पलटते देर नहीं लगती. नेता रातोंरात आसमान छू लेते हैं तो कई अर्श से फर्श तक पहुंच जाते हैं. ऐसा ही नजारा बुधवार को जदयू कार्यालय में देखने को मिला. कल तक समाज कल्याण मंत्री के रूप में धाक जमाने वाली मंत्री मंजू वर्मा (Manju Verma) बायोडाटा लेकर घंटों मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) से मुलाकात के लिए इंतजार करती रहीं. सीएम नीतीश कार्यकर्ताओं के साथ मुलाकात करते रहे पर मंजू वर्मा (Manju Verma) को मिलने का समय नहीं मिला. सबके मिलने के बाद बमुश्किल चंद मिनट के लिए नीतीश से मुलाकात हो पाई, लेकिन मंजू वर्मा संतुष्ट नहीं दिखीं. हालांकि इसके बाद उन्होंने मीडिया से बात करते हुए इस बार फिर चुनाव में उतरने का दावा किया. मंजू वर्मा ने कहा कि नीतीश कुमार से मिलकर कई मुद्दों पर बात करनी है. इस बार टिकट के लिए नीतीश कुमार के पास आई हूं, उम्मीद है टिकट मिलेगा.

मुजफ्फरपुर कांड के बाद मंत्री से हटाई गई थी मंजू वर्मा
समाज कल्याण मंत्री रहते हुए मंजू वर्मा की अपने विभाग में दबंगई चलती थी. लेकिन, मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड (Muzaffarpur Shelter Home Case) मामले में पति के नाम आने के बाद महीनों तक ड्रामा चला था और वह सुर्खियों में रही थीं. मंजू वर्मा पर सवाल खड़े होने के बाद बिहार सरकार की जबर्दस्त फजीहत हुई थी. बाद में नीतीश कुमार के मंत्रिमंडल से उनके हटने के बाद मामला शांत हुआ था.

मार्च में जमानत पर जेल से बाहर आईं थीं मंजू वर्मा
बता दें कि मुजफ्फरपुर शेल्टर होम रेपकांड में जेल में बंद बिहार की पूर्व समाज कल्याण मंत्री मंजू वर्मा को इसी साल मार्च महीने में पटना हाईकोर्ट से जमानत मिली थी. आर्म्स एक्ट से जुड़े मामले में मंजू वर्मा 20 नवंबर, 2019 से से जेल में बंद थीं. हाल में ही उनके पति चंद्रशेखर वर्मा की अग्रिम जमानत याचिका कोर्ट से खारिज हो चुकी है. आने वाले वक्त में मंजू वर्मा और उनके पति की मुश्किलें और बढ़ सकती हैं. सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के बाद बिहार पुलिस दोनों से पूछताछ की तैयारी में है.



मंजू वर्मा के पति के ब्रजेश ठाकुर से थे अच्छे संबंध
गौरतलब है कि मुजफ्फरपुर के बालिका गृह में कई बच्चियों के साथ यौन उत्पीड़न की पुष्टि हुई थी. इस मामले में बालिका गृह के मालिक ब्रजेश ठाकुर की संलिप्तता पाई गई थी, जिसके बाद उसे गिरफ्तार कर लिया गया था. मंजू वर्मा के पति चंद्रशेखर का मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर के साथ न सिर्फ अच्छे संबंधों की पुष्टि हुई थी, बल्कि यह बात भी सामने आई थी कि चंद्रशेखर मुजफ्फरपुर बालिक गृह में जाते रहते भी थे.

नीतीश से मिलने को कई विधायक लाइन में खड़े दिखे
इस बार फिर चुनाव में टिकट के लिए वर्तमान और पूर्व कई विधायक नीतीश कुमार से मिलने के इंतजार करते दिखे. रुन्नी सैदपुर की वर्तमान विधायिका गुड्डी चौधरी, पूर्व विधायक मीणा देवी, सहित आधा दर्जन विधायक घण्टों लाइन में खड़े रहे. सभी ने कहा कि इसबार चुनाव में टिकट के लिए बायोडाटा लेकर पहुंचे हैं.

Tags: CM Nitish Kumar, Manju verma, Muzaffarpur Shelter Home Rape Case

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर