बिहार चुनाव: नए मतदाताों के लिए खुशखबरी, ऐसे होगी वोटर ID कार्ड की फ्री Home Delivery

घर पर वोटर आईडी कार्ड पहुंचाए जाएंगे.
घर पर वोटर आईडी कार्ड पहुंचाए जाएंगे.

बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Election) के तहत चुनाव आयोग ने नए वोटर को जोड़ने और उन्हें वोट के लिए जागरूक करने के उद्देश्य से वोटर आईडी (Voter ID) के निशुल्क घर पहुंचाने वाली है.

  • Share this:
पटना. अगर आप नए वोटर हैं और आपने अपने वोटर आईडी (Voter ID) के लिए आवेदन किया है तो चुनाव से पहले ही बिल्कुल मुफ्त स्पीड पोस्ट के माध्यम से आपके घर पर आपका मतदान पहचान पत्र पहुंच जाएगा. दरअसल, चुनाव आयोग ने नए वोटर को जोड़ने और उन्हें वोट के लिए जागरूक करने के उद्देश्य से सभी जिला निर्वाचन पदाधिकारी को सख्त निर्देश जारी किया है, जिसमें तहत ये आदेश दिया गया है कि ऐसे मतदाता जो पहली बार वोट करने जा रहे है और जिन्होंने वोटर आईडी बनाने के लिए आवेदन किया है उनके घर पर निशुल्क फोटोयुक्त पहचान पत्र पहुंचाया जाएगा, ताकि वो मतदान से वंचित न रहे.

वहीं अपर मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी बाला मुरुगन डी. ने चुनाव आयोग के निर्देश के मुताबिक सभी जिलों के जिला निर्वाचन पदाधिकारी सह जिलाधिकारी को कहा कि विभिन्न स्रोतों से यह शिकायत प्राप्त हो रही है कि निर्वाचकों को फोटो युक्त ईपिक प्राप्त नहीं हो रहा है. आयोग के निर्देशों के अनुसार निर्वाचकों को निशुल्क इसे प्रदान किया जाना है. जबकि, संशोधित ईपिक को निर्धारित शुल्क के साथ उपलब्ध कराने की बात कही गयी है.

किसी दूसरे के हांथ न लगे पहचान पत्र, इसका रखा गया है विशेष ध्यान



पहचान पत्र किसी दूसरे के हाथ ना लग जाए, इसका खासा ध्यान रखने की बात कही गयी है. ऐसे में आदेश दिया गया है कि स्पीड पोस्ट के माध्यम से सभी नए मतदाता को उनका पहचना पत्र भिजवाया जाए. जिसकी तैयारी में जिला निर्वाचन पदाधिकारी जुट गए हैं. नए मतदाताओं को ईपिक नहीं उपलब्ध होने की शिकायत के बाद यह निर्देश दिया गया है.
दूसरे चरण की अधिसूचना

बिहार विधानसभा चुनाव के लिए दूसरे चरण की अधिसूचना जारी हो चुकी है, लेकिन महागठबंधन में शामिल कांग्रेस के उम्मीदवारों के नामों की अभी तक घोषणा पूरी नहीं हुई है. इस बीच एक खबर ने बिहार की राजनीति में नया सियासी बवाल खड़ा कर दिया. बिहार में चल रही एक खबर के मुताबिक, कांग्रेस ने विधानसभा चुनाव के लिए उम्मीदवारों के चयन में अनियमितताओं के बाद तीन वरिष्ठ नेताओं को चयन समिति से हटा दिया, जिसमें बिहार कांग्रेस प्रमुख मदन मोहन झा, सीएलपी नेता सदानंद सिंह और चुनाव अभियान के नेता अखिलेश प्रसाद सिंह हैं. हालांकि कांग्रेस पार्टी ने इन खबरों का खंडन किया है. पार्टी का कहना है कि ये आधारहीन खबरें हैं.

ये भी पढ़ें: COVID-19 गाइडलाइन उल्लंघन: नरेंद्र सिंह तोमर, कमलनाथ सहित कई नेताओं पर होगी FIR, HC का निर्देश

बिहार चुनाव प्रभारी ने किया खंडन

कांग्रेस पार्टी के बिहार चुनाव प्रभारी और राष्ट्रीय महासचिव अभिनाश पांडे ने खबर का खंडन करते हुए ट्वीट किया. उन्होंने कहा, 'कांग्रेस पार्टी पूरी तरह से ऐसी खबरों का खंडन कर रही है. यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है कि एक विश्वसनीय और जिम्मेदार संगठन ने इस भ्रामक जानकारी को एआईसीसी के अधिकारियों के साथ सत्यापित किए बिना प्रसारित किया है. उन्होंने आगे कहा कि रेडियो चैनल द्वारा ट्वीट में उल्लेख किए गए नेता कांग्रेस के सम्मानजनक और सक्रिय सदस्य हैं, जो बिहार चुनाव की स्क्रीनिंग की कार्यवाही में गंभीरता से शामिल हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज