Bihar Assembly Election: सुशील मोदी ने गिनाई मोदी सरकार की सौगात, चंद्रिका राय मुद्दे पर लालू परिवार को घसीटा
Patna News in Hindi

Bihar Assembly Election: सुशील मोदी ने गिनाई मोदी सरकार की सौगात, चंद्रिका राय मुद्दे पर लालू परिवार को घसीटा
सुशील मोदी ने लालू को लेकर बड़ा बयान दिया है. (फाइल फोटो)

Bihar Assembly Election 2020 Update: सुशील मोदी (Sushil Modi) ने कहा, पूर्व मंत्री चंद्रिका राय (Chandrika Rai) का राजद (RJD) छोड़ना केवल पारिवारिक नहीं, सामाजिक मुद्दा है.

  • Share this:
पटना. बिहार (Bihar) में दलबदल का दौर जारी है.दल बदल के दौरान कई आरजेडी के विधायक जेडीयू (JDU) में गए और जेडीयू से कुछ नेता आरजेडी के हो गए. हालांकि, इस दौरान किसी भी नेता ने बीजेपी (BJP) में कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई. लेकिन इस बीच बीजेपी अपनी उपलब्धि गिनाने में लगी जरूर लग गई है. बीजेपी ने बिहार में क्या कुछ किया इसकी उपलब्धि नहीं,  बल्कि बीजेपी की केंद्र की सरकार ने क्या कुछ बड़े काम कर दिए, इसकी उपलब्धि नेता गिना रहे हैं. खासतौर पर सुशील मोदी (Sushil Modi) केंद्र सरकार की उपलब्धियों के साथ लालू परिवार (Lalu Prasad Yadav Family) पर हमला भी कर रहे हैं.

कोरोना से बचने काढ़ा पिएंगे कैदी

कई और विधायक आरजेडी छोड़ेंगे: सुशील मोदी



सुशील मोदी ने ट्वीट करके लालू परिवार पर जमकर हमला किया है. उन्होंने कहा, बिहार में चुनाव कब होंगे, इस पर तो चुनाव आयोग को निर्णय करना है. लेकिन लालू प्रसाद की पार्टी में जिस तरह से भगदड़ मची, उससे साफ है कि चुनाव निकट हैं. सुशील मोदी ने कहा कि लालू के लोगों को आभास हो चुका है कि न्याय के साथ विकास की आंधी में लालटेन नहीं काम आएगी. तीन दिन में जिस पार्टी के आधा दर्जन विधायक साथ छोड़ दें और कई वक्त के इंतजार में हों, वह अपनी हताशा बयानों में जाहिर करने के सिवा क्या कर सकती है? पूर्व मंत्री चंद्रिका राय का राजद छोड़ना केवल पारिवारिक विवाद नहीं, सामाजिक मुद्दा है. जनता पूछेगी कि जो परिवार एक बेटी को न्याय नहीं दे सका, वह बिहार की बेटियों को न्याय कैसे देगा? राजद ने दहेज-प्रथा के खिलाफ मानव श्रृंखला में भाग क्यों नहीं लिया था?
 ये भी पढ़ें: चिराग पासवान ने की JEE MAIN और NEET स्थगित करने की मांग, शिक्षा मंत्री को लिखा खत

 'मोदी सरकार ने 6 साल में किया'

केंद्र की उपलब्धियों पर सुशील मोदी ने ट्वीट कर लिखा सेना के जवानों के लिए " वन रैंक, वन पेंशन", धारा-370 हटने के बाद " एक देश, एक संविधान, एक निशान", गरीबों-मजदूरों के लिए " वन नेशन, वन राशन कार्ड" और अब करोड़ों शिक्षित युवाओं के लिए " एक देश, एक परीक्षा" का संकल्प राष्ट्रीय एकता को मजबूत करने वाले बड़े फैसलों की ताजा कड़ी है. सरकारी सेवा में ग्रुप बी और सी की नौकरियों के लिए जहां पहले बीस एजेंसियां अलग-अलग समय में टेस्ट लेती थीं, उनके स्थान पर अब केवल राष्ट्रीय भर्ती एजेंसी( NRA) परीक्षा लेगी. इससे तीन करोड़ से ज्यादा युवाओं को राहत मिलेगी. सरकारी नौकरी के प्रति बिहार में ज्यादा आकर्षण है, इसलिए एनआरए गठित होने का ज्यादा फायदा भी बिहार को मिलेगा. यूपीए की सरकार जो काम दस साल में नहीं कर पायी, वह मोदी-2 के दूसरे साल में हो गया.

युवाओं के लिए कही बड़ी बात

सुशील मोदी के ट्वीट में लिखा है कि राष्ट्रीय भर्ती एजेंसी बनने से रेलवे, बैंकिंग, एसएससी के सवा लाख पदों पर नौकरी के इच्छुक करोड़ों युवाओं के समय और पैसे की बचत होगी. अब टेस्ट और रिजल्ट के बीच की अवधि घटेगी और युवाओं को बार-बार की लंबी यात्राओं से राहत मिलेगी. कांग्रेस और राजद के युवराजों को नौकरी पाने के संघर्ष का जरा भी एहसास होता, तो वे इसके स्वागत में एक ट्वीट अवश्य करते.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading