Bihar Assembly Election: जिसपर चिराग-तेजस्वी लगातार उठा रहे थे सवाल उसका पार्ट-2 ले आए नीतीश, जानें क्या है माजरा

चिराग पासवान (बाएं), नीतीश कुमार और तेजस्वी यादव (File Photo)
चिराग पासवान (बाएं), नीतीश कुमार और तेजस्वी यादव (File Photo)

सीएम नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) की सात निश्चय योजना लोजपा अध्यक्ष चिराग पासवान (Chirag Paswan) के निशाने पर रही है. तेजस्वी यादव (Tejaswi yadav) ने भी इसमें करप्शन को लेकर कई बार सवाल उठाए हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 26, 2020, 3:09 PM IST
  • Share this:
पटना. वर्ष 2015 में जब नीतीश कुमार मुख्यमंत्री (CM Nitish Kumar) बने थे तो उन्होंने अपने उस कार्यकाल में बिहार की जनता से सात निश्चय योजना का लक्ष्य रखा था. जिसके तहत युवा पीढी को शिक्षा, कौशल विकास, शिक्षा ऋण, सभी गांवों में बिजली कनेक्शन, हर परिवार को पाइप वाले पानी की आपूर्ति प्रदान करना, शहरी क्षेत्रों में सड़क और निकास व्यवस्था के माध्यम से आत्मनिर्भर बनाना शामिल था. इसे सीएम नीतीश का ड्रीम प्रोजेक्ट कहा गया और योजना को वर्ष 2016 में मंत्रिमंडल ने भी अपनी मंजूरी दी थी. हालांकि इसमें भ्रष्टाचार को लेकर कई सवाल उठाए गए हैं.

खास तौर पर सीएम नीतीश कुमार की सात निश्चय योजना लोजपा अध्यक्ष चिराग पासवान (Chirag Paswan) के निशाने पर रही है. वहीं, नीतीश कुमार के दोबारा भाजपा (BJP) के साथ सरकार बनाने के बाद तेजस्वी यादव (Tejaswi yadav) ने भी इसमें करप्शन को लेकर कई बार सवाल उठाए हैं. लेकिन, लगता है कि इस योजना के बहाने टारगेट करने वालों को सीएम नीतीश ने करारा जवाब दिया है और इसका पार्ट -2 भी ला दिया है.

 ‘सक्षम बिहार-स्वाबलंबी बिहार’ स्लोगन के साथ सीएम नीतीश ने सात निश्चय पार्ट-2 में शामिल किया है और इसके तहत आने वाले 5 वर्षों में क्या करने वाले हैं, उसका पूरा खाका उन्‍होंने मीडिया के माध्यम से जनता के सामने रख दिया है.



पहला निश्चय - कार्यक्रम युवा शक्ति बिहार की प्रगति के तहत हर जिले में मेगा स्किल सेंटर, हर प्रमंडल में मेगा स्किल सेंटर एवं उद्यमिता हेतु एक नया विभाग बनाने की उन्होंने घोषणा की,साथ ही उद्यम लगाने के लिए अनुदान और प्रोत्साहन देने का भी नीतीश ने ऐलान किया.
दूसरा निश्चय-सशक्त महिला-सक्षम महिला के तहत जहां महिला उद्यमिता हेतु विशेष योजना बनाई जाएगी, वहीं इंटर पास करने पर 25, हज़ार वहीं अब स्नातक करने वाली महिलाओं को 50 हज़ार की आर्थिक सहायता का वादा किया. इसके अलावा क्षेत्रीय प्रशासन में आरक्षण के अनुरूप महिलाओं की भागीदारी बढ़ाने का भी वादा किया गया है.

तीसरा निश्चय- हर खेत तक सिंचाई के पानी की घोषणा नीतीश कुमार कुछ महीने पहले ही कर चुके हैं. इस कार्यक्रम पर तो सरकार ने सर्वेक्षण का काम भी शुरू कर दिया है और अगले 2 वर्षों में उनका दावा है कि यह काम पूरा हो जाएगा.

चौथा निश्चय- स्वच्‍छ गांव-समृद्ध गांव के तहत अब बिहार के सभी गांवों में सोलर स्ट्रीट लाइट लगायी जाएगी. इसके अलावा धूल-कचरे के लिए अलग-अलग प्रबंधन किया जाएगा और ग्रामीण इलाकों में जानवरों और मछलियों के संसाधन का विकास किया जाएगा।

पांचवा निश्चय - 'स्वच्छ शहर-विकसित शहर' दिया है जिसमें शहर में कचरा प्रबंधन के अलावा शहरी इलाक़ों में रहने वाले ग़रीब के लिए बहुमंजिला इमारत का निर्माण कराया जाएगा।

छठा निश्चय- आसपास के गांवों को मुख्य पथ से जोड़ा जाएगा. नई सड़कों का निर्माण किया जाएगा और सारी क्षेत्रों में आवश्यकतानुसार और फ्लाईओवर का निर्माण किया जाएगा.

सातवां निश्चय- स्वास्थ्य सुविधा का बेहतर प्रबंधन किया जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज