बिहार चुनाव: महागठबंधन में कामयाब रही डिनर डिप्लोमेसी, सीट शेयरिंग पर बन गई बात

तेजस्वी यादव ने भाकपा माले से सीटों पर सहमति बना ली है.
तेजस्वी यादव ने भाकपा माले से सीटों पर सहमति बना ली है.

Bihar Assembly Election: आरजेडी और भाकपा माले (RJD and CPI ML) के बीच पिछले चार दिनों से चल रहे गतिरोध को दूर करने के लिए गुरुवार सुबह से ही मंथन शुरू था.

  • Share this:
पटना. बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Election) से पहले दोनों बड़े गठबंधन में रूठने-मनाने के खेल जारी है. एक तरफ जहां एनडीए में चिराग पासवान (Chirag Paswan) के तल्ख तेवर बरकरार हैं. महागठबंधन के घटक दल कांग्रेस, आरजेडी (RJD) को अड़ियल बता रही है. इस बीच, महागठबंधन के लिहाज से बड़ी खबर ये है कि भाकपा माले की आरजेडी के साथ बात बन गई है. देर रात पूर्व सीएम राबड़ी देवी के आवास पर हुए तेजस्वी यादव और भाकपा माले प्रमुख दीपांकर भट्टाचार्य की बैठक के बाद तय हो गया कि भाकपा माले गठबंधन के साथ ही चुनाव लड़ेगी. जानकारी के अनुसार, 20 सीटों की मांग कर रही भाकपा माले को 15 सीट देने पर तेजस्वी राजी हो गए हैं. कहा जा रहा है कि भाकपा माले भी अब इस बात पर सहमत हो गई है और अब वह महागठबंधन के साथ ही चुनाव लड़ेगी.

जानकरी के अनुसार, इस बात पर भी सहमति बनी है कि जहां पर माले का जनाधार है वहां की सीटें चिन्हित कर बतायी जाएंगी. जब सीटें चिन्हित हो जाएंगी तो उस समय सीटों की संख्या में कुछ और बढ़ोतरी हो सकती है. बता दें कि आरजेडी और भाकपा माले के बीच पिछले चार दिनों से चल रहे गतिरोध को दूर करने के लिए गुरुवार सुबह से ही मंथन शुरू था. सुबह में दीपांकर भट्टाचार्य से मिलने आरजेडी सांसद मनोज झा और भोला यादव पार्टी दफ्तर पहुंचे थे. माले के साथ बात नहीं बनने पर देर रात राबड़ी आवास पर खाने पर बुलाया गया. देर रात दीपांकर भट्टाचार्य और तेजस्वी यादव में घंटों बातचीत होने के बाद तय हुआ कि माले साथ रहकर चुनाव लड़ेगी.

आरजेडी के अड़ियल रुख से नाराज है कांग्रेस
बहरहाल, भाकपा मामले के मान जाने के बाद भी महगठबंधन में सीट बंटवारे का मामला उलझा हुआ है और कांग्रेस ने राजद के अड़ियल रुख पर नाराजगी भी जाहिर की है. बिहार कांग्रेस प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल ने NEWS18 से बातचीत में कहा कि कांग्रेस हर परिस्थिति के लिए तैयार है. गोहिल ने राजद को पुराना इतिहास याद दिलाते हुए कहा कि जब कांग्रेस थी तो राजद का परिणाम भी बेहतर आया था, अगर अलग-अलग लड़े तो राजद को इसका नुकसान उठाना पड़ेगा. उन्होंने कहा कि आरजेडी का अगर अड़ियल रवैया रहा तो कांग्रेस अपने सहयोगियों के साथ मिल कोई भी कदम उठा सकती है.
बता दें कि इससे पहले दिल्ली में हाई लेवल मीटिंग के बाद बिहार कांग्रेस प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल, मदनमोहन झा, सदानंद सिंह. कोकब क़ादरी और अखिलेश सिंह पटना पहुंचे. मिली जानकारी के अनुसार कांग्रेस के बड़े नेताओं की शुक्रवार को तेजश्वी यादव से मुलाकात हो सकती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज