बिहार चुनाव 2020: फाइनल राउंड में नीतीश के 12 मंत्रियों की साख का सवाल, तेजस्वी के महारथियों की भी परीक्षा

अंतिम चरण में दांव पर नीतीश सरकार के 12 मंत्रियों का भविष्य
अंतिम चरण में दांव पर नीतीश सरकार के 12 मंत्रियों का भविष्य

Bihar Election: आखिरी चरण चुनाव में कुल 12 मंत्रियों में से BJP के 5 और JDU के 7 मंत्री मैदान में हैं. इसके अलावा महागठबंधन के कई महारथियों की परीक्षा भी इस चरण में होनी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 5, 2020, 2:46 PM IST
  • Share this:
पटना. बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Election) के आखिरी चरण के लिए चुनाव प्रचार का शोर गुरुवार को थम जाएगा. आखिरी फेज में महागठबंधन (Mahagathbandhan) की तरफ से 46 सीटों पर आरजेडी तो 25 सीटों पर कांग्रेस (Congress) के उम्मीदवार हैं. सीपीआई (माले) पांच और सीपीआई ने दो सीटें पर अपने प्रत्याशी उतारे हैं. वहीं, एनडीए की ओर से जेडीयू के 37 तो  बीजेपी ने 35 प्रत्याशी अपनी किस्मत आजमा रहे हैं. वीआइपी की 5 और हम भी एक सीट पर चुनाव लड़ रही है. इसके अलावा असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) ने भी करीब दो दर्जन सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे हैं. इसी दौर में विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी भी मैदान में हैं. साथ ही नीतीश सरकार के 12 मंत्रियों की साख भी दांव पर है.

आखिरी चरण की इस लड़ाई में कुल 12 मंत्रियों में से भाजपा के पांच और जदयू के सात मंत्री हैं. जदयू में सिकटा से फिरोज अहमद उर्फ खुर्शीद, बाबूबरही से दिवंगत मंत्री कपिलदेव कामत की बहू मीणा कामत, लौकहा से लक्ष्मेश्वर राय, सुपौल से बिजेंद्र प्रसाद यादव, रूपौली से बीमा भारती, बहादुरपुर से मदन सहनी और आलम नगर से नरेंद्र नारायण यादव की प्रतिष्ठा दांव पर है. बता दें कि सुपौल से सर्वाधिक जीत हासिल करने वाले विजेंद्र प्रसाद यादव दिग्गज मंत्री हैं. खास बात यह है कि विजेंद्र प्रसाद यादव आठवीं बार विधानसभा में पहुंचने की तैयारी में हैं.

भाजपा के इन मंत्रियों की साख का सवाल
भारतीय जनता पार्टी में मुजफ्फरपुर से सुरेश शर्मा, मोतिहारी से प्रमोद कुमार, बेनीपट्टी से विनोद नारायण झा, बनमनखी से कृष्ण कुमार ऋषि और प्राणपुर सीट से दिवंगत मंत्री विनोद सिंह की पत्नी निशा सिंह किस्मत आजमा रही हैं. अहम यह है कि मुजफ्फरपुर से सुरेश शर्मा को हैट्रिक की आस है. मोतिहारी से प्रमोद कुमार लगातार पांचवीं जीत हासिल करने के लिए ताल ठोक रहे हैं. इसी तरह पर्यटन मंत्री कृष्ण कुमार ऋषि भी पांचवीं जीत के लिए भाग्य आजमा रहे हैं.




महागठबंधन के महारथियों की परीक्षा
भाजपा-जदयू के 12 मंत्रियों के अलावा महागठबंधन के कई महारथियों की परीक्षा भी इस चरण में होनी है. इनमें केवटी से अब्दुल बारी सिद्दीकी, बोचहां से रमई राम, हायाघाट से लालू यादव के करीबी भोला यादव जैसे नेताओं के नाम शामिल हैं. वहीं, सुरसंड से सैयद अबु दोजाना, पातेपुर से शिवचंद्र राम, सहरसा से लवली आनंद, खजौली से सीताराम यादव, जोकीहाट से सरफराज आलम, मधेपुरा से चंद्रशेखर, परिहार से रीतु जायसवाल और मोरवा से रणविजय साहू की साख भी दांव पर है.

जबकि, हरलाखी से भाकपा के रामनरेश पांडेय, रामनगर से कांग्रेस के राजेश राम, बेनीपट्टी से भावना झा, अमौर से अब्दुल जलील मस्तान, बिहारीगंज से शरद यादव की पुत्री सुभाषिणी यादव और मुजफ्फरपुर से बिजेन्द्र चौधरी की हार-जीत पर सबकी नजर रहेगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज