बिहार चुनाव में अब क्यों नहीं होती हेमा मालिनी की चर्चा? जानें क्या है लालूृ-नीतीश से कनेक्शन

बिहार चुनाव में अक्सर हेमा मालिनी और लालू यादव से जुड़ी बातों की चर्चा होती है.
बिहार चुनाव में अक्सर हेमा मालिनी और लालू यादव से जुड़ी बातों की चर्चा होती है.

राजनीतिक जानकार कहते हैं कि वादा तो लालू (Lalu) ने किया था, लेकिन सड़कों पर नीतीश सरकार (Nitish Government) ने लालू का वादा पूरा किया है. जाहिर है खराब सड़कों का मुद्दा अब चुनावों से गौन हो चुका है, और विकास के नये पैमानों की बातें होती हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 6, 2020, 11:10 AM IST
  • Share this:
पटना. बिहार चुनाव में नीतीश-लालू की बात हो और हेमा मामलिनी (Hema Malini) की चर्चा न हो, यह कुछ अटपटा सा लगता है. दरअसल, 1995 से लेकर अब तक के जितने भी चुनाव हुए हैं, उसमें किसी न किसी प्रकार फिल्म अभिनेत्री हेमा मालिनी की चर्चा जरूर होती रही है. दरअसल,  इसका कनेक्शन भी लालू और नीतीश से ही जुड़ता है.  बात 1995 के विधानसभा चुनाव की है, तब लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) मुख्यमंत्री थे और जनता के बीच जाकर अपने लिए वोट मांग रहे थे. तब बिहार में सड़क की स्थिति बेहद बुरी थी. सड़कों में गड्ढे हैं या गड्ढे में सड़क, यह भी पता करना मुमकिन नहीं होता था. इसी दौर में लालू यादव ने हेमा मालिनी की एंट्री करवा दी.

बिहार की सड़कों और लालू यादव को लेकर एक किस्सा बहुत प्रसिद्ध है. लालू ने एक बार भाषण में कहा था कि हम बिहार की सड़कों को हेमा जी के गालों की तरह बनाएंगे. लालू यादव ने इस बात को फिर दोहराया और कहा कि बिहार की सड़कों को हेमा मालिनी के गालों की तरह मुलायम और चिकना बना दूंगा. पटना की सभा में लालू के इस भाषण के बाद दूसरे दिन मीडिया में उनके ये शब्द प्रमुखता से छापे गए.

हालांकि, विवाद बढ़ा और एक महिला के अपमान के नाम पर जमकर राजनीति हुई तो लालू कहने लगे कि मैंने ऐसा नहीं कहा था, लेकिन हेमा मालिनी जी हैं बहुत सुंदर. इसके बाद बिहार सरकार के आर्ट एंड कल्चरल डिपार्टमेंट के कार्यक्रम में हेमा मालिनी का डांस ग्रुप हिस्सा लेने आया था. उस कार्यक्रम में लालू प्रसाद यादव हेमा को स्टेज पर देखकर खूब तारीफ करने लगे.



हमेशा बिहार की सड़कों को हेमा मालिनी के गालों जैसी बनाने वाले लालू ने यहां हेमा मालिनी से कहा,  धमेंद्र जी मेरे बड़े भैया हैं तो आप मेरी भाभी हैं. वहीं लालू ने हेमा को बताया कि हम आपसे और आपकी कला से इतना प्यार करते हैं कि हमने अपनी बेटी का नाम हेमा रखा है. हालांकि, लालू और हेमा  मालिनी के कितने बड़े प्रशंसक हैं, इसका अंदाजा इस बात से ही लगता है कि एक पत्रकार के सवाल के जवाब में उन्होंने कहा था कि हेमा मालिनी मेरी फैन हैं तो मैं उनका एयर कंडिशन हूं.
बहरहाल, बिहार बदल चुका है और अब सड़कों में गड्ढे नजर नहीं आते हैं. सड़कों के विकास के लिए सीएम नीतीश के कार्यकाल में खूब कार्य हुए हैं. बिहार के किसी भी कोने से अब छह घंटे में आप अपने फोर व्हीलर से पहुंच सकते हैं. राजनीतिक जानकार कहते हैं कि वादा तो लालू ने किया था, लेकिन सड़कों पर नीतीश सरकार ने लालू का वादा पूरा किया है. जाहिर है खराब सड़कों का मुद्दा अब चुनावों से गौन हो चुका है और विकास के नये पैमानों की बातें होती हैं. लेकिन, लालू यादव के समय की सड़कों से जुड़कर हेमा मालिनी और लालू यादव के किस्से अमर हो गये हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज