Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    बिहार चुनाव: कांग्रेस ने RJD को फिर दिखाई आंख! बोली- सहयोगियों के साथ हम हर परिस्थिति के लिए तैयार

    बिहार कांग्रेस प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल.
    बिहार कांग्रेस प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल.

    Bihar Elections 2020: शक्ति सिंह गोहिल (Shakti Singh Gohil) ने नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव (Tejaswi yadav) की सूझबूझ पर भी सवाल उठाते हुए कहा कि अगर लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) बाहर रहते तो सीट बंटवारे में इस तरह की देरी नहीं होती.

    • News18Hindi
    • Last Updated: October 2, 2020, 6:53 AM IST
    • Share this:
    पटना. महगठबंधन में सीट बंटवारे का मामला उलझा हुआ है और अब कांग्रेस (Congress) ने राजद (RJD) के अड़ियल रुख पर नाराजगी भी जाहिर की है. बिहार कांग्रेस प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल (Shakti Singh Gohil) ने NEWS18 से बातचीत में कहा कि कांग्रेस हर परिस्थिति के लिए तैयार है. गोहिल ने राजद को पुराना इतिहास याद दिलाते हुए कहा कि जब कांग्रेस थी तो राजद का परिणाम भी बेहतर आया था, अगर अलग-अलग लड़े तो राजद को इसका नुकसान उठाना पड़ेगा. उन्होंने कहा कि आरजेडी का अगर अड़ियल रवैया रहा तो कांग्रेस अपने सहयोगियों के साथ मिल कोई भी कदम उठा सकती है.

    शक्ति सिंह गोहिल ने नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव की सूझबूझ पर भी सवाल उठाते हुए कहा कि अगर लालू यादव बाहर रहते तो सीट बंटवारे में इस तरह की देरी नहीं होती. उन्होंने कहा कि अब गेंद राजद के पाले में है. बता दें कि इससे पहले दिल्ली में हाई लेवल मीटिंग के बाद बिहार कांग्रेस प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल, मदनमोहन झा, सदानंद सिंह. कोकब क़ादरी और अखिलेश सिंह पटना पहुंचे. मिली जानकारी के अनुसार कांग्रेस के बड़े नेताओं की शुक्रवार को तेजश्वी यादव से मुलाकात हो सकती है.

    इस बीच खबर ये भी है कि पूर्व सीएम व आरजेडी नेता राबड़ी देवी ने आरजेडी सांसद मनोज झा के माध्यम से कांग्रेस को संदेश भिजवाया है. इसके तहत कांग्रेस को दी जानेवाली सीटों की संख्या निर्धारित कर बताई गई है, जिसमें कांग्रेस को 60 से 65 सीटें देने का ऑफर दिया गया है. सूत्रों के हवाले से खबर है कि कांग्रेस 70 से 80 सीटें मांग रही है.



    बता दें कि सीट शेयरिंग को लेकर बात नहीं बनने पर जीतन राम मांझी की हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा और उपेंद्र कुशवाहा की राष्ट्रीय लोक समता पार्टी महागठबंधन से अलग हो चुकी है. इसी तरह भाकपा माले ने भी अपनी 30 सीटों की सूची जारी कर दी है जिस पर वह अपने कैंडिडेट उतारेगी. ऐसे में राजद और कांग्रेस के बीच जारी खींचतान महागठबंधन की राजनीति के लिए सही संकेत नहीं है.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज