Bihar Asembly Election: रघुवंश सिंह की चिट्ठी पर बोली JDU- राजनीति में निर्लज्जता की पराकाष्ठा, RJD ने दिया यह जवाब

रघुवंश प्रसाद सिंह (फाइल फोटो)

राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी ने कहा है कि रघुवंश प्रसाद सिंह (Raghuvansh prasad singh) ने अबतक जुबान से कुछ नहीं बोला है. चिट्ठी किसने लिखी, कब लिखी इस पर सवाल है.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:
पटना. पूर्व केंद्रीय मंत्री रघुवंश प्रसाद सिंह (Raghuvansh prasad singh) ने गुरुवार को इस्तीफा दिया तो आरजेडी अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) ने उसे नामंजूर करने का एक पत्र जारी कर दिया. लेकिन इससे रघुवंश प्रसाद सिंह का दर्द में कमी नहीं है बल्कि उन्होंने एक पत्र के जरिये अपनी पीड़ा फिर जाहिर की है. उनके पत्र में खास तौर पर राजनीति में परिवारवाद, वंशवाद, सामंतवाद और संप्रदायवाद जैसी बातों का उल्लेख है. बावजूद इसके बिहारी के सियासत को जानने-समझने वाले कहते हैं कि ये सीधे तौर पर लालू यादव के परिवारवाद पर हमला है और ऐसा लगता है कि उनका आरजेडी (RJD) में लौटना नामुमकिन है. अब जब लालू यादव के सबसे करीबी माने जाने वाले ने ही लालू के परिवारवाद पर हमला बोला है तो सूबे की सियासत में हंगामा मच गया है.

रघुवंश प्रसाद के लिखे इस नये पत्र पर जदयू और बीजेपी (JDU and BJP) ने आरजेडी पर हमला करते हुए कहा है कि राजद  वरिष्ठ नेताओं का भी सम्मान नहीं करता. रघुवंश प्रसाद ने अपनी पीड़ा जताई है जिसका नुकसान आरजेडी को भुगतना पड़ेगा. वही लालू की पार्टी ने बचाव करते हुए सबकुछ ठीक कर लेने की बात कही है.

जदयू नेता व बिहार सरकार मं मंत्री नीरज कुमार ने कहा है कि रघुवंश बाबू की विरासत पर तेजस्वी यादव ने हमला किया है. राजनीति में निर्लज्जता की पराकाष्ठा हो गई है. कार्यकर्ताओं की जगह लालू के परिवार का ही फोटो लगता है. रघुवंश बाबू की आह आरजेडी को लगेगी. 28 विधायक पर अब्दुल बारी सिद्दकी नेता बनाये जाते हैं और 80 विधायक बनने पर तेजस्वी नेता हो जाते हैं.

वहीं रघुवंश प्रसाद सिंह के चिट्ठी पर बीजेपी प्रवक्ता निखिल आंनद ने कहा कि आरजेडी को न महापुरषों की फिक्र है और न ही सीनियर नेताओं की. रघुवंश प्रसाद ने अपनी पीड़ा जाहिर की है. एक ही परिवार के लोग राजनीति में कब्जा किये हुए हैं. जिन्होंने अपने वरिष्ठों का ख्याल नहीं किया वो दूसरे का क्या करेगा

इस बीच रघुवंश प्रसाद सिंह की चिट्ठी पर आरजेडी ने सफाई दी है. पार्टी के नेता व प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी ने कहा है कि रघुवंश बाबू आज भी हमारे गार्जियन हैं.  जो भी नाराजगी है लालू जी मिलकर दूर कर लेंगे. रघुवंश बाबू ने अबतक जुबान से कुछ नहीं बोला है. चिट्ठी किसने लिखी, कब लिखी इसपर सवाल है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.