नीतीश फिर एक बार या अबकी बार बिहार में तेजस्वी सरकार? जानने के लिए करना पड़ेगा इंतजार, ये है वजह

बिहार चुनाव 2020
बिहार चुनाव 2020

चुनाव आयोग (Election commission) ने जो निर्देश जारी किए हैं उसके अनुसार मतगणना टेबुल पर कंट्रोल यूनिट और वीवीपैट के केयरिंग केस को लाने के पूर्व सेनेटाइज किया जाएगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 7, 2020, 12:58 PM IST
  • Share this:
पटना. बिहार विधानसभा चुनाव 2020 (Bihar Assembly Elections 2020) इस मायने में अलग है कि यह देश का पहला इलेक्शन है जो कोरोनाकाल (Corona period) में लड़ा जा रहा है आज शाम तीसरे चरण का मतदान खत्म होने के साथ ही सबकी निगाहें दस नवंबर पर टिक जाएंगी क्योंकि इसी दिन चुनाव नतीजे आएंगे. बिहार की सियासत का सिरमौर कौन बनेंगे इसका खुलासा 10 नवंबर को ही होंगा. लेकिन कोरोना प्रोटोकाल के कारण इस बार विधानसभा सीटों के परिणाम आने में देर हो सकती है. दरअसल चुनाव आयोग के दिशा-निर्देशों के अनुसार मतगणना हॉल के अंदर अधिकतम सात मतगणना टेबल ही लगाने की अनुमति है. ऐसे में हर विधानसभा क्षेत्र के लिए 3-4 हॉल की जरूरत होगी.

चुनाव आयोग ने जो निर्देश जारी किए हैं उसके अनुसार मतगणना टेबुल पर कंट्रोल यूनिट और वीवीपैट के केयरिंग केस को लाने के पूर्व सेनेटाइज किया जाएगा. कंट्रोल यूनिट और वीवीपैट के डी सीलिंग और चुनाव परिणाम को प्रदर्शित करने के लिए प्रत्येक टेबल पर एक कर्मी प्रतिनियुक्त होंगे. कोरोनाकाल में चुनाव हो रहे हैं इसलिए बूथों की संख्या में 45 प्रतिशत बढ़ गई थी. जाहिर है इस वजह से भी सभी बूथों के वोटों की गिनती में थोड़ा अधिक समय लगेगा.

आयोग ने सभी स्ट्रांग रूम की सख्त सुरक्षा की व्यवस्था की है. दिशा-निर्देश के अनुसार त्रिस्तरीय सुरक्षा व्यवस्था की गयी है जहां सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं.  कोई भी उम्मीदवार या दल के प्रतिनिधि इसे देख सकते हैं कि वहां क्या घटित हो रहा है. इसके साथ ही कंट्रोल यूनिट के माध्यम से  चुनाव परिणाम बड़े पर्दे पर प्रदर्शित करने की भी व्यवस्था की जा रही है. ताकि मतगणना एजेंट को असुविधा नहीं हो.



चुनाव आयोग ने मतगणना केंद्र को मतगणना शुरू होने, मतगणना के दौरान और मतगणना के बाद इंफेक्शन मुक्त किये जाने का भी निर्देश दिया है. साथ ही पोस्टल बैलेट की गिनती को लेकर अतिरिक्त सहायक निर्वाची पदाधिकारी की आवश्यकता जतायी है. इसके लिए निर्वाची पदाधिकारी/ सहायक निर्वाची पदाधिकारी की देखरेख में अलग हॉल की व्यवस्था करने की स्वीकृति भी दी है.
अपर मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी संजय कुमार सिंह के अनुसार मतगणना केंद्र सभी जिलों में बनाये गए हैं. सभी केंद्रों के सभी प्रवेश द्वार पर सुरक्षा बलों की तैनाती की जाएगी. इसके लिए जिला निर्वाचन पदाधिकारी के स्तर से सभी जिलों में निर्देश जारी किए गए हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज