बिहार चुनाव: सुशील मोदी ने तेजस्वी से पूछे पांच सवाल, बताया कैसे बेरोजगारी दूर करेगा राजद

सुशील कुमार मोदी (फाइल फोटो)
सुशील कुमार मोदी (फाइल फोटो)

सुशील कुमार मोदी (Sushil Kumar Modi) ने तेजस्वी यादव (Tejaswi Yadav) से जो सवाल पूछे हैं उनमें बेरोजगारी दूर करने के उपाय, इतनी कम उम्र में अकूत संपत्ति अर्जित करने जैसे तीखे प्रश्न किए गए हैं. स

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 29, 2020, 9:08 PM IST
  • Share this:
पटना. बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Election) का दूसरा चरण 3 नवंबर को है जिसमें 94 सीटों पर चुनावी संघर्ष होने वाला है. राष्ट्रीय जनता दल के लिए बिहार विधानसभा चुनाव का दूसरा चरण बेहद महत्वपूर्ण है. इस चरण की 94 सीटों में से पिछले चुनाव में करीब एक तिहाई पर राजद (RJD) ने जीत दर्ज की थी. इसी चरण में महागठबंधन की ओर से मुख्यमंत्री पद के चेहरे तेजस्वी प्रसाद यादव (Tejaswi Prasad Yadav) , पूर्व मंत्री तेजप्रताप यादव (Tejpratap Yadav) सहित कई दिग्गजों की चुनावी किस्मत तय होनी है. इस बीच यह साफ हो चुका है कि इस बार का मुकाबला सीधा महागठबंधन और एनडीए के बीच ही है. जाहिर है दोनों पक्षों की ओर से वार-पलटवार का सिलसिला भी जारी है. ऐसे में बिहार भाजपा के नेता व डिप्टी सीएम सुशील  कुमार मोदी (Sushil Kumar Modi) ने महागठबंधन के सीएम उम्मीदवार तेजस्वी यादव से पांच सवाल पूछे हैं और उनके जवाब मांगे हैं.

सुशील कुमार मोदी ने तेजस्वी यादव से जो सवाल पूछे हैं उनमें बेरोजगारी दूर करने के उपाय, इतनी कम उम्र में अकूत संपत्ति अर्जित करने जैसे तीखे प्रश्न किए गए हैं. सबसे खास बात यह है कि दरभंगा की रैली में पीएम मोदी द्वारा तेजस्वी यादव के लिए कहे गए 'जंगलराज के युवराज' शब्द का उपयोग किया गया है. आइये हम नजर डालते हैं सुशील मोदी द्वारा पूछे गए पांच प्रश्नों पर.

सवाल नंबर 1-  जंगलराज के युवराज आज न यह बता रहे हैं कि 10 लाख लोगों को एक झटके में नौकरी देने के लिए 58 हजार करोड़ रुपये कहां से लाएंगे. न वे यह बता पाये कि पटना में 7 लाख 66 हजार वर्गफीट कीमती भूमि पर ‘बिहार का सबसे बड़ा माॅल’ बनवाने के लिए 750 करोड़ रुपये कहां से लाये?
राजद की राजनीति पूरी तरह कालेधन की फंडिंग से चलती है.
सवाल नंबर 2-  तेजस्वी प्रसाद यादव ने न मैट्रिक पास किया, न कोई व्यापार किया और न लाखों रुपये के पैकेज वाली कोई नौकरी ही की. फिर गरीबों के युवा मसीहा के पास इतना धन कहां से आया कि वे 15 मंजिला माॅल में 1,000 दुकानें, शाॅपिंग माॅल्स, मल्टीप्लेक्स और फाइव स्टार होटल बनवा रहे थे?



सवाल नंबर 3-   क्या यह सच नहीं कि पटना की जिस जमीन पर युवराज का "महा मॉल" बन रहा था, उसे जंगलराज के राजा ने 2004 में रेल मंत्री बनते ही आईआरसीटीसी होटल घोटाला के जरिये हासिल किया था? वे जनता को बतायें कि मॉल को जांच के बाद ईडी ने क्यों जब्त कर निर्माण रोक दिया?

सवाल नंबर 4-  केंद्र की यूपीए सरकार के रेल मंत्री लालू प्रसाद ने रेलवे के रांची और पुरी के दो होटलों को हर्ष कोचर की कंपनी को 15 साल के लिए लीज पर देने के एवज में राजद के सांसद प्रेमचंद गुप्ता की पत्नी सरला गुप्ता की कंपनी डिलाइट मार्केटिंग के जरिए हथिया ली थी. क्या बिहार की जनता से वोट मांगने से पहले यह बताया नहीं जाना चाहिए?



सवाल नंबर 5-  युवराज आज अगर चार्टर प्लेन में बर्थडे केक काट कर गरीबों की राजनीति कर रहे हैं, तो जनता को क्यों नहीं बताते कि उन्होंने मात्र 64 लाख रुपये में डिलाइट कंपनी के करोड़ों रुपये मूल्य के सारे शेयर कैसे अपने और माताजी के नाम कर 94 करोड़ रुपये बाजार मूल्य की जमीन हथिया ली थी?
क्या वे फर्जीवाड़ा से गरीबी-बेरोजगारी दूर करने वाला मॉडल थोपना चाहते हैं?
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज