बिहार चुनाव: सीट शेयरिंग पर कांग्रेस-आरजेडी में खींचतान और बढ़ी! मदन मोहन झा और सदानंद सिंह दिल्ली तलब

कांग्रेस नेता सदानंद सिंह (फाइल फोटो)
कांग्रेस नेता सदानंद सिंह (फाइल फोटो)

सीट शेयरिंग के मामले में आरजेडी के राज्य सभा सांसद मनोज झा (Manoj Jha) ने मंगलवार को कहा कि कांग्रेस (Congress) को हठधर्मिता छोड़नी चाहिए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 29, 2020, 7:04 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली/पटना. बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Election) के पहले चरण के मतदान के लिए एक अक्टूबर को अधिसूचना जारी हो जाएगी, लेकिन सूबे में सियासी गठबंधनों के बीच सीट शेयरिंग का मामला अब भी नहीं सुलझा है. एनडीए में तकरार जारी है तो अब महागठबंधन (Grand Alliance) में भी खींचतान का दायरा बढ़ता जा रहा है. सूत्रों से खबर है कि सीटों की दावेदारी को लेकर कांग्रेस-आरजेडी में खींचातन और बढ़ गई है. इसी क्रम में कांग्रेस के बिहार प्रदेश अध्यक्ष मदनमोहन झा (Madanmohan Jha) और विधानमंडल दल के नेता सदानंद सिंह (Sadanand Singh) को बुधवार को दिल्ली बुलाया गया है जहां वे अपराह्न तीन बजे कांग्रेस स्क्रीनिंग कमेटी की  बैठक में शामिल होंगे. बता दें कि आरजेडी ने कांग्रेस को एक तरह से अल्टीमेटम दे दिया है और उसे हठधर्मिता छोड़ने को कहा है. वहीं, कांग्रेस भी आरजेडी के बिना गठबंधन की संभावना तलाशने में जुट गई है.

गौरतलब है कि महागठबंधन (Mahagathbandhan) में सीट शेयरिंग पर अभी भी पेच फंसा हुआ है. खास कर कांग्रेस (Congress) 80 से अधिक सीटों पर चुनाव लड़ने का दावा कर रही है जो आरजेडी (RJD) के लिए टेंशन का सबब है. इसी क्रम में अब आरजेडी के राज्य सभा सांसद मनोज झा (Manoj Jha) ने मंगलवार को कहा कि कांग्रेस को हठधर्मिता छोड़नी चाहिए. मनोज झा ने कहा कि 1 अक्टूबर को पहले चरण के चुनाव के लिए नोटिफिकेशन होगा ऐसे में अब तक स्वरूप साफ़ हो जाना चाहिए था.

उन्होंने कांग्रेस से हठधर्मिता छोड़ने को कहा. आरजेडी सांसद ने कहा कि इस चुनाव के मिज़ाज को समझिए, यह संख्या परिपूर्ण है जो कांग्रेस को दी जा रही है. हमने अपनी सीटों की संख्या कम की है. लेकिन, कांग्रेस की हठधर्मिता से कहीं नुक़सान न हो जाए. इससे कांग्रेस को जल्द फ़ैसला लेना चाहिए.  जितना दिया जा रहा है वो आंकड़ा परिपूर्ण है. हम बाक़ी दलों से बड़े होने के बावजूद अपनी सीटों से समझौता कर रहे हैं.



बता दें कि राष्‍ट्रीय जनता दल, कांग्रेस व वामपंथी दलों समेत कई अन्‍य घटक दलों के बीच सीट शेयरिंग पर बातचीत अंतिम चरण में है, लेकिन कांग्रेस की 80 से अधिक सीटों पर दावेदारी से आरजेडी पसोपेश में है. इस बीच कई दौर की बातचीत के बाद यह भी तय हो गया है कि वाम दल महागठबंधन का हिस्सा बने रहेंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज