Bihar Assembly Elections: CM नीतीश को टारगेट करने में एक क्यों हैं चिराग और तेजस्वी? जानें इनसाइड स्टोरी

तेजस्वी यादव, नीतीश कुमार, चिराग पासवान (फाइल फोटो)
तेजस्वी यादव, नीतीश कुमार, चिराग पासवान (फाइल फोटो)

लोजपा अध्यक्ष चिराग पासवान (Chirag Paswan) के मन में क्या है? क्या आने वाले दिनों में LJP, NDA से अलग हो जायेगी? इस सवाल पर बिहार (Bihar) के सियासी गलियारे में चर्चा जोरों पर है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 18, 2020, 9:56 PM IST
  • Share this:
पटना. बिहार की सियासत के लिहाज से हाल के दिनों के घटनाक्रम पर गौर करें तो साफ है कि आरजेडी नेता तेजस्वी यादव (Tejaswi Yadav) और लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान (Chirag Paswan)  का एक ही एजेंडा है, और वह है सीएम नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) को टारगेट करना. बेरोजगारी, पलायन, बाढ़ या फिर सुशांत सिंह राजपूत मौत (Sushant Singh Rajput death) का मुद्दा ही क्यों न हो, दोनों ही एक अंदाज में ही हमलावर रहे हैं. अब सवाल ये उठ रहा है कि आखिरकार इन दोनों के सुर क्यों मिल रहे हैं? कल तक रामविलास पासवान को मौसम वैज्ञानिक बताने वाली आरजेडी (RJD) आखिर क्यों चिराग पासवान पर नरम पड़ गई है?

लोक जन शक्ति पार्टी के अध्यक्ष  चिराग पासवान के मन में क्या है? क्या आने वाले दिनों में LJP, NDA से अलग हो जायेगी?  इस सवाल पर बिहार के सियासी गलियारे में चर्चा जोरों पर है. इधर बात RJD नोताओं के वक्तव्यों पर गौर करें तो राजद चिराग पासवान को लेकर थोड़ी सॉफ्ट दिख रहा है. RJD विधायक शक्ति सिंह यादव कहते हैं कि चिराग पासवान को बिहार की चिंता है और यही कारण है कि वो लगातार बिहार की खामियों को उजागर कर रहे हैं. वैसे उनके रिश्ते तेजस्वी यादव से बहुत सुंदर हैं, आगे क्या होगा यह अभी कहना उचित नहीं.

वहीं, RJD विधायक विजय प्रकाश का कहना है कि विगत कुछ महीनों से NDA में चिराग पासवान को वो इज्जत वो सम्मान नहीं मिल रहा, जिसके वो हकदार हैं. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार लगातार चिराग पासवान के कद को कम कर आंक रहे हैं जो उचित नहीं है. विजय प्रकाश तो खुलेआम चिराग पासवान को NDA से अलग होकर RJD के साथ आने का न्योता भी देते हुए कहते हैं कि आखिरकार दोनों ही पार्टियों की विचारधारा तो एक ही है.




हालांकि अब बीजेपी और जेडीयू की ओर से डैमेज कंट्रोल करने की कवायद दिख रही है. केंद्रीय मंत्री और बीजेपी नेता आर के सिंह ने न्यूज़ 18 से कहा कि एनडीए गठबंधन में कोई परेशानी नहीं है. हम सभी पार्टियां एकजुट होकर चुनाव लड़ेंगी. एलजेपी और चिराग़ भी हमलोगों के परिवार के सदस्य की तरह हैं और हम पार्टनर भी हैं. समय-समय पर जनता की आवाज़ उठाते रहते हैं, पर इससे हमारे बीच में कोई दुराव नहीं है.

आरके सिंह ने कहा कि परिवार के किसी सदस्य को लगता है कि कोई बिंदु ओवरलुक हो रहा है तो उसका अधिकार है कि सबका ध्यान आकृष्ट हो. यही काम चिराग़ पासवान कर रहे हैं. इसी लाइन पर बीजेपी प्रवक्ता निखिल आनंद ने कहा कि एनडीए में सब ठीक है और सभी मिलकर 200 से ज्यादा सीट जीतेंगे.

हालांकि जिस अंदाज में लोजपा के पूर्व सांसद सूरजभान सिंह ने कहा है कि एलजेपी 143 सीटों पर चुनाव लड़ने को तैयार है उससे तो लगता है कि अभी भी एनडीए के भीतर असहमति बनी हुई है. वहीं, जेडीयू के प्रधान महासचिव केसी त्यागी ने भी उनके इस बयान पर पलटवार करते हुए कहा है कि जेडीयू और बीजेपी मिलकर सभी 243 सीटों पर चुनाव लड़ने की तैयारी कर रही है. जाहिर है देखना दिलचस्प होगा कि ये तल्खी आगे कहां तक पहुंचती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज