Bihar Assembly Elections: तेजस्वी की बढ़ी टेंशन! अब मुकेश सहनी ने डिप्टी सीएम पद के लिए ठोका दावा
Patna News in Hindi

Bihar Assembly Elections: तेजस्वी की बढ़ी टेंशन! अब मुकेश सहनी ने डिप्टी सीएम पद के लिए ठोका दावा
महागठबंधन में सीट शेयरिंग पर अब पेंच फंसा हुआ है. नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव (फाइल फोटो)

आरजेडी (RJD) ने पहले ही ऐलान कर रखा है कि वह 160 सीटों पर उम्मीदवार उतारने की योजना बना रही है. वहीं महागठबंधन (Grand Alliance) के दूसरे बड़े दल कांग्रेस ने 90 से ज्यादा सीटों की डिमांड की है

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 8, 2020, 5:51 PM IST
  • Share this:
पटना. राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन ( NDA) में सीएम नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) और चिराग पासवान (Chirag Paswan) की तल्खी के बीच अब महागठबंधन (Grand Alliance) में भी हलचल मच गई है. दरअसल अलायंस की महत्वपूर्ण घटक विकासशील इंसान पार्टी (VIP) के अध्यक्ष मुकेश सहनी (Mukesh Sahni) ने डिप्टी सीएम के पद का दावा ठोक दिया है. सहनी ने कहा कि हमारी पार्टी का 15 प्रतिशत वोट बैंक है, जिसके साथ रहेंगे उसकी सरकार बनेगी. इस नाते गठबंधन में अति पिछड़ा को डिप्टी सीएम बनाया जाये. हम मजबूत हैं तो दावा क्यों नही कर सकते. उन्होंने एनडीए से मिल रहे ऑफर के सवाल पर कहा कि जो मजबूत होता है उस हर जगह से ऑफर आता है.हम बिहार की लड़ाई लड़ रहे हैं.

राजनीतिक गलियारों में मुकेश सहनी की इस मांग को सीट शेयरिंग में अधिक से अधिक हिस्सेदारी पाने से जोड़कर देखा जा रहा है. कहा जा रहा है कि वीआइपी के अध्यक्ष मुकेश सहनी ने 25 सीटें मांगी हैं. हालांकि महागठबंधन के सूत्रों से खबर मिल रही है कि आरजेडी सहनी की वीआईपी को 15 सीटें देने को राजी है, लेकिन पेच रालोसपा को लेकर फंसा हुआ है. दरअसल रालोसपा ने 49 सीटों की मांग रखी है.

इसी तरह  आरजेडी ने पहले ही ऐलान कर रखा है कि वह 160 सीटों पर उम्मीदवार उतारने की योजना बना रही है. वहीं गठबंधन के दूसरे बड़े दल कांग्रेस ने 90 से ज्यादा सीटों की डिमांड की है. भाकपा-माले की ओर से करीब 50 सीटों की डिमांड की गई है. जाहिर है ऐसे में 243 सीटों के भीतर इस तरह की मांग का निपटारा मुश्किल सबब बनी हुई है.



हालांकि एक ओर जहां छोटी पार्टियों की बड़ी मांग महागठबंधन के लिए परेशानी का सबब है वहीं आरजेडी को भी लगता है कि उपेन्द्र कुशवाहा और मुकेश सहनी की पार्टियों को गठबंधन में महत्व दिए जाने के बाद भी वे अपनी जाति के वोटों को ट्रांसफर करने में सक्षम नहीं नजर आ रहे हैं. अब जब  मुकेश सहनी ने डिप्टी सीएम पद का दावा पेश कर दिया है तो महागठबंधन के लिए और भी मुश्किल घड़ी आ सकती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज