बाढ़ NTPC में हुआ बिजली का रिकॉर्ड उत्पादन, तोड़ा 38 साल पुराना रिकॉर्ड

बाढ़ स्थित एनटीपीसी प्लांट

बाढ़ स्थित एनटीपीसी प्लांट

Barh NTPC: पटना से सटे बाढ़ एनटीपीसी के परियोजना के कार्यकारी निदेशक प्रेम प्रकाश बताते हैं कि तीसरी यूनिट का ग्रिड सिंक्रोनाइजेशन भी हासिल कर लिया गया है और इससे जल्द ही देश को 660 मेगावॉट बिजली की सौगात मिलने वाली है

  • Share this:
पटना. एनटीपीसी (NTPC) बाढ़ परियोजना ने शुक्रवार को नया रिकॉर्ड बनाते हुए अब तक का सर्वाधिक विद्युत उत्पादन हासिल किया है. परियोजना में 19 मार्च को रिकॉर्ड 100.16% पीएलएफ़ के साथ 31.73 मिलियन यूनिट बिजली का उत्पादन (Electricity Production) किया गया. इससे पूर्व, 18 मार्च को भी 31.53 मिलियन यूनिट उत्पादन के साथ परियोजना ने रिकॉर्ड उत्पादन किया था. विगत दिनों में परियोजना से कुशल संचालन और स्थायी विद्युत मांग के चलते बिजली उत्पादन के नए रिकॉर्ड देखने को मिले हैं.

एनटीपीसी समूह के सकल उत्पादन के आंकड़े देखें तो इसी प्रकार के नए रिकॉर्ड हासिल हुए हैं. 18 और 19 मार्च को कंपनी ने लगातार 1182.65 और 1192.19 मिलयन यूनिट बिजली का उत्पादन कर अपने संचालन के 38 वर्ष के सभी रिकॉर्ड तोड़ दिए. एनटीपीसी देश की सबसे बड़ी बिजली उत्पादन कंपनी है और भारत की करीब एक चौथाई विद्युत मांग को पूरा कर रही है.

बाढ़ परियोजना, एनटीपीसी की एक महत्वाकांक्षी परियोजना है जिसमें इस समय 660 मेगावॉट की दो इकाइयां संचालित हैं जिनसे बिहार व अन्य राज्यों तक निर्बाध रूप से बिजली पहुंचाई जा रही है. सभी इकाइयों के वाणिज्यिकरण के बाद परियोजना की कुल स्थापित क्षमता 3300 मेगावॉट हो जाएगी. परियोजना के कार्यकारी निदेशक प्रेम प्रकाश बताते हैं कि तीसरी यूनिट का ग्रिड सिंक्रोनाइजेशन भी हासिल कर लिया गया है और इससे जल्द ही देश को 660 मेगावॉट बिजली की सौगात मिलने वाली है. इस बड़ी उपलब्धि पर बाढ़ एनटीपीसी के अधिकारी से ले कर पूरी टीम में भरी उत्साह है. एनटीपीसी के निरंतर बेहतर काम करने की सभी ने कामना की है.

बाढ़ पहुंचे जेडीयू के सांसद ललन सिंह ने एनटीपीसी की इस उपलब्धि पर खुशी जताई है. सांसद ने कहा कि जब नीतीश कुमार बाढ़ से सांसद थे तभी एनटीपीसी बाढ़ मे आया, जिसका रिजल्ट सब के सामने है. ललन ने एनटीपीसी के अधिकारियों से अपील की है कि वो भय मुक्त वातावरण में काम करते रहें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज