Home /News /bihar /

उपेंद्र कुशवाहा का साथ छोड़ RLSP के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ने पकड़ा नीतीश का दामन

उपेंद्र कुशवाहा का साथ छोड़ RLSP के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ने पकड़ा नीतीश का दामन

भगवान सिंह कुशवाहा (फाइल फोटो)

भगवान सिंह कुशवाहा (फाइल फोटो)

राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष भगवान सिंह कुशवाहा जेडीयू में शामिल हो गए हैं. जेडीयू के प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह की उपस्थिति में उन्होंने सैकड़ों समर्थकों के साथ पार्टी की सदस्यता ग्रहण की.

    राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष भगवान सिंह कुशवाहा जेडीयू में शामिल हो गए हैं. जेडीयू के प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह की उपस्थिति में उन्होंने सैकड़ों समर्थकों के साथ पार्टी की सदस्यता ग्रहण की. भगवान सिंह कुशवाहा का जेडीयू में शामिल होना उपेन्द्र कुशवाहा के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है.




    इस मौके पर पर भगवान सिंह कुशवाहा ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बिहार में विकास की रेखा खींची है. उनके नेतृत्व में प्रदेश में चहुंओर विकास हुआ है. उनके हाथ को और मजबूत करने के लिए उन्होंने जेडीयू में शामिल होने का निर्णय किया है.

    ये भी पढ़ें- महागठबंधन में अनंत सिंह की 'NO ENTRY', तेजस्वी ने बताया 'BAD ELEMENT'

    उन्होंने साफ किया कि उपेन्द्र कुशवाहा ने एनडीए छोड़ दिया है ऐसी स्थिति में उनके साथ रहना उचित नहीं था. भगवान सिंह ने साफ किया कि उपेंद्र कुशवाहा को एनडीए छोड़ने के समय भी उन्हें रोका था, लेकिन वह नहीं माने. इसके बाद हम विकास के रास्ते पर चलने वाले नीतीश कुमार के साथ आ गए.

    ये भी पढ़ें-  DGP के सख्त लेटर पर तेजस्वी के तल्ख तेवर, कहा- मुख्यमंत्री ने थानों को नीलाम किया

    आपको बता दें कि उपेन्द्र कुशवाहा के दो विधायक सुधांशु शेखर और ललन पासवान ने पहले ही आरएलएसपी छोड़ दिया है, वहीं एक एमएलसी भी पार्टी से अलग हो गए हैं. जाहिर है ऐसे में उपेन्द्र कुशवाहा का कद महागठबंधन में क्या रहने वाला है इसको लेकर सवाल उठ रहे हैं.

    ये भी पढ़ें-  थानेदार की 'बदतमीजी' पर तेजप्रताप ने CM नीतीश को लिखा लेटर, निलंबन की मांग

     


    Tags: Bihar News, Jdu, Upendra kushwaha

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर