भोजपुरी स्टार खेसारी लाल यादव की फैंस से इमोशनल अपील- मेरे घर अभी मत आना, देखें VIDEO
Patna News in Hindi

भोजपुरी स्टार खेसारी लाल यादव की फैंस से इमोशनल अपील- मेरे घर अभी मत आना, देखें VIDEO
खेसारी लाल ने अपनी खेती के अनुभव को शेयर करते हुए कहा कि किसान बनना सौभाग्‍य की बात है. (फाइल फोटो)

खेसारी लाल ने एक वीडियो जारी कर (Release video) अपने फैन्स से कहा , ‘मैं धान रोपने के बाद एक बेहद जरूरी काम से मुंबई आ गया हूं. आपके आ रहे कॉल से पता चला कि आप मुझसे मिलने मेरे गांव आ रहे हैं.

  • Share this:
पटना. लॉकडाउन में भी भोजपुरी स्टार्स (Bhojpuri Stars) के लिए प्यार ऐसा है कि लोग उनसे मिलने के लिए उनके घर पहुंच रहे हैं. दरअसल, कुछ दिन पहले भोजपुरी सुपर स्‍टार खेसारी लाल यादव (Khesari Lal Yadav) अपने खेत में धान रोपाई करते नजर आए थे. इसके बाद उनके घर पर उनके फैन्स उनसे मिलने के लिए पहुंच रहे हैं. जिसपर खेसारी लाल ने अपने फैन्स से कहा है कि आप लॉकडाउन (Lockdown) के नियमों का पालन करें. मास्क और सैनिटाइजर लगाएं. साथ ही साबून से बार-बार हाथ धोते रहें. उसके अलावा उन्होंने फैंस से कहा कि दो-गज की दूरी बना कर रहें. जो लोग मुझसे मिलने मेरे घर आ रहे हैं आपसब को कहूंगा कि बिहार में लॉकडाउन है. इसीलिए आप लॉकडाउन के नियमों का पालन करें. अभी मेरे घर पर न आएं, क्‍योंकि आप परेशान होंगे जब मैं नहीं मिलूंगा.

लॉकडाउन का करें पालन
खेसारी लाल ने एक वीडियो जारी कर (Release video) अपने फैन्स से कहा , ‘मैं धान रोपने के बाद एक बेहद जरूरी काम से मुंबई आ गया हूं. आपके आ रहे कॉल से पता चला कि आप मुझसे मिलने मेरे गांव आ रहे हैं. ऐसे में मैं आप सभी लोगों से कहना चाहूंगा कि बिहार में लॉकडाउन है. अभी आप से मुलाकात नहीं हो पाएगी. वो इसलिए कि मैं अब वापस मुंबई आ गया हूं. मैं फिर आउंगा, तब तक आप अपने घरों में ही रहें. इसके लिए मैं आपसे क्षमाप्रार्थी हूं.आप सब अपना ख्याल रखें.

प्रवासी मजदूरों को कहा अपने प्रदेश में करें काम 
खेसारी लाल ने अपनी खेती के अनुभव को शेयर करते हुए कहा कि किसान बनना सौभाग्‍य की बात है. हमारी कोशिश है कि हम आपसे जुड़े रहें. आप ये समझें कि हम आज भी आपके बीच से हैं. हमने पहले भी खेती की है और इस बार भी धान रोपने का बेहद मजा आया. जो लोग आज खेती से दूर हैं और दूसरे जगहों पर जाकर काम कर रहे हैं, उनसे मेरा कहना है कि हो सके तो अपने प्रदेश में काम करें. मेरा मानना है कि हमें अपने जड़ों को भूलना नहीं चाहिए. खेती किसानी ने हमें बनाया है. यह हमारे मां- बाप की तरह है. इसलिए हम कितने भी बड़े क्‍यों न हो जायें, हमें अपने से जुड़कर रहना चाहिए. उन्‍होंने कहा कि जय जवान, जय किसान, जय विज्ञान ये तीनों चीज हमारे जीवन के सूत्रधार हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज