लाइव टीवी

बिहार बोर्ड की बड़ी लापरवाही, मैट्रिक परीक्षा में दो स्कूलों के 300 छात्रों को मिले शून्य अंक

News18 Bihar
Updated: May 9, 2019, 6:15 PM IST
बिहार बोर्ड की बड़ी लापरवाही, मैट्रिक परीक्षा में दो स्कूलों के 300 छात्रों को मिले शून्य अंक
बिहार बोर्ड द्वारा जारी क्रॉस लिस्ट में दो स्कूलों के 300 परीक्षार्थियों को एक ही विषय में शून्य अंक आए.

मामला शेखपुरा जिले के बरबीघा मेहूस उच्च विद्यालय और पचना हाईस्कूल का है. यहां के सभी बच्चों को संस्‍कृत विषय में शून्य अंक मिले हैं.

  • Share this:
बिहार विद्यालय परीक्षा समिति की बड़ी लापरवाही उजागर हुई है. बोर्ड ने सैकड़ों छात्रों के साथ ऐसा खिलवाड़ किया है जो उनके भविष्य को खराब कर देगा. एक तो मैट्रिक परीक्षा का रिजल्ट जारी होने के एक महीने बाद भी छात्रों को अंक पत्र नहीं मिले हैं. दूसरा बोर्ड ने स्कूलों के पास क्रॉस लिस्ट जरूर भेजे हैं, लेकिन इसमें बड़ी खामियां सामने आ रही हैं. फिलहाल जो मामला सामने आया है, उसके अनुसार दो स्कूलों के 300 बच्चों का भविष्य दांव पर लग गया है.

मामला शेखपुरा जिले के बरबीघा मेहूस उच्च विद्यालय और पचना हाईस्कूल का है. यहां के सभी बच्चों को ऑब्जेक्टिव में शून्य अंक मिले हैं. दोनों स्कूल के सभी 300 बच्चों को संस्कृत विषय में जीरो नंबर दिए गए हैं. छात्रों को यह जानकारी पहले से नहीं थी कि वे आखिर फेल कैसे हुए और उन्हें शून्य नंबर कैसे मिले? लेकिन स्कूल में बोर्ड का क्रॉस लिस्ट पहुंचते ही इस बात का खुलासा हो गया.

रिजल्‍ट में सुधार करने की मांग

सभी बच्चों को संस्कृत के सब्जेक्टिव में तो नंबर मिले हैं, लेकिन ऑब्जेक्टिव में जीरो नंबर दिया गया है. क्रॉस लिस्ट हाथ लगते ही अब शेखपुरा के जिला शिक्षा पदाधिकारी (DEO) ने भी माना है कि बोर्ड ने गलती की है. DEO ने बोर्ड को पत्र लिखकर मांग किया है कि सभी बच्चों के भविष्य को देखते हुए रिजल्ट में सुधार किया जाए.

वहीं, बिहार राज्य माध्यमिक शिक्षक संघ के संयुक्त सचिव विनय मोहन ने भी बोर्ड की इस लापरवाही पर संज्ञान लिया है. संघ ने राज्य सरकार से इस मामले की जांच की मांग करने के साथ ही दोषी अधिकारियों और कर्मचारियों के खिलाफ भी कार्रवाई की मांग की है.

मार्क्‍सशीट ने मिलने से छात्र परेशान

गौरतलब है कि राज्य के ऐसे कई स्कूल हैं जिन्हें रिजल्ट घोषित होने के एक महीने बाद भी क्रॉस लिस्ट और मार्क्सशीट नहीं मिले हैं. ऐसे में छात्रों को एडमिशन कराने में भी परेशानी हो रही है. खासकर उन छात्रों को जिन्हें बिहार से बाहर दाखिला लेना है, उन्हें जल्द से जल्द मार्क्सशीट की दरकार है.
Loading...

राजधानी पटना के भी कई स्कूल हैं जिन्हें न तो मार्क्सशीट मिले हैं और न ही क्रॉस लिस्ट भेजे गए हैं. पटना के बापू स्मारक उच्च विद्यालय के शिक्षक अभिषेक ने बताया कि पैसा बकाया होने की वजह से बोर्ड ने कई स्कूलों का क्रॉस लिस्ट नहीं भेजा है. बहरहाल अब शिक्षक सवाल खड़े कर रहे हैं कि आखिर समय पर रिजल्ट जारी करने का छात्रों को क्या फायदा मिला? न तो पूरी तरह से गड़बड़ी ही रुकी और न ही समय पर दाखिला हो पाएगा. हालांकि, न्यूज 18 ने बोर्ड का पक्ष जानने के लिए अध्यक्ष और सचिव से संपर्क करने की कोशिश की लेकिन कोई जवाब नहीं मिला.

रिपोर्ट- रजनीश कुमार

ये भी पढ़ें-  JDU MLC बोले- NDA को नहीं मिलेगा बहुमत, नीतीश को बनाएं PM का चेहरा

ये भी पढ़ें- जीतन राम मांझी बोले- औरंगजेब न्यायप्रिय शासक, हिन्‍दुओं के नरसंहार का आरोप सिद्ध नहीं हुआ

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 9, 2019, 5:35 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...