Assembly Banner 2021

पटना में प्लटेफॉर्म टिकट के लिए देना होगा 50 रुपए, परिजनों को स्टेशन छोड़ने में जेब होगी ढीली

आज से बिहार के सभी रेलवे स्टेशनों पर प्लेटफॉर्म टिकट मिलने शुरू हो गए हैं. (सांकेतिक तस्वीर)

आज से बिहार के सभी रेलवे स्टेशनों पर प्लेटफॉर्म टिकट मिलने शुरू हो गए हैं. (सांकेतिक तस्वीर)

Platform Ticket Price Hike: कोरोना संक्रमण की रोकथाम को लेकर दानापुर रेल मंडल ने पटना समेत कई स्टेशनों पर प्लेटफॉर्म टिकट का दाम बढ़ाया. शुक्रवार से 10 रुपए की जगह 50 रुपए में मिल रहा है प्लेटफॉर्म टिकट.

  • Last Updated: March 6, 2021, 11:14 AM IST
  • Share this:
पटना. अब पटना के किसी स्टेशन पर अगर आप अपने परिजनों को छोड़ने जा रहे हैं तो आपकी जेब 5 गुना ज्यादा ढीली हो सकती है. दानापुर मंडल के सभी स्टेशनों पर प्लेटफॉर्म टिकट का दाम अब 50 रुपए  कर दिया है. कोरोना के संक्रमण के कारण पिछले लगभग साल भर से प्लेटफॉर्म बंद कर दिए गए थे, जिससे प्लेटफॉर्म टिकट की जरूरत बंद हो गई थी. लेकिन अब रेलवे ने शुक्रवार से प्लेटफॉर्म खोल दिए हैं और प्लेटफॉर्म टिकट की शुरुआत भी कर दी है. अब प्लेटफॉर्म टिकट का शुल्क 10 रुपय की जगह 50 रुपए कर दिया गया है.

बता दें, रेलवे ने फिलहाल कोरोना की स्थिति को देखते हुए प्लेटफॉर्म टिकट का दाम बढ़ाने का फैसला लिया है. पूर्व मध्य रेलवे के सीपीआरओ राजेश कुमार के मुताबिक कोरोना के दौरान बड़ी संख्या बड़े संख्या में लोग अपने परिजनों को छोड़ने स्टेशन पहुंचते रहे. स्टेशन पर भीड़ जमा हो जाने के कारण सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं हो पाता था. इसके कारण प्लेटफॉर्म को बंद रखा गया था. अब प्लेटफॉर्म को खोला गया है साथ ही प्लेटफॉर्म टिकट का दाम बढ़ाया गया है. हालांकि प्लेटफॉर्म टिकट के दामों की यह बढ़ाई गई कीमत स्थायी नहीं है. आने वाले समय में कोरोना की स्थिति को देखते हुए दाम कम किए जाएंगे.

बढ़े दाम का दिखने लगा असर


प्लेटफॉर्म टिकट के दाम 50 रुपए हो जाने के बाद इसका असर स्टेशनों पर दिखने लगा है. अपने परिजनों को स्टेशन तक छोड़ने आए लोग प्लेटफॉर्म टिकट के दाम सुनकर ही चौंक रहे हैं. परिजन प्लेटफॉर्म पर जाने के बजाए बाहर से ही छोड़ रहे हैं. दिल्ली के लिए अपने परिजन को स्टेशन छोड़ने आए योगेंद्र साव ने कहा कि प्लेटफॉर्म टिकट का मूल्य 50 रुपए बहुत ज्यादा है. बेटे को छोड़ने आया हूं और 50 रुपए देकर टिकट खरीदा. कोरोना से बचाव के लिए जरूरी है कि लोग कम से कम प्लेटफॉर्म तक आएं, पर इसे जल्दी कम किया जाना चाहिए. क्योंकि एक झटके 10 की जगह 50 रुपए दाम कर देना परेशान करने वाला है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज