बिहार: Covid-19 में लगे ANM-फार्मासिस्ट ने कहा-धन्यवाद से घर नहीं चलता मंत्रीजी
Patna News in Hindi

बिहार: Covid-19 में लगे ANM-फार्मासिस्ट ने कहा-धन्यवाद से घर नहीं चलता मंत्रीजी
आयुष चिकित्सकों के बराबर वेतमान की मांग की करते हुए कर्मचारी

बिहार के दानापुर में मेडिकल स्टाफ एएनएम और फार्मासिस्ट ने स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय (Mangal Pandey) से कहा कि हमें समान के काम के लिए समान वेतन दिया जाए. प्रदर्शनकारियों ने तंज कसते हुए कहा कि हमारा घर सिर्फ धन्यवाद से नहीं चलता है.

  • Share this:
दानापुर. बिहार के दानापुर से एक खबर आ रही है. दानापुर स्टेशन पर कोविड-19 में लगे मेडिकल स्टाफ एएनएम और फार्मासिस्ट ने आज अपने कार्य स्थल पर काम के दौरान काला बिल्ला लगाकर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं. एएनएम और फार्मासिस्ट ने स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय से मांग की है कि हम लोगों को समान काम के लिए समान वेतन दिया जाए. अभी जो वेतन मिल रहा है, वह न्यूनतम वेतन से भी कम है जिसकी वजह से हम लोगों को परिवार चलाने में बहुत कठिनाई हो रही है.

2015 में हुई थी इनकी बहाली

एएनएम प्रियंका कुमारी का कहना है कि आरडीएस प्रोग्राम के तहत 2015 में उनकी बहाली हुई थी. उसके बाद आयुष चिकित्सक का वेतनमान दुगना कर दिया गया और हम लोग अभी तक उसी वेतनमान पर काम कर रहे हैं. हम लोगों को समान काम का समान वेतन मिलना चाहिए. उन्होंने कहा कि अभी हमारी ड्यूटी कोविड-19 दानापुर स्टेशन पर लगी हुई है और वहाँ हम लोग पूरी ताकत लगा कर अपनी सेवाएं दे रहे हैं फिर भी सरकार हमें न्यूनतम मजदूरी दे रही है. इसमें हमारे परिवार का भरण-पोषण नहीं हो पा रहा है.



पूरी ताकत लगा कर हम कोविड-19 में दे रहे ड्यूटी
प्रियंका कुमारी का कहना है कि जो वेतन एएनएम को दिया जा रहा है, हम लोगों को भी वही वेतनमान मिलना चाहिए. सरकार हमेशा हमें धन्यवाद देती है कि आप कोविड-19 में बेहतरीन काम कर रहे हैं. लेकिन हम सरकार से विनम्र शब्दों में कहना चाहते हैं कि कि धन्यवाद से हमारा घर नहीं चलता है. अगर आप सचमुच हमें धन्यवाद देना चाहते हैं तो हमारे वेतनमान में बढ़ोत्तरी कर दीजिए और जो फार्मासिस्ट का वेतनमान 37 से 44 हजार है वही हमलोगों का भी दीजिए.

वेतनमान दुगुना किया जाए

उन्होंने कहा कि हमें 12 हजार मिल रहा है और हमारे साथ हुई बहाल हुए एक आयुष डॉक्टर का वेतनमान दोगुना कर दिया गया लेकिन हम लोग का वेतनमान नहीं बढ़ाया गया है. हमलोगों का वेतनमान बढ़ाया जाना चाहिए. अगर एएनएम का वेतनमान बउन लोग का बढ़ा है तो हम लोग का भी बढ़ना चाहिए।हम मंत्री जी आपसे हाथ जोड़कर निवेदन करते हैं कि हमारा इससे घर नहीं चलता है ।

12 हजार रुपये में घर चलाना मुश्किल

वहीं दुल्हन बाजार प्रखंड के फार्मासिस्ट विकास कुमार का भी कहना है कि आप देख रहे हैं कि कोविड-19 में दानापुर स्टेशन में हमारी ड्यूटी लगातार लगी हुई है. हमारा काम काफी कठिन और जोखिम भरा होता है. हम यात्रियों की स्क्रीनिंग करते हैं और यात्री स्क्रीनिंग टेस्ट में पास हो जाते हैं तभी उन्हें संबंधित जिले में भेजा जाता है. हमें इस काम के लिए सिर्फ 12 हजार रुपये दिए जा रहे हैं. हम सभी की एक ही विज्ञापन के माध्यम से बहाली हुई थी लेकिन उनका मानदेय 20 हजार से बढ़ाकर 44000 कर दिया गया, जबकि साथ में बहाल हुए फार्मासिस्ट की वेतन में वृद्धि नहीं की गई.

ये भी पढ़ें: जेल में बंद लालू को सुशील कुमार मोदी ने दी 'गंगाजल' और 'अपहरण' देखने की सलाह

बिहार में फिर से कोरोना का कहर, 18 नए केस के साथ 629 हुई मरीजों की संख्या
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज