बिहार एंटी राइट बटालियन को मिलेगी पैलेट गन, रेपिड एक्शन फोर्स जैसी होगी पावर

जिले में मौजूद पुलिस बल का 10% हिस्सा बटालियन की जिला इकाई के रूप में रखा जाएगा. डीएसपी स्तर के अधिकारी प्रभारी होंगे.

News18 Bihar
Updated: August 10, 2019, 5:07 PM IST
बिहार एंटी राइट बटालियन को मिलेगी पैलेट गन, रेपिड एक्शन फोर्स जैसी होगी पावर
बिहार एंटी राइट बटालियन को अब मिलेगा पैलेट गन
News18 Bihar
Updated: August 10, 2019, 5:07 PM IST
बिहार (bihar) सरकार ने एंटी रॉयट बटालियन को कश्मीर (kashmir) में पत्थरबाजों के खिलाफ इस्तेमाल किए जा रहे पैलेट गन से लेकर एंटी राइट गैस गन जैसे छह हथियारों से लैस करने का फैसला किया है. दंगों से निपटने के लिए सरकार ने सीआरपीएफ की रैपिड एक्शन फोर्स की तर्ज पर बटालियन का पूरा खाका तैयार कर लिया है.

पैलेट गन के साथ दिए जाएंगे थ्री-वे ग्रेनेड
सरकार का प्लान है कि  बीएमपी की महिला सशस्त्र वाहिनी (सासाराम), बीएमपी-6 (मुजफ्फरपुर) और बीएमपी-7 (कटिहार) को विशेषीकृत दंगा निरोधी बटालियन के रूप में विकसित किया जाएगा. बटालियन के जवानों की हर साल तीन हफ्ते की बीएमपी-6 (मुजफ्फरपुर) में ट्रेनिंग होगी. इसकी 1-1 कंपनियां पटना, भागलपुर, छपरा व दरभंगा में रखी जाएंगी. जवानों को 7.62 एमएम 1 ए1 एसएलआर, 9 एमएम पिस्टल, एंटी राइट गैस गन, मल्टी शाॅट गैस गन व पैलेट गन के साथ थ्री-वे ग्रेनेड दिए जाएंगे.

 पटना में जिला बल की 2 कंपनियां रखी जाएंगी

ऐसा फैसला किया गया है कि जिले में मौजूद पुलिस बल का 10% हिस्सा बटालियन की जिला इकाई के रूप में रखा जाएगा.  डीएसपी स्तर के अधिकारी प्रभारी होंगे. दंगा निरोधी बल के अफसरों व जवानों का कार्यकाल 4 साल का होगा. उसके बाद जिला सशस्त्र बल में भेज दिया जाएगा. पहले चरण में शिवहर, शेखपुरा, लखीसराय, सुपौल, अरवल, नवगछिया, बगहा, अररिया, बांका, बक्सर, कैमूर, जहानाबाद, रेल पटना, रेल मुजफ्फरपुर, रेल कटिहार और रेल जमालपुर में जिला दंगा निरोधी बल के 1-1 प्लाटून रखे जाएंगे. वहीं पटना में जिला बल की 2 कंपनियां रखी जाएंगी.

इसके अलावा मोतिहारी, बेतिया, सीतामढ़ी, वैशाली, समस्तीपुर, मधुबनी, सहरसा, मधेपुरा, पूर्णिया, कटिहार, नालंदा, बेगूसराय, नवादा, भोजपुर, रोहतास, औरंगाबाद, मुंगेर, सारण, सीवान, गोपालगंज, किशनगंज, जमुई, खगड़िया, मुजफ्फरपुर, गया, भागलपुर और दरभंगा में 1-1 कंपनी रखी जाएगी.

 विधि-व्यवस्था कि अलग-अलग शाखाएं होंगी
Loading...

राज्य में पुलिस के काम को विधि-व्यवस्था और अनुसंधान में अलग-अलग बांटने का खाका तैयार हो गया है. विधि-व्यवस्था पर नजर रखने के लिए क्षेत्रीय आईजी-डीआईजी, एसएसपी-एसपी, एसडीपीओ और अंचल पुलिस निरीक्षक के स्तर पर टीमें तैनात की जाएंगी. पुलिस मुख्यालय में विधि-व्यवस्था 1, 2 और 3 अलग-अलग शाखाएं होंगी.

 विधि-व्यवस्था 3 का कार्यक्षेत्र पूरा बिहार होगा
विधि-व्यवस्था 1 के हिस्से गंगा के उत्तर के जिले, 2 के जिम्मे गंगा के दक्षिण के जिले जबकि 3 का कार्यक्षेत्र पूरा बिहार होगा. विधि-व्यवस्था 1 और 2 के जिम्मे भूमि, सांप्रदायिक व जातीय विवाद, बिजली-सड़क-पानी को लेकर होने वाली घटनाएं, छात्र व किसान-मजदूर आंदोलन रहेंगे. वहीं विधि-व्यवस्था 3 को चुनाव, गणतंत्र व स्वतंत्रता दिवस, होली, दशहरा, रामनवमी, मुहर्रम, बकरीद के साथ ही राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति और प्रधानमंत्री की यात्रा की जिम्मेदारी होगी.

ये भी पढ़ें:

क्या मांझी NDA में शामिल होंगे? JDU नेताओं ने कही ये बात...

मुठभेड़ में कुख्यात नक्सली ढेर, लखीसराय में एक गिरफ्तार

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 10, 2019, 5:07 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...