Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    बिहार चुनाव 2020: JDU का वो 'Trump Card', जो पलट सकता है चुनावी पासा!

    NDA में सीटों का बंटवारा हो गया है.
    NDA में सीटों का बंटवारा हो गया है.

    Bihar Assembly Election 2020: जेडीयू के लिए नीतीश कुमार (Nitish Kumar) 'तुरुप के पत्ते' के तौर पर हैं. 2020 में होने वाले विधानसभा चुनाव में मुख्यमंत्री का चेहरा भी हैं. राजनीति के जानकारों की मानें तो फिलहाल, नीतीश कुमार को टक्कर देने वाला कोई दूसरा चेहरा नहीं है.

    • Share this:
    पटना. बिहार (Bihar) के सियासत में आखिर जेडीयू (JDU) के पास ऐसा क्या है, जो दूसरे किसी भी पार्टी के पास नहीं है. जेडीयू अपने इसी 'तुरुप के पत्ते' के सहारे अपने सहयोगी से लेकर विरोधियों तक पर लगातार भारी पड़ता रहा है. इस बार होने वाले विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Election 2020) में भी जेडीयू फिर से उसी तुरुप के पत्ते (Trump Card) के सहारे विरोधियों को शिकस्त देने की तैयारी कर रहा है. जेडीयू के इस तुरुप के पत्ते की काट भी फ़िलहाल किसी भी पार्टी के पास नहीं है.

    नीतीश कुमार: जेडीयू के मुख्यमंत्री के चेहरे के साथ-साथ NDA के भी सी एम के दावेदार. 2004 में पहली बार जब से NDA के मुख्यमंत्री का चेहरा बने तब से लेकर आज तक बिहार में कोई भी गठबंधन हो CM पद का चेहरा नीतीश कुमार ही रहे. 2004 से 2010. 2010 में NDA का मुख्यमंत्री का चेहरा नीतीश कुमार ही थे. 2014 के विधानसभा चुनाव में महागठबंधन का CM चेहरा नीतीश कुमार बने और बिहार में महगठबंधन की सरकार बन गई. अब 2020 में NDA का मुख्यमंत्री का चेहरा एक बार फिर से नीतीश कुमार बने हैं, जो महगठबंधन को टक्कर दे रहे हैं.

    जेडीयू का 'तुरुप का पत्ता' नीतीश कुमार ही माने जा रहे हैं, जो बिहार के किसी भी राजनीतिक दल के पास ऐसा तुरुप का पत्ता नहीं है जो जेडीयू के इस पत्ते क बराबर खड़ा हो सके. दरअसल, इसी तुरुप के पत्ते के सहारे जेडीयू बिहार में किसी भी गठबंधन के लिए जीत की कुंजी बना हुआ है और कोई भी पार्टी हो या गठबंधन, जेडीयू के साथ गठबंधन को मजबूर रहता है. इस बार के चुनाव में भले ही महगठबंधन का CM का चेहरा तेजस्वी यादव हैं, लेकिन नीतीश को टक्कर दे सकें, ऐसे हालात नहीं बन रहे हैं. 2020 के चुनाव में नीतीश कुमार के चेहरे पर भले ही चिराग़ पासवान सवाल खड़ा कर जेडीयू के ख़िलाफ़ मोर्चा खोले बैठे हैं, लेकिन जब NDA के टिकट का ऐलान करने भाजपा के वरिष्ठ नेता बैठे तो सब एक सुर में कहते दिखे कि मुख्यमंत्री का चेहरा तो नीतीश कुमार ही रहेंगे.



    ये भी पढ़ें: Hathras Case: CDR में बड़ा खुलासा, पीड़िता के भाई और मुख्य आरोपी के बीच हुई 5 घंटे बात
    बिहार की सियासत का खास चेहरा 

    बिहार के वरिष्ठ पत्रकार रवि उपाध्याय कहते हैं कि नीतीश कुमार बिहार के सियासत में ऐसे शख़्सियत हैं जो किसी बड़े वोट बैंक नहीं होने के बावजूद अपनी छवि के बदौलत अपने विरोधियों से लेकर सहयोगियों पर भारी पड़ते हैं. फ़िलहाल बिहार में दूसरा ऐसा कोई चेहरा नहीं दिखता जो इस चेहरे को टक्कर दे सके.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज