Bihar Assembly Election 2020: कुम्हरार में अब तक हुए दो चुनाव, दोनों ही बार BJP ने लहराया परचम

कुम्हरार सीट पर बीजेपी एक बार फिर जीत दर्ज करने के लिए कमर कसे है. (सांकेतिक फोटो)
कुम्हरार सीट पर बीजेपी एक बार फिर जीत दर्ज करने के लिए कमर कसे है. (सांकेतिक फोटो)

कुम्हरार में BJP की राह आसान बना रहे हैं एक लाख कायस्‍थ वोटर, वहीं अब कांग्रेस और आरजेडी के सामने इस मुश्किल को अपना फायदा बनाने की बड़ी चुनौती को पार करना है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 27, 2020, 10:35 PM IST
  • Share this:
पटना. परिसीमन के बाद बनी कुम्हरार विधानसभा सीट पर अभी तक दो बार ही चुनाव हुआ है और दोनों ही बार यहां पर BJP ने जीत का परचम लहराया है. इन चुनावों में बीजेपी है‌ट्रिक मारने की पूरी कोशिश में है. कुम्हरार सीट पर कायस्‍थ समाज का दबदबा है और इसी बात का सीधा फायदा बीजेपी उठाती आई है. बीजेपी के अरुण सिन्हा ने यहां पर दो बार कांग्रेस और एलजेपी को मात दी है. हालांकि अब एलजेपी बीजेपी के साथ गठबंधन में है. बात की जाए यहां के तानेबाने की तो यहां पर पूरी तरह से चुनाव जातिगत वोटों पर ही टिका है.

चार लाख वोटरों में एक लाख कायस्‍थ
कुम्हरार की खास बात ये है कि यहां पर चार लाख वोटरों में से एक लाख से ज्यादा वोटर कायस्‍थ समाज के हैं. अरुण सिन्हा ने इनको साधने का काम बखूबी किया है. वहीं अब कांग्रेस और आरजेडी के सामने इन्हीं वोटरों को मनाने का बड़ा काम है. कायस्‍थ के बाद यहां पर भूमिहार और अतिपिछड़ा वोटरों की भी बड़ी संख्या है. यहां पर करीब 54 फीसदी पुरुष और 45 फीसदी महिला वोटर हैं.

तीस हजार वोटों से जीत
पिछले चुनावों में इस सीट पर केवल 38 फीसदी ही मतदान हुआ था. हालांकि इस दौरान बीजेपी के अरुण सिन्हा को 56 फीसदी वोट मिले और उसके बाद कांग्रेस के आकिल हैद को करीब 50 हजार वोटों पर संतुष्ट होना पड़ा था. अरुण कुमार सिन्हा बीजेपी के कद्दावर नेताओं में शुमार किए जाते हैं और उन्होंने लगातार दो बार यहां से चुनाव जीता है. पिछले दिनों ही अरुण कुमार एक बार सुर्खियों में आ गए थे जब उनके घर पर चोरों ने हमला किया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज