बिहार चुनाव: 'हमें प्रचार में नहीं काम पर यकीन, अब बिहारी कहलाना गर्व की बात', CM नीतीश ने जनता के नाम लिखा पत्र

नीतीश कुमार ने बिहार की जनता के नाम पत्र लिखा.
नीतीश कुमार ने बिहार की जनता के नाम पत्र लिखा.

सीएम नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) ने लिखा कि अगली बार सेवा का मौका मिलता है तो हम सात निश्चय के द्वितीय चरण को लागू करेंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 8, 2020, 2:49 PM IST
  • Share this:
पटना. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) ने प्रदेश की जनता के नाम एक पत्र लिखा है. बुधवार को जनता दल यूनाइटेड (JDU) अध्यक्ष के हैसियत से लिखे गए इस पत्र में सीएम नीतीश ने 2005 के बाद से अपने कार्यकाल के दौरान की उपलब्धियां बताई हैं. साथ ही उन्होंने यह भी बताया है कि अगर इस विधानसभा चुनाव के बाद जनता उन्हें मौका देती है तो वे आने वाले समय में क्या करेंगे.

मुख्यमंत्री ने इस पत्र में लिखा है कि अब बिहारी (Bihari) कहलाना अपमान नहीं बल्कि गर्व का विषय है. हमने जो किया वह सब आपके सामने है. लोगों की सेवा करना ही हमारा धर्म है. हम काम में यकीन रखते हैं, प्रचार में नहीं. आइये एक नजर डालते हैं सीएम नीतीश की लिखी गई चिट्ठी पर.

प्रिय बहनों, भाइयों एवं सम्मानित बुजुर्गों,



मैं आपको धन्यवाद देना चाहूंगा कि आप सभी ने वर्ष 2005 से मुझे बिहार की सेवा करने का मौका दिया. हमलोगों ने समाज में अमन चैन और भाईचारे का वातावरण बनाया, डर का माहौल खत्म हुआ और सभी क्षेत्रों में विकास का मार्ग प्रशस्त हुआ. हमने शिक्षा स्वास्थ्य के क्षेत्र पर विशेष ध्यान दिया है. छात्र-छात्राओं को साइकिल पोशाक छात्रवृत्ति दी गई. अस्पतालों में इलाज की बेहतर व्यवस्था की गई हजारों सड़कों और पुलों का निर्माण किया गया जिससे 6 घंटे में राज्य के सबसे दूरस्थ इलाकों से भी पटना पहुंचना संभव हो सका. विकसित बिहार के सात निश्चयों के तहत हर घर में बिजली पहुंचा दी गई. हर घर में शौचालय का काम, हर टोले तक संपर्कता का काम लगभग पूर्ण है. 83% घरों में पीने का पानी और अधिकांश घरों तक पक्की गली-नालियां बना बन गई हैं. लक्ष्य लगभग पूरा हुआ है और बचे हुए कार्य भी शीघ्र पूर्ण होंगे. पंचायती राज संस्थाओं तथा नगर निकायों में 50% आरक्षण के अलावा महिलाओं को सरकारी नौकरियों में 35% आरक्षण दिया गया. दस लाख से अधिक जीविका समूह के माध्यम से 1 करोड़ 20 लाख महिलाओं को जोड़ा गया इससे उनमें चेतना आई.

मुख्यमंत्री ने बिहारवासियों को संबोधित करते हुए आगे लिखा कि हमलोगों ने समाज में अमन-चैन और भाईचारे का वातावरण बनाते हुए समाज के सभी तबके के लिए काम किया. खास तौर पर पिछड़े व कमजोर वर्ग के लोगों को विकास की मुख्यधारा में लाये.



काम तो हमने हर समुदाय और समाज के सभी वर्गों के लिए किया खासकर महिला अनुसूचित जाति जनजाति अति पिछड़ा वर्ग तथा अल्पसंख्यकों को विकास की मुख्यधारा में लाने के लिए कई कल्याणकारी कार्य कार्यक्रम चलाए गए हैं. किसानों की आय बढ़ाने के लिए कई योजनाएं चलाई गई हैं. पूर्ण शराबबंदी लागू की गई है. शराबबंदी के लिए तथा बाल विवाह दहेज प्रथा के विरुद्ध सामाजिक अभियान चलाया गया है. लोक शिकायत निवारण कानून के उपयोग से लोगों को समस्याओं का समाधान हो रहा है. जल जीवन हरियाली अभियान के माध्यम से जलवायु परिवर्तन के खतरों से निबटने के लिए काम हो रहा है.


सीएम नीतीश कुमार ने आगे लिखा कि अगली बार सेवा का मौका मिलता है तो हम सात निश्चय के द्वितीय चरण को लागू करेंगे. साथ ही बिहार को स्वावलंबी बनाएंगे.

कोरोना काल में लोगों को राहत पहुंचाने जांच एवं चिकित्सा व्यवस्था के लिए हमने लगभग 10000 करोड़ से अधिक की राशि खर्च की है. हमें अभी भी सजग और सचेत रहने की जरूरत है. आपदा प्रबंधन में हमारे पहले कोई खास काम नहीं होता था. हमने ही लोगों को राहत पहुंचाना शुरू किया हम जमीन पर काम करने में यकीन करते हैं प्रचार में नहीं. यदि हमें अगली बार सेवा का मौका मिलता है तो हम सात निश्चय के द्वितीय चरण को लागू करेंगे. यह निश्चय में युवा शक्ति को हुनरमंद बनाने महिलाओं को सक्षम एवं स्वावलंबी बनाने, हर खेत तक सिंचाई का पानी पहुंचाने,  स्वच्छ एवं समृद्ध गांव तथा शहर बनाने, महत्वपूर्ण स्थानों तक सुलभता पहुंचाने के साथ-साथ मनुष्य एवं पशुओं के लिए बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं देने का संकल्प है.


बिहारी कहलाना अपमान नहीं बल्कि गर्व का विषय है. हमने जो काम किया वह सब आपके सामने है. लोगों की सेवा करना ही हमारा धर्म है. मुझे विश्वास है कि आपके सहयोग और आशीर्वाद से आने वाले दिनों में हम राज्य को विकास की ओर ऊंचाइयों तक पहुंचाते हुए सक्षम एवं स्वावलंबी बिहार बनाएंगे. धन्यवाद, जय बिहार
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज