बिहार चुनाव: 'RJD के पोस्टर में लालटेन तो नजर आ रही है, लेकिन लालू गायब हैं'

बीजेपी प्रवक्ता ने आरजेडी पर आरोप लगाए हैं. (फाइल फोटो)
बीजेपी प्रवक्ता ने आरजेडी पर आरोप लगाए हैं. (फाइल फोटो)

बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Election) की तिथि नजदीक आते ही नेताओं का क्षेत्र में दौरा शुरू हो गया है.

  • News18 Bihar
  • Last Updated: September 27, 2020, 1:45 PM IST
  • Share this:
अररिया. बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Election) की तिथि नजदीक आते ही नेताओं का क्षेत्र में दौरा शुरू हो गया है. भारतीय जनता पार्टी (BJP) के राष्ट्रीय प्रवक्ता सैयद शाहनवाज हुसैन आगामी चुनाव को लेकर सीमांचल दौरे पर है. अररिया के सांसद प्रदीप सिंह के आवास पर प्रेस वार्ता में शहनवाज हुसैन ने राष्ट्रीय जनता दल पर तीखा हमला करते हुए कहा कि लालू यादव बड़े नेता हैं. बिहार के इस चुनाव में यह पहला मौका होगा जब लालू यादव चुनावी मैदान में नहीं होंगे, लेकिन लालू के पुत्र ने ही उनकी तस्वीर राष्ट्रीय जनता दल के पोस्टर से हटा दी है.

शहनवाज ने कहा कि लालू यादव का लालटेन तो नजर आ रहा है, लेकिन पोस्टर में लालू जी गायब है. तेजस्वी यादव अपने पिता लालू जी पर अब चर्चा भी नहीं करना चाहते. संवाद हुसैन ने कहा कि बिहार में सुशासन के प्रतीक विकास पुरुष नीतीश कुमार के नेतृत्व में हर क्षेत्र में विकास दिख रहा है, जो राजद के कार्यकाल में शून्य था. उन्होंने कहा कि आरजेडी के कार्यकाल में विकास की योजना का बजट 23885 करोड़ था, जो अब  211000 करोड़ रुपये का बजट हो गया है. उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य के क्षेत्र में जहां राजद कार्यकाल में 1000 करोड़ का बजट था वही अब एनडीए की सरकार में 10935 करोड़ का बजट हो गया है.

नये मेडिकल कॉलेज बनाए
शहनवाज ने कहा कि एनडीए की सरकार में 15 नए मेडिकल कॉलेज खोले गए हैं. उसी तरह एग्रीकल्चर में आरजेडी के कार्यकाल में 241 करोड़ का बजट था. जबकि बीजेपी और जदयू की सरकार में यह बजट 3152 करोड़ का हो गया है. कुछ इसी तरह पशुपालन को जोड़ दिया जाए तो यह बजट 1178 करोड़ रुपयों का हो गया है. आरजेडी के कार्यकाल में 835 किलोमीटर सड़कें बनी थी, लेकिन 1920 की बात करें तो 94500 किलोमीटर सड़कें बनी है, जिसमें ₹40000 से अधिक की लागत आई है. बिहार और केंद्र सरकार का भी इसमें योगदान है. बिहार में पुल का एप्रोच पथ बह जाता है तो हंगामा हो जाता है, लेकिन 1975 से लेकर 2005 मसलन कांग्रेस और राजद के कार्यकाल तक महज 314 पुल का निर्माण हुआ.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज