Bihar Election Result 2020: महागठबंधन ने कांग्रेस पर फोड़ा ठीकरा, RJD नेता ने राहुल गांधी पर लगाया हार का इल्जाम

राजद नेता ने राहुल गांधी पर बड़ा आरोप लगाया है.
राजद नेता ने राहुल गांधी पर बड़ा आरोप लगाया है.

Bihar Assembly Election Result 2020: बिहार चुनाव (Bihar Election 2020) में हार के बाद महागठबंधन में बयानबाजी का दौर शुरू हो गया है. राजद के सीनियर लीडर शिवानंद तिवारी (Shivanand Tiwari)  ने हार का ठीकरा राहुल गांधी (Rahul Gandhi) पर फोड़ दिया है.

  • Share this:
पटना. बिहार चुनाव (Bihar Election 2020) में हार के बाद महागठबंधन में सिर फुटौवल शुरू हो गया है. राजद ने बिहार चुनाव के हार का ठीकरा राहुल गांधी (Rahul Gandhi) पर फोड़ दिया है. राजद के सीनियर लीडर शिवानंद तिवारी (Shivanand Tiwari)  ने कांग्रेस पर करारा हमला करते हुए कहा कि राहुल गांधी ने बिहार चुनाव को हल्के में लिया. शिवानंद तिवारी ने कहा, 'प्रियंका गांधी बिहार क्यों नहीं आईं? कांग्रेस ने राजद का हांथ ऐंठकर जबरन 70 सीट ले लिया, जबकि पार्टी 70 चुनावी सभा भी नहीं कर पाई.

राहुल गांधी की क्षमता पर शिवानंद तिवारी ने सवाल उठाते हुए कहा कि पीएम मोदी ने एक दिन में 3-4 सभाएं की, जबकि राहुल की उम्र उनसे कम है. बावजूद इसके उन्होंने एक दिन में दो ही सभा क्यों की? कांग्रेस ने उत्तर प्रदेश में भी यही किया था अखिलेश की उदारता का फायदा उठाया और अब बिहार में तेजस्वी ने भी उदारता दिखाई और ज्यादा सीटें दे दी. उन्होंने कहा कि कांग्रेस हमेशा अतीत में खोई रहने वाली पार्टी है.

कांग्रेस ने किया पलटवार



वहीं शिवानंद तिवारी के आरोपों पर कांग्रेस विधायक शकील अहमद ने पलटवार करते हुए कहा कि शिवानंद तिवारी कांग्रेस के विरोध में राजनीति की शुरुआत की थी. बीजेपी के सहारे वे राज्यसभा गए थे. आज इस तरह की बात करने का समय नहीं है. राजद को इस तरह के बयानों पर संज्ञान लेना चाहिए. तेजस्वी सभी सहयोगी दलों को एक मुट्ठी मानते हैं और उनके नेता अनर्गल बयानबाजी कर रहे है. सभी को इस तरह के बयान से बचना चाहिए .


ये भी पढ़ें: पाकिस्तान से 28 साल बाद वतन लौटे शमशुद्दीन की घर वापसी लटकी, अमृतसर में फंसा

हालांकि महागठबंधन में चुनाव के बाद यह बयानबाजी का शुरुआती दौर माना जा रहा है. खास कर कांग्रेस पर क्योंकि बिहार कांग्रेस के कई नेता पहले से ही बिहार के बड़े नेताओं को अपने टारगेट पर रखे हुए थे. अब चुनाव में हार ने उन्हें एक बड़ा मौका दे दिया है. लेकिन सहयोगियों का एक दूसरे पर हमला करना यह भी बताता है कि अंदरखाने में सब ठीक नही है और आने वाले दिन में टकराहट और बढ़ सकती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज