Bihar Assembly Elections: दागदार उम्मीदवारों पर निर्वाचन विभाग का डंडा, अखबारों में छपवाने होंगे मामले

बिहार के 55 फीसदी विधायकों पर आपराधिक मुकदमे दर्ज हैं.
बिहार के 55 फीसदी विधायकों पर आपराधिक मुकदमे दर्ज हैं.

Bihar Assembly Elections: निर्वाचन विभाग ने दागदार उम्मीदवारों (Tainted Candidates) को लेकर नया गाइडलाइन जारी किया है. इन उम्मीदवारों को अपने ऊपर दर्ज मामलों की जानकारी अखबारों के माध्यम से लोगों को देनी होगी.

  • News18 Bihar
  • Last Updated: September 21, 2020, 9:11 PM IST
  • Share this:
पटना. बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Elections) में दागदार उम्मीदवारों (Tainted Candidates) को सदन से बाहर रखने और बेदाग छवि के उम्मीदवारों के चयन के लिए निर्वाचन विभाग ने पारदर्शी व्यवस्था की है. निर्वाचन विभाग ने दागदार उम्मीदवारों को लेकर नया गाइडलाइन जारी किया है. गाइडलाइन के मुताबिक जिसके ऊपर आपराधिक मुकदमे हैं, उन्हें निर्धारित तिथि के अंदर समाचार पत्रों में मामलों की जानकारी देते हुए प्रकाशन कराना होगा. प्रकाशन के बाद इसकी प्रति को अगले दिन अपने विधानसभा क्षेत्र के रिटर्निंग ऑफिसर को देना होगा.

निर्वाचन विभाग ने समय सीमा तय किया

आपराधिक छवि के प्रत्याशियों के लिए अपने मामलों को समाचार पत्रों में प्रकाशित करवाने की तिथि निर्धारित कर दी गई है.



उपमुख्य निर्वाचन पदाधिकारी बैजू नाथ कुमार सिंह ने बताया कि जिन उम्मीदवारों पर आपराधिक मामले लंबित हैं उनको प्रारूप 26 की कंडिका पांच-छह में दर्ज करना होता है. इसमें संशोधन करते हुए यह प्रावधान किया गया है कि अब जिन प्रत्याशियों के खिलाफ मामले दर्ज हैं उनको तीन बार समाचार पत्रों में प्रकाशन कराना होगा. पहली बार विज्ञापन नाम वापसी के चार दिनों के अंदर ही विधानसभा क्षेत्र में प्रसारित होने वाले अखबारों में प्रकाशित कराना है. दूसरी बार नाम वापसी के पांचवें से आठवें दिन के अंदर आपराधिक मामलों का विज्ञापन जारी करना होगा. तीसरा विज्ञापन मतदान के ठीक एक दिन पहले प्रकाशित करना है.
बिहार के 55 फीसदी विधायकों पर दर्ज हैं आपराधिक मुकदमे

राजनीतिक दलों के तमाम दावो के बाद भी चौकाने वाली तस्वीर यह है कि बिहार के 55 फीसदी विधायकों पर अपराध के मुकदमे दर्ज हैं. इलेक्शन वाच के द्वारा हाल ही में जारी आंकड़ों के मुताबिक 243 विधायकों में से 136 विधायकों पर आपराधिक मुकदमे दर्ज हैं. इन सभी 136 विधायकों में से 94 विधायकों पर गंभीर आपराधिक आरोप हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज