Bihar Assembly Elections: सीटों के ऑफर से 'नाखुश' LJP ले सकती है बड़ा फैसला!

चिराग ने मंगलवार को दिल्ली के एक मंदिर में जाकर अपने पिता के जल्द स्वस्थ होने की कामना की.  (फाइल फोटो)
चिराग ने मंगलवार को दिल्ली के एक मंदिर में जाकर अपने पिता के जल्द स्वस्थ होने की कामना की. (फाइल फोटो)

Bihar Assembly Elections 2020: साल 2015 में हुए विधानसभा चुनाव में LJP ने 42 सीटों पर चुनाव लड़ा था, जिनमें से दो सीटों पर उसे जीत मिली थी. उस समय जदयू (JDU) महागठबंधन की साझेदार थी.

  • भाषा
  • Last Updated: September 30, 2020, 7:09 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली.  बिहार विधानसभा चुनाव 2020 (Bihar Assembly Elections 2020) को लेकर चुनाव आयोग ने तारीखों का ऐलान कर दिया है, लेकिन अभी तक एनडीए, महागठबंधन और अन्य दलों के बीच सीटों का बंटवारा नहीं हो पाया है. जहां महागठबंधन में सीटों को लेकर कांग्रेस का RJD के साथ पेंच फसा हुआ है, वहीं NDA में LJP सीट शेयरिंग को लेकर नाखुश है. अब खबर है कि लोजपा इस बात पर विचार-विमर्श कर रही है कि बिहार की 243 विधानसभा सीटों पर होने वाले चुनाव में एनडीए की पेशकश को स्वीकार किया जाए या फिर 143 सीटों पर चुनाव लड़ने की अपनी योजना पर आगे बढ़ा जाए. पार्टी सूत्रों से यह जानकारी मिल रही है.

सूत्रों ने बताया कि पार्टी कुछ ही दिनों में इस संबंध में फैसला ले सकती है. तीन चरणों में होने वाले चुनाव के पहले चरण के लिये नामांकन की प्रक्रिया 1 अक्टूबर से शुरू होने जा रही है. राजग के तीन साझेदार दलों जदयू, भाजपा और लोजपा के बीच सीटों के बंटवारे को लेकर अभी आधिकारिक रूप से कुछ नहीं कहा गया है. वैसे सूत्रों का कहना है कि लोजपा को लगभग 27 सीटों की पेशकश की गई है.

साल 2015 में हुए पिछले चुनाव में लोजपा ने 42 सीटों पर चुनाव लड़ा था, जिनमें से दो सीटों पर उसे जीत मिली थी. उस समय जदयू महागठबंधन की साझेदार थी, जिसने राजग को बुरी तरह हरा दिया था. सूत्रों ने कहा कि लोजपा नेता इस बात से नाराज हैं कि पार्टी जिन सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारना चाहती है, उन सीटों की पेशकश उसे नहीं की गई है. लोजपा ने उन खबरों को भी खारिज किया कि उसके 6 सांसदों में से कुछ विधानसभा चुनाव में पार्टी के राजग से बाहर आने के खिलाफ हैं. पार्टी ने वैशाली से सांसद वीना देवी का वीडियो संदेश भी जारी किया, जिसमें उन्होंने 143 सीटों पर चुनाव लड़ने का समर्थन किया है.



लोजपा अध्यक्ष चिराग पासवान भाजपा नेतृत्व की प्रशंसा कर संकेत दे रहे हैं कि अगर उनकी पार्टी जदयू के कोटे में जाने वाली सीटों पर चुनाव लड़ने का फैसला करती भी है तो भी भाजपा के खिलाफ उम्मीदवार नहीं उतारेगी. सूत्रों ने कहा कि भाजपा ने भी राज्य की विधानपरिषद में लोजपा को कुछ सीटों की पेशकश की है. पार्टी के संरक्षक तथा चिराग के पिता रामविलास पासवान के अस्पताल में भर्ती होने के चलते पार्टी के लिये गठबंधन साझेदारों के साथ सीटों के बंटवारे को लेकर स्वीकार्य समझौता करना अधिक मुश्किल हो गया है.
चिराग ने मंगलवार को दिल्ली के एक मंदिर में जाकर अपने पिता के जल्द स्वस्थ होने की कामना की. भाजपा चाहती है कि राजग अटूट रहे और इसके तीनों साझेदार मिलकर बिहार विधानसभा चुनाव लड़ें. लोजपा के साथ जदयू के संबंध अच्छे नहीं कहे जा सकते हैं. वह लोजपा के साथ सीटों के बंटवारे को लेकर कोई समझौता करने से भी इनकार कर चुका है. जदयू ने कहा है कि लोजपा का गठबंधन भाजपा के साथ है न कि उसके साथ. बिहार में तीन चरणों में चुनाव होना है. पहले चरण के लिये 28 अक्टूबर, दूसरे चरण के लिये तीन नवंबर और तीसरे चरण के लिये सात नवंबर को मतदान होगा. 10 नवंबर को मतगणना होगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज