बिहार विधानसभा में हंगामे के बीच विशेष सशस्त्र पुलिस विधेयक पास, जमकर हुआ बवाल, देखें तस्वीरें

पुलिस विधानसभा के अंदर घुसी और विपक्ष के विधायकों को सदन के बाहर निकाला.

पुलिस विधानसभा के अंदर घुसी और विपक्ष के विधायकों को सदन के बाहर निकाला.

विधानसभा के भीतर विशेष सशस्त्र पुलिस विधेयक को लेकर हंगामा हुआ. ये हंगामा इस कदर बढ़ गया कि पुलिस की मदद लेनी पड़ी. पुलिस विधानसभा के अंदर घुसी और विपक्ष के विधायकों को सदन के जबरन बाहर निकाला.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 24, 2021, 2:52 PM IST
  • Share this:
पटना. बिहार विधानसभा में मंगलवार को भीतर और बाहर जमकर हंगामा देखने को मिला. दिन में आरजेडी कार्यकर्ताओं ने विधानसभा को घेरने का प्रयास किया. इस दौरान पुलिस से उनकी झड़प हुई. पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया. जमकर पत्थरबाजी भी हुई. पुलिस समेत कई मीडियाकर्मियों को भी चोटें आई. नेता प्रतिपक्ष तेजस्‍वी यादव और उनके बड़े भाई तेज प्रताप यादव को हिरासत में लिया गया. शाम होते-होते विधानसभा के भीतर विशेष सशस्त्र पुलिस विधेयक को लेकर हंगामा हुआ. ये हंगामा इस कदर बढ़ गया कि पुलिस की मदद लेनी पड़ी. बताया जाता है कि आरजेडी विधायकों ने विधानसभा अध्यक्ष को बंधक बना लिया था. पुलिस विधानसभा के अंदर घुसी और विपक्ष के विधायकों को सदन के जबरन बाहर निकाला. इस दौरान जो तस्वीरें सामने आईं, उस पर विपक्ष ने बिहार पुलिस को कटघरे में खड़ा कर दिया है.

दरअसल, बिहार विधानसभा में शाम 4:30 बजे के बाद सदन की कार्यवाही होनी थी लेकिन उससे पहले आरजेड़ी समेत तमाम विपक्ष के विधायक विधानसभा अध्यक्ष के गेट पर बैठ गए और अध्यक्ष को बंधक बना लिया. इसके बाद अतिरिक्त पुलिस बल को बुलाया गया. पुलिस अध्यक्ष के गेट पर बैठे विधायकों को हटाने के लिए बारी-बारी से सबको बाहर उठाकर फेंकने लगी. इस दौरान आरजेड़ी विधायक सतीश कुमार को चोट लग गईं, उन्हें अस्पताल भेजा गया.

Youtube Video


पुलिस पर कई विधायकों को पीटने का आरोप
विधायक सत्येंद्र कुमार ने आरोप लगाया कि डीएम के कहने पर उनके साथ मारपीट की गई. छाती पर बूट रख कर मारा गया है. विधायक ने दावा किया कि उनके छाती पर चोट लगी है. उन्होंने कहा कि ये ज्यादती नहीं, लोकतंत्र की हत्या है. विधायक ने कहा कि महिला विधायकों को मारा गया है.

आरोप है कि पुलिस ने कई विधायकों को जमकर पीटा. विधायकों को घसीट-घसीट कर बाहर किया.

महिला विधयकों को उठाकर बाहर फेंका गया



विधानसभा की कार्यवाही शुरू करने के पहले विपक्ष की महिला विधायक विधानसभा अध्यक्ष के कुर्सी के पास पहुंची थी. महिला पुलिस बुलाकर महिला विधयकों को उठा-उठाकर बाहर फेंका गया. आरजेडी विधायम किरण देवी, कांग्रेस विधायक प्रतिमा कुमारी और आरजेडी विधायक अनिता देवी ने पुलिस पर मारपीट करने का आरोप लगाया है. आरजेडी विधायको को सदन से बाहर किए जाने की तस्वीरें भी आईं. विधायकों को पीटते हुए बाहर ले जाने की भी तस्वीरें कैमरें में कैद हो गईं.

इसी बीच बिहार में विधायकों पर लाठीचार्ज पर आरजेडी सांसद मनोज झा का राज्यसभा में नोटिस दिया है. उन्होंने अपने एक ट्वीट में लिखा, "माननीय मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी, आपके इशारे और इरादे के अनुरूप विधानसभा के अन्दर इस तरह की अमानवीय पुलिसिये हमले की गूंज कल संसद में भी सुनाई देगी. तैयार रहिये. नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव इसे मुकम्मल अंजाम तक ले जाकर आपकी विदाई सुनिश्चित करेंगे."

तेजस्वी ने नीतीश कुमार को घेरा

आरजेडी विधायकों के साथ पुलिस की कार्रवाई पर नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार को घेरा. उन्होंने अपने एक ट्वीट में कहा, "सदन के अंदर माननीय विधायकों पर डंडे. बाहर सड़क पर बेरोजगारों युवाओं पर डंडे. नीतीश कुमार थर्ड ग्रेड पार्टी का थर्ड ग्रेड नेता बनने के बाद मानसिक दिवालियेपन के शिकार हो गए हैं."

तेजस्वी यादव ने मीडिया को संबोधित करते हुए कहा, "आज एक काला कानून लाया गया. आज ऐसा पहली बार हो रहा है जिसमें पुलिस को लोंकतत्र के मंदिर में बुलाया गया. हमारे विधायाकों को पीटा गया. महिला विधायक को घीसाटा गया. ये सब हमारे मुख्यंमत्री के आदेश के बाद हुआ."
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज