Home /News /bihar /

बीजेपी अध्यक्ष का दावा- जननायक कर्पूरी ठाकुर की हुई थी हत्या

बीजेपी अध्यक्ष का दावा- जननायक कर्पूरी ठाकुर की हुई थी हत्या

जननायक कर्पूरी ठाकुर जयंती के बहाने जहां सभी राजनीतिक दल अतिपछड़ों के प्रति हमदर्दी जता रहे हैं, वहीं बिहार बीजेपी के अध्यक्ष ने उनकी मौत पर सवाल खड़े कर दिए हैं.

    जननायक कर्पूरी ठाकुर जयंती के बहाने सभी राजनीतिक दल अतिपछड़ों की राजनीति करने में लगे हैं. बिहार बीजेपी के अध्यक्ष ने उनकी मौत पर सवाल खड़े कर दिए हैं. बीजेपी नेता ने यह कहते हुए एक नई बहस छेड़ दी है कि कर्पूरी ठाकुर की हत्या हुई थी.

    बिहार प्रदेश भाजपा कार्यालय में अतिपिछड़ा प्रकोष्ठ की तरफ से आयोजित कर्पूरी ठाकुर जयंती समारोह में प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय ने कहा कि जननायक कर्पूरी ठाकुर की मृत्यु स्वभाविक नहीं थी बल्कि उनकी हत्या हुई थी. बीजेपी अध्यक्ष ने बिहार सरकार से कर्पूरी ठाकुर की मौत की जांच कराने की भी मांग की है.

    इसी कार्यक्रम में बीजेपी नेता सुशील कुमार मोदी ने आरक्षण की सीमा को पचास फीसदी से बढ़ाकर साठ फीसदी करने के लिए देश के सभी राजनीतिक दलों से सहमति बनाने की मांग प्रधानमंत्री से की है. वहीं पूर्व प्रदेश अध्यक्ष मंगल पाण्डेय और नेता प्रतिपक्ष प्रेम कुमार ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव पर यह कहते हुए जुवानी वार किया कि कांग्रेस का विरोध कर मुख्यमंत्री बनने वाले दोनों नेता सिर्फ कुर्सी की लालच में कांग्रेस की गोद में जा बैठे हैं.

    कर्पुरी ठाकुर की जीवन यात्रा

    कर्पूरी ठाकुर का जन्म ब्रिटिश शासन काल के दौरान 24 जनवरी 1924 को समस्तीपुर के पितौंझिया गांव में हुआ था. पितौंझियी को अब कर्पूरीग्राम भी कहा जाता है. कर्पूरी ठाकुर पहली बार 22 दिसंबर 1970 को और दूसरी बार 24 जून 1977 को बिहार के मुख्यमंत्री बने. जनननायक के नाम से मशहूर कर्पूरी ठाकुर 1952 की पहली विधानसभा चुनाव में जीतने के बाद कभी नहीं हारे. कर्पूरी ठाकुर का निधन 64 साल की उम्र में 17 फरवरी, 1988 को दिल का दौरा पड़ने से हुआ था.

    Tags: Karpoori Thakur, Nityanand Rai

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर