बिहार: BJP नेता ने कहा, अगर 2010 हुआ तो 2015 भी हो जाएगा, जानें क्या है मामला

भाजपा नेता मिथिलेश तिवारी ने सीट शेयरिंग को लेकर अपने तल्ख तेवर दिखाए हैं.

मिथिलेश तिवारी ने यह बात साफ-साफ कही है कि अगर आगामी बिहार विधान सभा चुनाव में JDU ने 2010 का फार्मूला अपनाया तो BJP की राह एक बार फिर से 2015 की ही तरह JDU से जुदा हो जाएगी.

  • Share this:
    पटना. बिहार विधान सभा चुनाव (Bihar Assembly election) में शीट शेयरिंग के मुद्दे पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) भले ही यह कह रहे हो कि NDA में सब कुछ ठीक है, लेकिन JDU और BJP के नेताओं की बातों से यह साफ लग रहा है NDA में अंदरखाने विद्रोह की आग सुलग रही है. कम से कम यह BJP के प्रदेश उपाध्यक्ष मिथिलेश तिवारी (Mithilesh Tiwary) के बयान से तो यही लग रहा है कि इस बार सीट शेयरिंग आसान नहीं रहने वाला है.

    दरअसल मिथिलेश तिवारी ने यह बात साफ-साफ कही है कि अगर आगामी बिहार विधान सभा चुनाव में JDU ने 2010 का फार्मूला अपनाया तो BJP की राह एक बार फिर से 2015 की ही तरह JDU से जुदा हो जाएगी. उन्होंने यह भी कहा कि सियासत में कोई स्थाई दोस्त या दुश्मन नहीं होता है.

    बता दें कि हाल में ही सीट बंटवारे को लेकर जेडीयू के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर ने कहा था, बीजेपी को सीटों के बंटवारे को लेकर JDU के प्रस्ताव पर जरूर विचार करना चाहिए. मुझे लगता है कि जेडीयू को आगामी चुनाव में 50 फीसदी से ज्यादा सीटें मिलनी चाहिए.

    प्रशांत किशोर ने इसके लिए एक फॉर्मूला भी दिया था और कहा था कि वर्ष 2010 में हुए समझौते की तरह जेडीयू का बीजेपी से सीट बंटवारे को लेकर अनुपात 1 बटे 1.4 ही रहेगा. इसके बाद बिहार में बीजेपी नेताओं ने काफी तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की थी और पीके की बातों को तवज्जो नहीं देने की बात कही थी.

    हालांकि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने BJP-JDU के बीच गठबंधन के बारे में कहा था कि 'सब ठीक है'. इसके बाद गुरुवार को बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और देश के गृह मंत्री अमित शाह ने भी कहा कि एनडीए सीएम नीतीश कुमार के नेतृत्व में लड़ेगा और सीटों के बंटवारे पर अभी बात होनी बाकी है.

    बहरहाल शीर्ष  नेताओं के बयानों के बावजूद बिहार में बीजेपी के नेताओं के तेवर काफी तल्ख दिख रहे हैं. खास तौर पर सीटों के बंटवारे में 60:40 के अनुपात की बात पर काफी तीखी प्रतिक्रिया सामने आती है. दरअसल बीजेपी लोकसभा चुनाव के आधार पर बराबरी का फॉर्मूला चाहती है, जबकि जेडीयू नेताओं काम मानना है कि 2010 का फॉर्मूला लागू हो.

    इनपुट- अमित कुमार

    ये भी पढ़ें

    बिहार में छिड़ा पोस्टर वार: अब RJD ने दिखाया गरीबों का राज Vs अपराधियों का राज

    बिहार विधान सभा चुनाव से पहले क्या मोदी सरकार में शामिल होने जा रही JDU?

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.