नीतीश के 'फेवरेट' अधिकारी के खिलाफ लोकसभा में लाया जाएगा विशेषाधिकार हनन प्रस्ताव, जानिए क्यों?

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की फाइल फोटो

बिहार बीजेपी अध्यक्ष डॉ. संजय जायसवाल (Dr. Sanjay Jaiswal) ने अब नीतीश सरकार (Nitish Government) के एक पुलिस अधिकारी शैशव यादव (Shaishav Yadav) के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. वह लोकसभा (Lok Sabha) में विशेषाधिकार हनन का प्रस्ताव लाने जा रहे हैं.

  • Share this:
पटना. बिहार बीजेपी अध्यक्ष डॉ. संजय जायसवाल (Dr. Sanjay Jaiswal) ने अब नीतीश सरकार (Nitish Government) के एक पुलिस अधिकारी शैशव यादव (Shaishav Yadav) के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. वह मोतिहारी पुलिस के खिलाफ लोकसभा (Lok Sabha) में विशेषाधिकार हनन का प्रस्ताव लाने जा रहे हैं. यह मामला 2019 लोकसभा चुनाव से जुड़ा है, जिसमें पोलिंग के दौरान मारपीट और मतदाताओं को धमकाने का आरोप था. इस घटना के बाद पुलिस ने दोनों पक्ष के ऊपर मामला दर्ज किया था. इस मामले को लेकर BJP के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल ने 23 अगस्त 2019 को बिहार के डीजीपी को पत्र लिखकर न्याय देने की बात कही थी, लेकिन उनके खिलाफ की वारंट जारी कर दिया गया. यही नहीं, जायसवाल ने खुद को पीड़ित बताते हुए लिखा है कि पीड़ित पक्ष को ही मोतिहारी के एक पुलिस के अधिकारी ने बिना पूछताछ के दोषी करार दिया, जो कि पूरी तरह से गलत है.

सांसद ने खुद को बताया पीड़ित
सांसद संजय जायसवाल ने खुद को पीड़ित बताया था और कहा था कि घटना को अंजाम देने वालों ने खुद को बचाने के लिए उन पर झूठा केस दर्ज करवा दिया है. बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल ने साफ किया था कि मैं लोकसभा चुनाव 2019 में भाजपा का प्रत्याशी था और 12 मई को वोटिंग के दिन शेखौना के लोगों ने फोन कर मुझे बताया कि बूथ संख्या 162 और 163 पर एक समुदाय विशेष के लोग वोटिंग से रोक रहे हैं और मारपीट कर रहे हैं. साथ ही पत्र में संजय जायसवाल ने कहा कि इसकी सूचना हमने तत्काल अधिकारियों और रिटर्निंग ऑफिसर की दी. फिर मैं उस बूथ पर पहुंचा तो देखा कि कई मतदाता घायल हैं.

भीड़ ने किया ये काम
संजय जायसवाल ने पत्र में आगे लिखा था कि जब वो गांव पहुंचे तो उग्र भीड़ ने उन्‍हें घेर लिया. पत्थरबाजी के बाद भीड़ मुझ पर लाठी से वार करने लगी. अगर हमारे बॉडीगार्ड फायरिंग नहीं करते तो मेरी हत्या कर दी जाती. यह सबकुछ घोड़ासहन थानेदार और पीठासीन पदाधिकारी के सामने हुआ. मई में घटित हुई इस घटना के बाद 8 दिसंबर को एक खबर आई कि मोतिहारी पुलिस ने बिहार BJP प्रदेश अध्यक्ष के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी कर दिया है. इस खबर के फैलते ही बिहार में राजनीति भी शुरू हो गयी.

Bihar BJP president Sanjay Jaiswal, Motihari, Shaishav Yadav, Lok Sabha privilege breach motion, Nitish Kumar, बिहार भाजपा अध्‍यक्ष संजय जायसवाल, मोतिहारी, शैशव यादव, लोकसभा, विशेषाधिकार हनन प्रस्ताव, नीतीश कुमार
बिहार BJP प्रदेश अध्यक्ष और सांसद संजय जायसवाल ने लोकसभा में उठाई न्‍याय की मांग.


विशेषाधिकार हनन का प्रस्ताव लाने की तैयारी
अब इस मामले को लेकर संसद में सत्तारूढ़ दल के मुख्य सचेतक, बिहार बीजेपी अध्यक्ष और बेतिया सांसद संजय जायसवाल ने विशेषाधिकार हनन का प्रस्ताव लाने की तैयारी शुरू कर दी है. इसके लिए उन्होंने लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला को चिट्टी भी लिखी है.
संजय जायसवाल ने लिखा है कि मेरे खिलाफ एक सोची समझी रणनीति के आधार पर तथा प्राकृतिक न्याय के सिद्धांत को पूर्ण रुप से धता बताकर मेरे साथ गलत कार्रवाई की जा रही है.


bihar bjp, nitish kumar

जबकि जायसवाल ने गिरफ्तारी वाली खबर को चरित्र हनन और प्रतिष्ठा धूमिल करने की साजिश करार दिया है. उन्होंने अपने फेसबुक पेज के जरिए भी मोतिहारी पुलिस की कार्यशैली पर सवाल खड़ा किया है.

बहरहाल, जायसवाल ने खुद को पीड़ित बताते हुए लिखा है कि पीड़ित पक्ष को ही मोतिहारी के एक पुलिस के अधिकारी ने बिना पूछताछ के ही दोषी करार दिया, जो कि पूरी तरह से गलत है. साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि यह कार्रवाई एक जनप्रतिनिधि का अपमान है. जाहिर है बिहार पुलिस के एक आईपीएस स्तर के अधिकारी के खिलाफ भाजपा प्रदेश अध्यक्ष का लोकसभा में विशेषाधिकार हनन का प्रस्ताव लाने से बिहार की राजनीति और भी तेज होगी.

ये भी पढ़ें-

पत्नी की प्रताड़ना से तंग आकर पति ने महिला हेल्प सेंटर में खाया जहर

तेजस्वी बोले- इधर-उधर मत कीजिए नीतीश जी, नहीं तो हम भी आपकी पार्टी तोड़ देंगे

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.