अपना शहर चुनें

States

बिहार बजट 2021-22 : कृषि और शिक्षा मद की बजट राशि में सरकार ने की भारी कटौती

बिहार के डिप्टी सीएम तार किशोर प्रसाद ने इस साल का बजट पेश किया. (फाइल फोटो)
बिहार के डिप्टी सीएम तार किशोर प्रसाद ने इस साल का बजट पेश किया. (फाइल फोटो)

सरकार ने वित्त वर्ष 2021-22 के लिए शिक्षा और कृषि क्षेत्र में जो बजट रखा, वह पिछले वित्त वर्ष की तुलना में कम हैं. शिक्षा मद में 13 हजार 252 करोड़ और कृषि मद में 619 करोड़ रुपये की कटौती की.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 22, 2021, 5:17 PM IST
  • Share this:
पटना. बिहार सरकार (Bihar Government) के वित्त मंत्री और डिप्टी सीएम तार किशोर प्रसाद (Finance Minister and Deputy CM Tar Kishore Prasad) ने आज विधानसभा में प्रदेश के लिए इस साल का बजट पेश कर दिया है. वित्त वर्ष 2021-22 के लिए पेश किए गए 2 लाख 18 हजार 303 करोड़ के बजट के दौरान वित्त मंत्री ने पिछले कुछ वर्षों में सरकार द्वारा विभिन्न योजनाओं के मद में खर्च का ब्योरा भी पेश किया.

कृषि मद में सरकार ने काटे 6542 करोड़ रुपये

आपको याद दिला दें कि बीते वित्त वर्ष यानी 2019-20 में 2 लाख 11 हजार 761 करोड़ का बजट पेश किया गया था, उसके मुकाबले इस वित्त वर्ष में 6542 करोड़ रुपये ज्यादा का बजट पेश किया गया है. लेकिन इसी के साथ ही विभिन्न मदों पर रखे गए बजट की तुलना पिछली बार के बजट से करने पर सरकार की नीति और नीयत दोनों का पता चलता है. सरकार कहती और मानती है कि बिहार में कृषि और कृषकों को बढ़ावा देने की जरूरत है. सत्ता का दावा है कि बिहार की एनडीए सरकार किसानों की हितैषी है. पर आज पेश हुए बजट में कृषि मद में जो राशि रखी गई है वह पिछले साल के बजट के मुकाबले कम है. वित्त वर्ष 2019-20 में कृषि के मद में बिहार सरकार ने 3 हजार 152 करोड़ रुपये का बजट रखा था. लेकिन उसने इस बार कृषि मद में 619 करोड़ रुपये की कटौती कर ली. वित्त वर्ष 2020-21 में सरकार ने कृषि मद में 2 हजार 533 करोड़ रुपये का बजट रखा है.



शिक्षा मद में की गई 13 हजार 252 करोड़ रुपये की कमी
बिहार में शिक्षा की स्थिति भी बेहद पिछड़ी हुई है. प्राथमिक विद्यालय से लेकर उच्च विद्यालयों तक के इन्फ्रास्ट्रकचर पर जबर्दस्त तरीके से काम करने की जरूरत है. लेकिन इस मद में भी सरकार ने पिछले वित्त वर्ष की तुलना में 13 हजार 252 करोड़ रुपये की कटौती कर दी है. आपको याद दिला दें कि वित्त वर्ष 2019-20 में सरकार ने शिक्षा मद में 35 हजार 191 करोड़ रुपये का बजट रखा था, लेकिन इस वित्त वर्ष में सरकार ने 13 हजार 252 करोड़ रुपये की कटौती करते हुए शिक्षा मद में महज 21 हजार 939 करोड़ रुपये का बजट रखा है.
साल                                               2021                                          2020
बजट का आकार                2 लाख 18 हजार 303 करोड़           2 लाख 11 हजार 761 करोड़
शिक्षा                                 21 हजार 939 करोड़                      35 हजार 191 करोड़
समाज कल्याण                   8 हजार 190 करोड़                        7 हजार 997 करोड़
स्वास्थ्य                              6 हजार 927 करोड़                        5 हजार 610 करोड़
पथ निर्माण                        4 हजार 410 करोड़                        5 हजार 581 करोड़
ग्रामीण विकास                  16 हजार 782 करोड़                      16 हजार 14 करोड़
ग्रामीण कार्य                      7 हजार 313 करोड़                        9 हजार 619 करोड़
नगर विकास एवं आवास     3 हजार 952 करोड़                       3 हजार 418 करोड़
जल संसाधन                      3 हजार 7 करोड़                           3 हजार करोड़
कृषि                                 2 हजार 533 करोड़                       3 हजार 152 करोड़
लोक स्वास्थ्य अभियंत्रण       2 हजार 492 करोड़                      5 हजार 351 करोड़
अन्य                                 22 हजार 451 करोड़                     23 हजार 456 करोड़
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज