लाइव टीवी

बिहार उपचुनाव: मुकाबला किसके बीच? एनडीए V/S महागठबंधन या महागठबंधन V/S महागठबंधन?

Deepak Priyadarshi | News18 Bihar
Updated: October 16, 2019, 7:03 PM IST
बिहार उपचुनाव: मुकाबला किसके बीच? एनडीए V/S महागठबंधन या महागठबंधन V/S महागठबंधन?
जीतनराम मांझी-मुकेश लहनी ने निकाली महागबंधन के एकता की हवा

बीजेपी-जेडीयू (BJP-JDU) ने जहां अपने कड़वाहटों को खत्म कर साथ में चुनाव प्रचार कर रहे हैं, वहीं महागठबंधन(Mahagathbandhan) की पार्टियां तो एक दूसरे की ओर देख तक नहीं रहीं.

  • Share this:
पटना. बिहार (Bihar Assembly election) की पांच सीटों और एक लोकसभा सीट (Lok Sabha) के लिए उपचुनाव (By-election) को लेकर चंद दिन ही बचे हैं. ऐसे में सभी पार्टियां जोर-शोर से चुनाव प्रचार में लगी हैं. एनडीए में भले ही कुछ दिनों पहले बीजेपी-जेडीयू के बीच जमकर शोर मचा लेकिन अब दोनों ही एकजुट होकर चुनाव प्रचार में जुटे हैं. हालांकि महागठबंधन में पहले भी घमासान मचा था और अभी भी घमासान ही मचा है.

बिहार महागठबंधन में अब कुछ बचा नहीं है
12 अक्टूबर को लोहिया जयंती के दिन पांचों पार्टियों के नेताओं ने एक दूसरे का हाथ थामकर एकता दिखाने की कोशिश तो की, लेकिन यह एकता अगले दिन ही तब तार-तार हो गई, जब भागलपुर जाकर जीतनराम मांझी और मुकेश सहनी, तेजस्वी यादव पर जमकर बरसे. साथ ही नाथनगर से 'हम' ने और सिमरी बख्तियारपुर से वीआईपी ने आरजेडी के पक्ष में उम्मीदवार हटाने से साफ इनकार कर दिया. इससे यह तो साफ हो गया कि बिहार महागठबंधन में अब कुछ बचा नहीं है. लेकिन सवाल यह है कि उपचुनाव की यह लड़ाई एनडीए V/S महागठबंधन है या फिर महागठबंधन V/S महागठबंधन?

दरक गई महागठबंधन में एकता की दीवार

बिहार में एनडीए का मुकाबला करने के लिए महागठबंधन की बड़ी-बड़ी तस्वीर दिखाई गयी थी, जिसमें आरजेडी, कांग्रेस, हम, RLSP और वीआईपी जैसी पांच पार्टी शामिल थीं. लोकसभा चुनाव में लगा कि भले ही मोदी लहर हो, लेकिन बिहार में महागठबंधन कुछ सीट तो जीतेगी ही. लेकिन परिणाम 39-1 का होगा, इसकी कल्पना तो राजनीतिक पंडितों ने भी नहीं की थी. इस परिणाम से महागठबंधन में एकता की दीवार दरक गयी. सारी पार्टियां तितर-बितर हो गयीं.

जीतनराम मांझी और मुकेश लहनी ने किया कुछ ऐसा
महागठबंधन के नेता गायब हो गए. जब उपचुनाव की बारी आयी तो लगा कि फिर से सभी एक साथ मिलेंगे और मुकाबले के लिए खड़े होंगे. लेकिन उससे पहले ही अपने-अपने उम्मीदवार मैदान में उतारकर आरजेडी और हम जैसी पार्टियों के बीच खटास बढ़ गयी थी. काफी जद्दोजहद के बाद सभी पार्टियों के दिग्गज नेता 12 अक्टूबर को लोहिया जयंती के बहाने एक मंच पर मिले. दूरियां तो थी, लेकिन फिर भी सभी ने एक दूसरे का हाथ थामकर एकता का संदेश देने की कोशिश की. लेकिन अगले ही दिन जीतनराम मांझी और मुकेश लहनी ने एक एकता की हवा निकाल दी.
Loading...

दोनों ने पहले तेजस्वी पर भेदभाव करने का आरोप लगाया और नाथ नगर से हम और सिमरी बख्तियारपुर से वीआईपी ने अपने अपने उम्मीदवार चुनावी मैदान से हटाने से मना कर दिया. मतलब साफ था कि इन दोनों ही सीटों पर आरजेडी को एनडीए के साथ अपने तथाकथित दोस्तों से भी दो-दो हाथ करना पड़ेगा.

बीजेपी-जेडीयू दोनों कर रहीं हैं एकदूसरे के लिए प्रचार
चूंकि अब समय कम बचा है तो सभी ने प्रचार के लिए पूरी ताकत झोंक दी है. बीजेपी जेडीयू के बीच कड़वाहट आई जरूर, लेकिन दोनों चुनाव ने मिलकर प्रचार कर रहे हैं. यानि जेडीयू के लिए बीजेपी प्रचार कर रही है तो बीजेपी के लिए जेडीयू. और ये दोनों मिलकर समस्तीपुर लोकसभा सीट पर एलजेपी के पक्ष में प्रचार कर रहे हैं. 17 अक्टूबर को तो नीतीश कुमार किशनगंज भी जाएंगे, जहां बीजेपी ने अपने उम्मीदवार उतारे हैं, साथ ही समस्तीपुर भी जाएंगे, जहां एलजेपी के उम्मीदवार हैं.

एक दूसरे की तरफ देख नहीं रहीं महागठबंधन की पार्टियां
बीजेपी से सुशील मोदी, नंदकिशोर यादव, नित्यानंद राय जैसे नेता जेडीयू की सीटों पर भी प्रचार कर रहे हैं. लेकिन महागठबंधन की पार्टियां तो एक दूसरे की तरफ देख तक नहीं रहीं. कोई एक दूसरे के पक्ष में प्रचार करने भी नहीं जा रहा. आरजेडी अपने उम्मीदवार के लिए, कांग्रेस अपने उम्मीदवार के लिए तो हम और वीआईपी अपने उम्मीदवार के लिए लगे हुए हैं.

जाहिर है कि महागठबंधन में अभी जो हालात बने हैं तो इस उपचुनाव का असर आने वाले दिनों के रिश्तों और चुनावों पर भी पड़ेगा. यानि जब पांच सीटों पर इतनी रार है तो जब 2020 के लिए 243 सीटों की जब बारी आएगी, तब इन पार्टियों का क्या हाल होगा.

ये भी पढ़ें:

गिरिराज सिंह ने सुन्नी वक्फ बोर्ड का इस कदम के लिए किया धन्यवाद

'जनभावनाओं को देखते हुए आएगा SC का फैसला, अयोध्या में ही बनेगा राम मंदिर'

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 16, 2019, 4:38 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...