लाइव टीवी

बिहार कैबिनेट का फैसला: टैक्स डिफॉल्टर वाहनों के लिए 'सर्वक्षमा' योजना, 6 दिनों में बनेंगे जन्म-मृत्यु प्रमाण पत्र

News18 Bihar
Updated: November 14, 2019, 7:37 AM IST
बिहार कैबिनेट का फैसला: टैक्स डिफॉल्टर वाहनों के लिए 'सर्वक्षमा' योजना, 6 दिनों में बनेंगे जन्म-मृत्यु प्रमाण पत्र
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अध्यक्षता में हुई बिहार कैबिनेट की बैठक में 7 प्रस्तावों को मंजूरी दी गई. (फाइल फोटो)

बिहार (Bihar) में अब जन्म और मृत्यु प्रमाण पत्र महज छह दिन में बनाए जा सकेंगे. इस सेवा को भी सरकार लोक सेवाओं के अधिकार अधिनियम (RTPS) के दायरे में ला दिया गया है.

  • Share this:
पटना. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) की अध्यक्षता में बुधवार को बिहार कैबिनेट (Bihar Cabinet) की बैठक में सात प्रस्तावों पर मुहर लगाई गई. इसमें गया से बहने वाली धार्मिक महत्व की फल्गु नदी (Falgu River ) को सालों भर लबालब रखने का निर्णय लिया गया. वहीं, टैक्स डिफॉल्टर, कॉमर्शियल-नॉन कॉमर्शियल वाहनों के साथ ही कृषि कार्यों में उपयोग होने वाले वाहनों के मालिकों को सरकार ने बड़ी राहत देने का फैसला किया है. इसके तहत टैक्स डिफॉल्टर (Tax Defaulter)  रजिस्टर्ड या नॉन रजिस्टर्ड ट्रैक्टर-ट्रॉली जो खेती या फिर कॉमर्शियल कार्यो में उपयोग में लाए जाते हैं, उनके लिए सरकार ‘सर्वक्षमा’ योजना लाने जा रही है.

डिफॉल्टर वाहनों के लिए योजना

कैबिनेट के प्रधान सचिव डॉ. दीपक प्रसाद ने बताया कि सर्वक्षमा योजना के तहत परिवहन विभाग जुर्माना, फीस या एकमुश्त भुगतान करने पर विशेष छूट दी जाएगी. इसी तरह जिन्हें टैक्स डिफॉल्टर हुए एक वर्ष से अधिक का समय हो चुका है, वैसे वाहन मालिकों द्वारा बकाया टैक्स के अलावा 50 प्रतिशत जुर्माना देने पर वाहन को निबंधित और नियमित कर दिया जाएगा. इसके साथ ही सरकार नीलामी पत्र भी वापस ले लेगी. प्रधान सचिव ने बताया कि दो पहिया, तीन पहिया और चार पहिया व्यावसायिक और निजी वाहनों को (जो फिटनेस की वजह से डिफॉल्टर हुए हैं) भी सर्वक्षमा योजना के तहत लाभ दिया जाएगा.

फिटनेस विलंब शुल्क भी घटा
सरकार ने फिटनेस प्रमाणपत्र की वैधता समाप्त होने पर विलंब के प्रत्येक दिन 50 रुपये के हिसाब से ली जाने वाली अतिरिक्‍त फीस घटा दी है. इसके बाद 90 दिनों के लिए दोपहिया और तिपहिया वाहन के लिए 10 रुपए प्रतिदिन, व्यावसायिक ट्रैक्टर के लिए 15 रुपए प्रतिदिन, छोटे चारपहिया परिवहन वाहन के लिए 20 रुपए प्रतिदिन और भारी व्यावसायिक वाहन या अन्य वाहनों के लिए 30 रुपए प्रतिदिन निर्धारित किया गया है. यह योजना 90 दिनों के लिए ही प्रभावी होगी

सालों भर लबालब रहेगी फल्गुगया से बहने वाली फल्गु नदी को अब सालों भर लबालब रखने की योजना पर सरकार काम कर रही है. इसके लिए कैबिनेट की बैठक में 1.50 करोड़ रुपये की मंजूरी दी गई. इस राशि से जल संसाधन विभाग परामर्शी सेवा के सहयोग से डीपीआर तैयार कराएगा.

छह दिनों में बनेंगे जन्म-मृत्यु प्रमाणपत्र
बिहार में अब जन्म और मृत्यु प्रमाण पत्र महज छह दिन में बनाए जा सकेंगे. इस सेवा को भी सरकार लोक सेवाओं के अधिकार अधिनियम (आरटीपीएस) के दायरे में लाया गया है. नई सेवा के जुड़ने के साथ ही आरटीपीएस के तहत अब कुल 61 तरह की सेवाएं मिल सकेंगी. प्रधान सचिव डॉ. दीपक प्रसाद ने बताया कि जन्म और मृत्यु प्रमाणपत्र प्रखंड स्तर पर प्रखंड सांख्यिकी पर्यवेक्षक जारी करेंगे.

होमगार्ड के परिजनों को भी अनुग्रह अनुदान 
डॉ. दीपक प्रसाद ने बताया कि अब तक सरकारी कार्यालयों में तैनात होमगार्ड जवान के परिजन को ही मृत्यु की स्थिति में यह अनुदान मिलता था, लेकिन अब राज्य सरकार के कार्यालयों के अलावा दूसरे संस्थानों में तैनात जवानों के परिजन को भी चार लाख रुपये का अनुदान मिल सकेगा.

वन निगम की संपत्ति का होगा बंटवारा
मंत्रिमंडल ने बिहार राज्य वन विकास निगम लिमिटेड की संपत्ति, दायित्वों और कर्मचारियों का बंटवारा बिहार और झारखंड के बीच समान रूप से करने का प्रस्ताव स्वीकृत किया है. संपत्ति बंटवारे के लिए दोनों राज्यों के मुख्यसचिव स्तर पर बैठक होगी, इसके बाद ही इस पर अंतिम सहमति बनेगी.

स्वास्थ्य संस्थानों के सहमति शुल्क में बदलाव
मेडिकल कॉलेज अस्पताल से लेकर प्राथमिक और अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों को अब तक सहमति शुल्क अस्पताल की लागत के अनुपात में लिया जाता था. अब सरकारी अस्पतालों के मामले में एक निर्धारित शुल्क अदा करना होगा, जबकि प्राइवेट अस्पतालों को उनकी लागत के अनुसार ही शुल्क चुकाना होगा. इसके तहत सरकारी मेडिकल कॉलेज अस्‍पताल के लिए 90 हजार, जिला और अनुमंडल अस्पताल के लिए 60 हजार प्राथमिक और अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के लिए नौ हजार रुपये चुकाने होंगे. यह पांच वर्ष के लिए मान्य होगा. इसके बाद अगले पांच वर्ष के लिए यही शुल्क दोबारा चुकाना होगा.



News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 14, 2019, 7:07 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर