अपना शहर चुनें

States

जब दोनों डिप्टी CM की मौजूदगी में नीतीश कुमार ने त्याग दी VIP कुर्सी, पढ़ें पूरी कहानी

पटना में कार्यक्रम के दौरान खाली पड़ी नीतीश कुमार की कुर्सी (लाल घेरे में)
पटना में कार्यक्रम के दौरान खाली पड़ी नीतीश कुमार की कुर्सी (लाल घेरे में)

Patna News: नीतीश कुमार पटना में जल, जीवन, हरियाली के तहत एक कार्यक्रम में भाग ले रहे थे. उसी वक्‍त वह VIP कुर्सी से उठे और अपने लिए छोटी चेयर मंगाई.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 6, 2021, 2:06 PM IST
  • Share this:
पटना. बिहार की राजधानी पटना में चल रहे सरकारी कार्यक्रम के दौरान एक अनोखा नजारा देखने को मिला. कार्यक्रम में मौजूद सीएम नीतीश कुमार ने अपनी कुर्सी हटा कर सबसे छोटी कुर्सी मंगाई और उस पर बैठे. इसे देख उसी कार्यक्रम में मौजूद डिप्टी सीएम सहित नेता भी चौंक गए. कुर्सी प्रकरण को लेकर सीएम नीतीश कुमार ने सादगी का परिचय देते हुए मजबूत संदेश भी दिया.

पटना में मंगलवार को जल जीवन हरियाली कार्यक्रम चल रहा था. इस दौरान बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जब अचानक कुर्सी छोड़ कर उठ गए तो लोग भौंचक्के रह गए. नीतीश कुमार ने अपनी कुर्सी बदल कर सबसे छोटी कुर्सी मंगाई और उस पर बैठकर कार्यक्रम का उद्घाटन किया. दरअसल, घटना तब हुई जब जल जीवन हरियाली के तहत कोरोना के बाद पहली बार अधिवेशन भवन में बड़े कार्यक्रम में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार शामिल हुए थे.





नीतीश के साथ मौजूद थे दोनों डिप्टी सीएम
इस कार्यक्रम में बीजेपी नेता और डिप्टी सीएम तार किशोर प्रसाद, रेणु देवी, ग्रामीण विकास मंत्री विजय चौधरी सहित सभी विभागों के प्रधान सचिव भी मौजूद थे. मंच पर लगाई गई कुर्सियों में नीतीश कुमार की कुर्सी सबसे बड़ी और ऊंची थी. नीतीश कुमार जब इस कुर्सी पर बैठे तो खुद को उन्होंने असहज महसूस किया. इसके बाद तत्काल वो कुर्सी से उठकर खड़े हो गए. नीतीश कुमार ने वहां मौजूद सबसे छोटी कुर्सी मंगाई और ओर कार्यक्रम इसी पर बैठकर चर्चा में भाग लिया.

नीतीश ने दिए संकेत
नई सरकार बनने के बाद से ही बीजेपी और जेडीयू के बीच के रिश्तों पर सवाल उठते रहे हैं. एक तरफ जहां तीसरे नंबर की पार्टी होने पर विरोधी सवाल खड़े करते रहे हैं तो वहीं अरुणाचल प्रदेश में जेडीयू के 6 विधायकों को तोड़कर बीजेपी में शामिल होने पर हंगामा मचा था. नीतीश कुमार ने साफ शब्दों में कहा था कि वो कभी मुख्यमंत्री की कुर्सी पर नहीं बैठना चाहते थे. उन्होंने कहा था कि मुझे कुर्सी से प्यार नहीं, काम करना चाहता हूं. ऐसे में पटना के बड़े कार्यक्रम में एक बार फिर नीतीश ने अपने सधे हुए अंदाज से सादगी का परिचय देते हुए बताने की कोशिश की है कि कुर्सी उनके लिए मायने नहीं रखती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज