युवाओं को सुशील मोदी का मंत्र, 'समस्या पैदा करने वाला नहीं, समाधान ढूंढने वाला बनें'

आईएएनएस
Updated: September 13, 2017, 10:39 PM IST
युवाओं को सुशील मोदी का मंत्र, 'समस्या पैदा करने वाला नहीं, समाधान ढूंढने वाला बनें'
PTI Image (File)
आईएएनएस
Updated: September 13, 2017, 10:39 PM IST
बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने राज्य के युवाओं से अपील करते हुए कहा कि युवा समस्या पैदा करनेवाले नहीं, बल्कि समस्याओं के समाधान करनेवाले बनें. बिहार में पहली बार आयोजित 'हैकाथन-2017' के उद्घाटन समारोह को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, 'आज बहुत सारे नौजवान बड़ी-बड़ी कंपनियों की नौकरियां छोड़कर स्टार्टअप से जुड़ रहे हैं.'

सुशील मोदी ने युवाओं के अपने संबोधन में कहा कि हैकाथन के तहत अलग-अलग विभागों की समस्याओं को एकत्र कर उसके समाधान के लिए आईटी विशेषज्ञों के बीच चुनौतियां रखी गई हैं. दरअसल यह स्टार्टअप का पहला कदम है.

इससे पूर्व बीआईटी, मेसरा के पटना कैंपस में आयोजित दो दिवसीय आईटी कनक्लेव 'हैकाथन-2017' का उद्घाटन किया गया. इस समारोह को आईटी विभाग के सचिव राहुल सिंह और बीआईटी, पटना के निदेशक वी़ क़े सिंह ने भी संबोधित किया.

उपमुख्यमंत्री ने युवाओं का आह्वान करते हुए कहा कि वे नए विचारों और कल्पनाशीलता के साथ आएं और आईटी के माध्यम से बिहार की समस्याओं का समाधान करें. स्टार्टअप के लिए राज्य सरकार युवाओं को दो लाख रुपये तक पूंजीगत सहायता उपलब्ध कराएगी. इसके अलावा भारत सरकार या अन्य एजेंसियों से प्राप्त अनुदान के बराबर उन्हीं शर्तो के आधार पर राज्य सरकार भी सहायता प्रदान करेगी.

इस मौके पर उपमुख्यमंत्री बिहार में प्रत्येक साल 'हैकाथन' का आयोजन करने की घोषणा की. उन्होंने कहा कि आनेवाले दिनों में आईटी के क्षेत्र में बिहार भी देश के किसी राज्य से पीछे नहीं रहेगा. आईटी प्रक्षेत्र को इस तरह से विकसित किया जाएगा कि यहां के युवकों को कहीं बाहर जाने के लिए विवश न होना पड़े.

उन्होंने कहा कि युवा आईटी के जरिए बिहार की बाढ़ की समस्या के समाधान से लेकर कृषि उत्पादकता बढ़ाने और विभिन्न सेवा प्रक्षेत्रों की 'डिलिवरी सिस्टम' को बेहतर बनाने में सहयोग करें. उन्होंने कहा कि आईटी के माध्यम से ही राज्य के विकास को गति दी जा सकती है.
First published: September 13, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर